Sanskrit Blogs

LEO Write Place Catalogue - St. Cloud State University

Write My Paper Co. delivers custom premium quality essays, research papers and term papers. On demand essay writing service for college students.
Categories: Sanskrit Blogs

Sample APA Research Paper - Write Source

Back Student Learning Tools Freedom of speech is established to achieve its essential purpose only when different opinions are expounded in the same hall to the same
Categories: Sanskrit Blogs

Hoping - definition of hoping by The Free Dictionary

Types of Words: Little Explorers Picture Dictionary. is a user-supported site. As a bonus, site members have access to a banner-ad-free
Categories: Sanskrit Blogs

Role of media in democracy short essay about life

Democracy is not only a form of government but also a way of life. Defined by Abraham Lincoln as the government of people, for the people and by the people, it is a
Categories: Sanskrit Blogs

EMBODYING THE VEDAS

Sanskrit Net Loka - Tue, 04/04/2017 - 23:04
Categories: Sanskrit Blogs

कृष्णयजुर्वेदीयः शान्तिमन्त्रः

उपनिषदध्ययनम् - Tue, 03/21/2017 - 07:18

कृष्णयजुर्वेदीयः शान्तिमन्त्रः कठ-तैत्तिरीय-नारायण-कैवल्य-ब्रह्मबिन्दु-उपनिषदाम्

ॐ सह नाववतु | सह नौ भुनक्तु | सह वीर्यं करवावहै | तेजस्वि नावधीतमस्तु | मा विद्विषावहै |

॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

This शान्तिमन्त्रः is from कृष्णयजुर्वेद and is to be recited with कठ, तैत्तिरीय, नारायण, कैवल्य and ब्रह्मबिन्दु उपनिषद-s. I had studied this more than 6 years back, which can be viewed here. Studying the मन्त्र again may bring forth newer thoughts.

(1) सन्धिविच्छेदैः ⇒ ॐ सह नौ अवतु | सह नौ भुनक्तु | सह वीर्यं करवावहै | तेजस्वि नौ अधीतम् अस्तु | मा विद्विषावहै ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

(2) शब्दाभ्यासाः Study of words. I would like to copy-paste many words are common to ऋग्वेदीयः शान्तिमन्त्रः and शुक्लयजुर्वेदीयः शान्तिमन्त्रः  Copy-pasting them here would make this study complete by itself.  

(2-1) ॐ ⇒

  • In Apte’s dictionary ओम् ind. 1 The sacred syllable om, uttered as a holy exclamation at the beginning and end of a reading of the Vedas, or previous to the commencement of a prayer or sacred work. -2 As a particle it implies (a) solemn affirmation and respectful assent (so be it, amen !); (b) assent or acceptance (yes, all right); ओमित्युच्यताममात्यः Māl.6; ओमित्युक्तवतो$थ शार्ङ्गिण इति Śi. 1.75; द्वितीयश्चेदोमिति ब्रूमः S. D.1; (c) command; (d) auspiciousness; (e) removal or warding off. -3 Brahman. [This word first appears in the Upaniṣads as a mystic monosyllable, and is regarded as the object of the most profound religious meditation. In the Maṇḍūkya Upaniṣad it is said that this syllable is all what has been, that which is and is to be; that all is om, only om. Literally analysed, omis taken to be made up of three letters or quarters; the letter a is Vaiśvānara, the spirit of waking souls in the waking world; u is Taijasa, the spirit of dreaming souls in the world of dreams; and m is Prajñā, the spirit of sleeping and undreaming souls; and the whole om is said to be unknowable, unspeakable, into which the whole world passes away, blessed above duality; (for further account see Gough’s Upaniṣads pp.69-73). In later times om came to be used as a mystic name for the Hindu triad, representing the union of the three gods a (Viṣṇu), u (Śiva), and m (Brahmā). It is usually called Praṇava or Ekakṣaram; cf. अकारो विष्णुरुद्दिष्ट उकारस्तु महेश्वरः । मकारेणोच्यते ब्रह्मा प्रणवेन त्रयो मताः ॥ -Comp. -कारः 1 the sacred syllable ओम्; त्रिमात्रमोकारं त्रिमात्रमोंकारं वा विदधति Mbh.VIII.2.89. -2 the exclamation ओम्, or pronunciation of the same; प्राणायामैस्त्रिभिः पूतस्तत ओंकारमर्हति Ms.2.75. -3 (fig.) commencement; एष तावदोंकारः Mv.1; B. R.3.78. -रा N. of a Buddhist śakti (personification of divine energy).
  • No dictionary can give ‘meaning’ of Om. One has to experience it oneself, maybe, experience it best by ॐ-कार-ध्यानम्, which is said to be benevolent and beneficent in many ways. 

(2-2) सह

  • सह ind. 1 With, together with, along with, accompanied by (with instr.); शशिना सह याति कौमुदी सह मेघेन तडित् प्रलीयते Ku.4.33. -2 Together, simultaneously, at the same time; अस्तोदयौ सहैवासौ कुरुते नृपतिर्द्विषाम् Subhāṣ. (The following senses are given of this word:– साकल्य, सादृश्य, यौगपद्य, विद्यमानत्व, समृद्धि, संबन्ध and सामर्थ्य.)

(2-3) नौ ⇒ अस्मद्-सर्वनाम्नः पर्यायीणि द्विवचनीयानि रूपाणि

  • द्वितीयायाम् – आवाम् / नौ 
  • चतुर्थ्याम् – आवाभ्याम् / नौ 
  • षष्ठ्याम् – आवयोः / नौ  

(2-4) अवतु ⇒ अव्-इति धातुः | अवँ रक्षण-गति-कान्ति-प्रीति-तृप्त्यवगम(तृप्ति-अवगम)-प्रवेश-श्रवण-स्वाम्यर्थ(स्वामी-अर्थ)-याचन-क्रियेच्छा(क्रिया-इच्छा)-दीप्त्यवाप्त्यालिङ्गन(दीप्ति-अवाप्ति-आलिङ्गन)-हिंसा-दान-भाग-वृ॒द्धिषु So many shades of meaning ! अत्र लोटि (आज्ञार्थे) प्रथमपुरुषे एकवचनम् |

  • अव् 1 P. [अवति, आव, आवीत्, अविष्यति, अवितुम्, अवित or ऊत] 1 To protect, defend; सह नाववतु Tait 2.1.1. यमवता- मवतां च धुरि स्थितः R.9.1; प्रत्यक्षाभिः प्रपन्नस्तनुभिरवतु वस्ता- भिरष्टाभिरीशः Ś.1.1. -2 To please, satisfy, give pleasure to; do good to; विक्रमसेन मामवति नाजिते त्वयि R.11.75; न मामवति सद्वीपा रत्नसूरपि मेदिनी. 1.65. -3 To like, wish, desire, love. -4 To favour, promote, animate. (In the Dhātu- pāṭha several other meanings are assigned to this root, but they are very rarely used in classical literature; e. g. गति, कान्ति, अवगम, प्रवेश, श्रवण, स्वाम्यर्थ or सामर्थ्य, याचन, क्रिया, दीप्ति, अवाप्ति, ग्रहण, व्याप्ति,आलिङ्गन, हिंसा, आदान, दहन, भाव, भाग, and वृद्धि). -Caus. To consume, devour. -With अनु to encourage, inspire. -उद् 1 to regard, attend to. -2 to wait for. -3 to promote, impel. -उप 1 to cherish, behave friendly towards. -2 to encourage. -सम् 1 to satisfy, satiate. -2 to protect, maintain. [cf. L. aveo].
  • अत्र लोटि (आज्ञार्थे) प्रथमपुरुषे एकवचनम् |

(2-5) भुनक्तु ⇒ भुज् इति धातुः |

  • भुज् I. 6 P. (भुजति, भुग्न) 1 To bend. -2 To curve, make crooked. -II. 7 U. (भुनक्ति-भुङ्क्ते, भुक्त) 1 To eat, devour, consume (Ātm.); शयनस्थो न भुञ्जीत Ms.4.74;3.146; Bk. 14.92; हत्वार्थकामांस्तु गुरूनिहैव भुञ्जीय भोगान् रुधिरप्रदिग्धान् Bg. 2.5. -2 To enjoy, use, possess (property, land &c.); संप्रीत्या भुज्यमानानि न नश्यन्ति कदाचन Ms.8.146;Y.2.24. -3 To enjoy carnally (Ātm.); सदयं बुभुजे महाभुजः R.8.7; 4.7;15.1;18.4; सुरूपं वा कुरूपं वा पुमानित्येव भुञ्जते Ms. 9.14. -4 To rule, govern, protect, guard (Paras.); राज्यं न्यासमिवाभुनक् R.12.18; एकः कृत्स्नां (धरित्रीं) नगरपरिघ- प्रांशुबाहुर्भुनक्ति Ś2.16. -5 To suffer, endure, experi- ence; वृद्धो नरो दुःखशतानि भुङ्क्ते Sk. -6 To pass, live through (as time). -7 (In astr.) To pass through, fulfil. -Pass. 1 To be enjoyed or eaten. -2To be possessed. -3 To be brought under the influence of. -Caus. (भोजयति-ते) To cause to eat, feed with. -Desid. (बुभुक्षति-ते) To wish to eat &c.
  • अत्र रुधादिः (सप्तमगणीयः) परस्मैपदी च | तस्य लोटि (आज्ञार्थे) प्रथमपुरुषे एकवचनम् |

(2-6) वीर्यम् ⇒ वीर्यम् [वीर्-यत्, वीरस्य भावो यत् वा] 1 Heroism, prowess, valour; वीर्यावदानेषु कृतावमर्षः Ki.3.43; R.2.4, 3.62;11.72; Ve.3.3. -2 Vigour, strength. -3 Virility; वीर्यशौर्याभ्यां च पिता ऋषभ इतीदं नाम चकार Bhāg.5.4.2. -4 Energy, firmness, courage. -5 Power, potency; जाने तपसो वीर्यम् Ś.3.2. -6 Efficacy (of medicines); अतिवीर्यवतीव भेषजे बहुरल्पीयसि दृश्यते गुणः Ki.2.4; Ku.2. 48. -7 Semen virile; अमी हि वीर्यप्रभवं भवस्य Ku.3.15; वसोर्वीर्योत्पन्नामभजत मुनिर्मत्स्यतनयाम् Pt.4.5. -8 Splendour, lustre. -9 The seed of plants. -10 Dignity, consequence. -11 Poison. -12 Gold (हिरण्य); अन्नं वीर्यं ग्रहीतव्यं प्रेतकर्मण्यपातिते Mb.12.165.39.

  • The etymology वीर्-यत् suggests that the धातु is वीर् (वि + ईर्), where ईर् 2 Ā. (इर्ते, ईराञ्चक्रे, ऐरिष्ट, ईरितुम्, ईर्ण); also 1 P. (p. p. ईरित) 1 To go, move, shake (trans. also). -2 To rise, arise or spring from. -3 To go away, retire. -4 To agitate, elevate; raise one’s voice. -1 U. or -Caus. (ईरयति, ईरित) 1 To agitate, throw, cast; Śi.8. 39; discharge, dart, hurl; ऐरिरच्च महाद्रुमम् Bk.15.52; R.15.2. -2 To excite, prompt, urge; क्षेमंकरे$र्थे मुहुरीर्यमाणः Bk.12.6. -3 To cause to rise, produce. -4 To utter, pronounce, proclaim, say, repeat; Māl.1.25; इतीर- यन्तीव तया निरैक्षि N.14.21; Śi.9.69; Ki.1.26; R.9.8; निबोध चेमां गिरमीरितां मया. -5 To cause to go, set in motion, move, shake; वातेरितपल्लवाङ्गुलिभिः Ś.1; अपरागसमीरणेरितः Ki.2.5; Śi.8.2. -6 To draw towards, attract; उद्धतैरिव परस्परसङ्गादीरितान्युभयतः कुचकुम्भैः Śi.1.32. -7 To employ, use. -8 To bring to life, revive. -9 To elevate. -To raise oneself (Ā).

(2-7) करवावहै ⇒ धातु is कृ which is detailed in धातुपाठ as (1) कृञ् करणे | भ्वा. उ. (2) कृञ् हिंसायाम् | स्वा. उ. (3) डुकृञ् करणे | त. उ. |

  • In Apte’s dictionary कृ I. 5 U. (कृणोति-कृणुते) To hurt, injure, kill. -II. 8 U. (करोति-कुरुते, चकार-चक्रे, अकार्षीत्-अकृत; कर्तुम्, करिष्यति-ते कृत) 1 To do (in general); तात किं करवाण्यहम् -2 To make; गणिकामवरोधमकरोत् Dk; नृपेण चक्रे युवराजशब्दभाक् R.3.35; युवराजः कृतः &c. -3 To manufacture, shape, prepare; कुम्भकारो घटं करोति; कटं करोति &c. -4 To build, create; गृहं कुरु; सभां कुरु मदर्थे भोः. -5 To produce, cause, engender; रतिमुभयप्रार्थना कुरुते Ś.2.1. -6 To form, arrange; अञ्जलिं करोति; कपोतहस्तकं कृत्वा. -7 To write, compose; चकार सुमनोहरं शास्त्रम् Pt.1. -8 To perform, be engaged in; पूजां करोति. -9 To tell, narrate; इति बहुविधाः कथाः कुर्वन् &c. -1 To carry out, execute, obey; एवं क्रियते युष्मदादेशः Māl.1; or करिष्यामि वचस्तव or शासनं मे कुरुष्व &c. -11 To bring about, accomplish, effect; सत्सं- गतिः कथय किं न करोति पुंसाम् Bh.2.23. -12 To throw or let out, discharge, emit; मूत्रं कृ to discharge urine, make water; so पुरीषं कृ to void excrement. -13 To assume, put on, take; स्त्रीरूपं कृत्वा; नानारूपाणि कुर्वाणः Y.3. 162. -14 To send forth, utter; मानुषीं गिरं कृत्वा, कलरवं कृत्वा &c. -15 To place or put on (with loc.); कण्ठे हारम- करोत् K.212; पाणिमुरसि कृत्वा &c. -16 To entrust (with some duty), appoint; अध्यक्षान् विविधान्कुर्यात्तत्र तत्र विपश्चितः Ms.7.81. -17 To cook (as food) as in कृतान्नम्. -18 To think, regard, consider; दृष्टिस्तृणीकृतजगत्त्रयसत्त्वसारा U.6. 19. -19 To take (as in the hand); कुरु करे गुरुमेकमयोघनं N.4.59. -2 To make a sound, as in खात्कृत्य, फूत्कृत्य भुङ्क्ते; so वषट्कृ, स्वाहाकृ &c. -21 To pass, spend (time); वर्षाणि दश चक्रुः spent; क्षणं कुरु wait a moment. -22 To direct towards, turn the attention to, resolve on; (with loc. or dat.); नाधर्मे कुरुते मनः Ms.12.118; नगरगमनाय मतिं न करोति Ś.2. -23 To do a thing for another (either for his advantage or injury); प्राप्ताग्निनिर्वापणगर्वमम्बु रत्नाङ्- कुरज्योतिषि किं करोति Vikr.1.18; यदनेन कृतं मयि, असौ किं मे करिष्यति &c. -24 To use, employ, make use of; किं तया क्रियते धेन्वा Pt.1. -25 To divide, break into parts (with adverbs ending in धा); द्विधा कृ to divide into two parts; शतधा कृ, सहस्रधा कृ &c. -26 To cause to become subject to, reduce completely to (a particular condition, with adverbs ending in सात्); आत्मसात् कृ to subject or appropriate to oneself; दुरितैरपि कर्तुमात्मसात्प्रयतन्ते नृपसूनवो हि यत् R.8.2; भस्मसात् कृ to reduce to ashes. -27 To appropriate, secure for oneself. -28 To help, give aid. -29 To make liable. -3 To violate or outrage (as a girl). -31 To begin. -32 To order. -33 To free from. -34 To proceed with, put in practice. -35 To worship, sacrifice. -36 To make like, consider equal to, cf. तृणीकृ (said to be Ātm. only in the last 1 senses). -37 To take up, gather; आदाने करोतिशब्दः Ms.4.2.6; यथा काष्ठानि करोति गोमयानि करोति इति आदाने करोतिशब्दो भवति एवमिहापि द्रष्टव्यम् ŚB. on MS.4.2.6. This root is often used with nouns, adjectives, and indeclinables to form verbs from them, somewhat like the English affixes ‘en’ or ‘(i) fy’, in the sense of ‘making a person or thing to be what it previously is not’; e. g. कृष्णीकृ to make that which is not already black, black, i. e. bla- cken; so श्वेतीकृ to whiten; घनीकृ to solidify; विरलीकृ to rarefy &c. &c. Sometimes these formations take place in other senses also; e. g. क्रोडीकृ ‘to clasp to the bosom’, embrace; भस्मीकृ to reduce to ashes; प्रवणीकृ to incline, bend; तृणीकृ to value as little as straw; मन्दीकृ to slacken, make slow; so शूलीकृ to roast on the end of pointed lances; सुखीकृ to please’ समयाकृ to spend time &c. N. B.- This root by itself admits of either Pada; but it is Ātm. generally with prepositions in the following senses :–(1) doing injury to; (2) censure, blame; (3) serving; (4) outraging, acting violently or rashly; (5) preparing, changing the condition of, turning into; (6) reciting; (7) employing, using; see P.I.3.32 and गन्धनावक्षेपणसेवनसाहसिक्यप्रतियत्नप्रकथनोपयोगेषु कृञः ”Stu- dents’ Guide to Sanskrit Composition” 338. Note. The root कृ is of the most frequent application in Sans- krit literature, and its senses are variously modified, or almost infinitely extended, according to the noun with which the root is connected; e. g. पदं कृ to set foot (fig. also); आश्रमे पदं करिष्यसि Ś.4.19; क्रमेण कृतं मम वपुषि नव- यौवनेन पदम् K.141; मनसा कृ to think of, meditate; मनसि कृ to think; दृष्ट्वा मनस्येवमकरोत् K.136; or to resolve or determine; सख्यम्, मैत्रीं कृ to form friendship with; अस्त्राणि कृ to practise the use of weapons; दण्डं कृ to inflict punishment; हृदये कृ to pay heed to; कालं कृ to die; मतिं-बुद्धिं कृ to think of, intend, mean; उदकं कृ to offer libations of water to manes; चिरं कृ to delay; दर्दुरं कृ to play on the lute; नखानि कृ to clean the nails; कन्यां कृ to outrage or violate a maiden; विना कृ to separate from, to be abandoned by, as in मदनेन विनाकृता रतिः Ku.4.21; मध्ये कृ to place in the middle, to have reference to; मध्येकृत्य स्थितं क्रथकौशिकान् M.5.2; वेशे कृ to win over, place in subjection, subdue; चमत्कृ to cause surprise; make an exhibition or a show; सत्कृ to honour, treat with respect; तिर्यक्कृ to place aside. -Caus. (कारयति-ते) To cause to do, perform, make, execute &c.; आज्ञां कारय रक्षोभिः Bk.8.84; भृत्यं भृत्येन वा कटं कारयति Sk. -Desid. (चिकीर्षति- ते) To wish to do &c.; Śi.14.41.
  • In रूपचन्द्रिका by श्री. ब्रह्मानन्द त्रिपाठी published by चौखंबा सुरभारती प्रकाशन, वाराणसी I find करवावहै given as कृ-धातुः (तनादिः आत्मनेपदी) | तस्य लोटि उत्तमपुरुषे द्विवचनम् | Obviously कर्तृपदम् is आवाम् 

(2-8) तेजस्वि ⇒ तेजस्विन् इति विशेषणम् | अत्र नपुंसकलिङ्गि | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च |

  • तेजस्विन् a. (-नी f.) 1 Brilliant, bright. -2 Powerful, heroic, strong; न तेजस्तेजस्वी प्रसृतमपरेषां विषहते U.6.14; Ki.16.16. -3 Dignified, noble. -4 Famous, illustrious. -5 Violent; Bṛi. S.11.2. -6 Haughty. -7 Lawful.
  • तेजस् n. [तिज्-भावे करुणादै असुन्] 1 Sharpness. -2 The sharp edge (of a knife &c.). -3 The point or top of a flame. -4 Heat, glow. glare. -5 Lustre, light, brilliance, splendour; दिनान्ते निहितं तेजः R.4.1; तेजश्चास्मि विभावसौ Bg.7.9,1. -6 Heat or light considered as the third of the five elements of creation (the other four being पृथिवी, अप्, वायु and आकाश). -7 The bright appearance of the human body, beauty; अरिष्टशय्यां परितो विसारिणा सुजन्मनस्तस्य निजेन तेजसा R.3.15. -8 Fire of energy; शतप्रधानेषु तपोधनेषु गूढं हि दाहात्मकमस्ति तेजः Ś. 2.7; U.6.14. -9 Might, prowess, strength, courage, valour; martial or heroic lustre; तेजस्तेजसि शाम्यतु U. 5.7; Ś.7.15. -10 One possessed of heroic lustre; तेजसां हि न वयः समीक्ष्यते R.11.1; Pt.1.328;3.33. -11 Spirit, energy. -12 Strength of character, not bearing insult or ill-treatment with impunity. -13 Majestic lustre, majesty, dignity, authority, consequence; तेजोविशेषानुमितां (राजलक्ष्मीं) दधानः R.2.7. -14 Semen, seed, semen virile; स्याद्रक्षणीयं यदि मे न तेजः R.14.65; 2.75; दुष्यन्तेनाहितं तेजो दधानां भूतये भुवः Ś.4.3. -15 The essential nature of anything. -16 Essence, quint- essence. -17 Spiritual, moral, or magical power. -18 Fire; यज्ञसेनस्य दुहिता तेज एव तु केवलम् Mb.3.239.9. -19 Marrow. -20 Bile. -21 The speed of a horse. -22 Fresh butter. -23 Gold. -24 Clearness of the eyes. -25 A shining or luminous body, light; ऋते कृशानोर्न हि मन्त्रपूतमर्हन्ति तेजांस्यपराणि हव्यम् Ku.1.51; Ś.4.2. -26 The heating and strengthening faculty of the human frame seated in the bile (पित्त). -27 The brain. -28 Violence, fierceness. -29 Impatience. -30 Anger; मित्रैः सह विरोधं च प्राप्नुते तेजसा वृतः Md.3.28.18. -31 The sun; उपप्लवांस्तथा घोरान् शशिनस्तेजसस्तथा Mb.12. 31.36.
  • तेजः 1 Pungency. -2 Sharpness (of a weapon). -3 Brilliancy. -4 Spirit.
  • तिज् I. 1 Ā. (Strictly desid. of तिज्) (तितिक्षते, तितिक्षित) 1 To endure, bear. -2 To put up with, suffer patiently or with courage तितिक्षमाणस्य परेण निन्दाम् M.1.17; तांस्तितिक्षस्व भारत Bg.2.14; Mv.2.12; Ki.13.68; Ms. 6.47. -II. 1 U. or Caus. (तेजयति-ते, तेजित) 1 To sharpen, whet; कुसुमचापमतेजयदंशुभिः R.9.39. -2 To stir up, excite, instigate.

(2-9) अधीतम् ⇒ (अधि + इ)-धातुः | तस्य क्त-कृदन्तं विशेषणम्  | अत्र नपुंसकलिङ्गि | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च |

  • अधीत p. p. Learnt, studied, read, remembered, attained &c. -Comp. -विद्य a. who has studied the Vedas or finished his studies.
  • अधी [अधिं-इ] 2 A. 1 To study, learn (by heart), read; (with abl. of person) learn from; आख्यातोपयोगे P.I.4.29. उपाध्यायादधीते Sk.; सो$ध्यैष्ट वेदान् Bk.1.2. -2 (P.) (a) To remember, think of, long or care for, mind, (with regret) with gen.; रामस्य दयमानो$सावध्येति तव लक्ष्मणः Bk.8.119;18.38; ममैवाध्येति नृपतिस्तृप्यन्निव जलाञ्जलेः Ki.11.74 thinks of me only. (b) To know or learn by heart, study, learn; गच्छाधीहि गुरोर्मुखात् Mb. (c) To teach, declare. (d) To notice, observe, understand. (e) To meet with, obtain; तेन दीर्घममरत्वमध्यगुः । Śi.14.31. -Caus. [अध्यापयति] to teach, instruct (in); with acc. of the agent of the verb in the primitive sense; (तौ) साङ्गं च वेदमध्याप्य R.15.33; विद्यामथैनं विजयां जयां च… अध्यापिपद् गाधिसुतो यथावत् Bk.2.21,7.34; अध्यापितस्योशनसापि नीतिम् Ku.3.6.
  • धातुपाठे (1) इण् (अदादिः परस्मैपदी) गतौ (2) इङ् (अदादिः आत्मनेपदी) अध्ययने (नित्यमधिपूर्वः) (3) इक् (अदादिः परस्मैपदी) स्मरणे (अयमप्यधिपूर्वः) 

(2-10) अस्तु ⇒ अस्-धातुः | धातुपाठे अ० सेट् प० । असँ भु॒वि | तस्य लोटि (आज्ञार्थे) प्रथमपुरुषे एकवचनम् |

  • अस् I. 2 P. [अस्ति, आसीत्, अस्तु, स्यात्; defective in non-conjugational tenses, its forms being made up from the root भू.] 1 To be, live, exist (showing mere existence); नासदासीन्नो सदासीत् Rv.1.129.1; आत्मा वा इदमेक एवाग्र आसीत् Ait. Up.1.1. श्रुतिद्वैधं तु यत्र स्यात् Ms.2.14; शपथे नास्ति पातकम् 8.112; न त्वेवाहं जातु नासम् Bg.2.12; आसीद्राजा नलो नाम Nala. 1.1; Ms.5.79; न अस् not to be, to be lost, disappear, perish, नायमस्तीति दुःखार्ता Nala.7.16; अस्ति भोक्तुम् Sk. it has to be eaten; (for other uses of अस्ति see अस्ति s. v.). -2 To be (used as a copula or verb of incomplete predication, being followed by a noun or adjective or adverb; or some other equivalent); भक्तो$सि मे सखा च Bg.4.3; धार्मिके सति राजनि Ms.11.11; आचार्ये संस्थिते सति 5.8; so एवमेव स्यात्, तूष्णीमासीत् &c. -3 To belong to, be in the possession of (expressed in English by have), with gen. of possessor; यन्ममास्ति हरस्व तत् Pt.4.76; यस्य नास्ति स्वयं प्रज्ञा 5.7; न हि तस्यास्ति किंचित् स्वम् Ms.8.417; नास्ति बुद्धिरयुक्तस्य Bg.2.66. -4 To fall to the share of, to happen to or befall anyone (with gen.); यदिच्छामि ते तदस्तु Ś.4. तस्य प्रेत्य फलं नास्ति Ms.3.139 he cannot enjoy or get. -5 To arise, spring out, occur; आसीच्च मम मनसि K.142 (this) occurred to my mind. -6 To become; तां दृष्ट्वा दशविस्तारामासं विंशतियोजनः Rām.; also शुक्लीस्यात् राजसात् स्यात् &c. Sk. -7 To lead or tend to, turn out or prove to be (with dat.); स स्थाणुः स्थिरभक्तियोगसुलभो निःश्रेयसायास्तु वः V.1.1; संगतं श्रीसरस्वत्योर्भूतये$स्तु सदा सताम् 5.24; oft. with dat. alone without अस्; यतस्तौ स्वल्पदुःखाय Pt.1. -8 To suffice (with dat.); सा तेषां पावनाय स्यात् Ms.11.85; अन्यैर्नृपालैः परिदीयमानं शाकाय वा स्याल्लवणाय वा स्यात् Jagannātha. -9 To stay, reside, dwell, live हा पितः क्वासि हे सुभ्रु Bk.6.11. -1 To take place, happen. -11 To be in a particular relation, to be affected (with loc.); किं नु खलु यथा वयमस्यामेवमियमप्यस्मान् प्रति स्यात् Ś.1. अस्तु well, let it be; एवमस्तु, तथास्तु so be it, amen. The form आस joined to roots in forming their periphrastic perfect is sometimes separated from the root and used by itself; तं पातयां प्रथममास पपात पश्चात् R.9.61,16.86. [cf. L. est and Gr. esti. with अस्ति; esse; Zend. āsti; Pers. hast, ast] With अति to be over, excel, surpass.

(2-11) मा ⇒ मा ind. A particle of prohibition (rarely of negation) usually joined with the Imperative; मद्वाणि मा कुरु विषादमनादरेण Bv.4.41; also (a) with the Aorist, when the augment अ is dropped; क्लैब्यं मास्म गमः पार्थ नैतत्त्वय्युपपद्यते Bg.2.3; पापे रतिं मा कृथाः Bh.2.77; मा मूमुहत् खलु भवन्तमनन्यजन्मा मा ते मलीमसविकारघना मतिर्भूत् Māl.1. 32; the अ is sometimes retained; मा निषाद प्रतिष्ठां त्वमगमः शाश्वतीः समाः Rām. (b) the Imperfect (the augment being dropped here also); मा चैनमभिभाषथाः Rām.1.2. 15; (c) the Future, or Potential mood, in the sense of ‘lest’, ‘that not’; लघु एनां परित्रायस्व मा कस्यापि तपस्विनो हस्ते पतिष्यति Ś.2; मा कश्चिन्ममाप्यनर्थो भवेत् Pt.5; मा नाम देव्याः किमप्यनिष्टमुत्पन्नं भवेत् K.37; the Imperative mood also is sometimes used for the Potential; त्वरतामार्यपुत्र एतां समाश्वासयितुं मास्या विकारो वर्धताम् M.4. (d) the Present Participle when a curse is implied; मा जीवन् यः परावज्ञादुःखदग्धो$पि जीवति Śi.2.45; or (e) with Potential passive participles; मैवं प्रार्थ्यम् मा is sometimes used without any verb; मा तावत् ‘oh ! do not (say or do) so’; मा मैवम्; मा नाम रक्षिणः Mk.3 ‘may it not be the police’; see under नाम. Sometimes मा is followed by स्म and is used with the Aorist or Imperfect with the augment dropped, and rarely with the Potential mood; क्लैब्यं मा स्म गमः पार्थ Bg.2.3; मा स्म प्रतीपं गमः Ś.4.17; मा स्म सीमन्तिनी काचिज्जनयेत् पुत्रमीदृशम्.

(2-12) विद्विषावहै ⇒ (वि + द्विष्) इति धातुः | अ० अनिट् उ० । द्वि॒षँ॑ अप्री॑तौ | तस्य लोटि उत्तमपुरुषे द्विवचनम् |

  • द्विष् 2 U. (द्वेष्टि, द्विष्टे; द्विष्ट) To hate, dislike, be hostile towards; न द्वेक्षि यज्जनमतस्त्वमजातशुत्रुः Ve.3.15; नाभिनन्दति न द्वेष्टि तस्य प्रज्ञा प्रतिष्ठिता Bg.2.57;18.1; Bk. 17.61;18.9; रम्यं द्वेष्टि Ś.6.5 (Prepositions like प्र, वि and सम् are prefixed to this root without any change of meaning.)

(2-13) शान्तिः ⇒ शान्ति-इति स्त्रीलिङ्गि नाम | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च |

  • शान्तिः f. [शम्-क्तिन्] 1 Pacification, allayment, alleviation, removal; अध्वरविघातशान्तये R.11.1,62. -2 Calmness, tranquillity, quiet, ease, rest, repose; स्मर संस्मृत्य न शान्तिरस्ति मे Ku.4.17; शान्तिः कुतस्तस्य भुजङ्गशत्रोः Māl.6.1; यत् किंचिद् वस्तु संप्राप्य स्वल्पं वा यदि वा वहु । या तुष्टिर्जायते चित्ते सा शान्तिः कथ्यते बुधैः ॥ Padma P. -3 Cessation of hostility; सर्पस्य शान्तिः कुटिलस्य मैत्री विधातृसृष्टौ न हि दृष्टपूर्वा Bv.1.125. -4 Cessation, stop. -5 Absence of passion, quietism, complete indifference to all worldly enjoyments; तदुपहितकुटुम्बः शांन्तिमार्गोत्सुको$भूत् R.7.71. -6 Consolation, solace. -7 Settlement of differences, reconciliation. -8 Satisfaction of hunger. -9 An expiatory rite, a propitiatory rite for averting evil; शान्तयश्चापि वर्धन्तां यथाकल्पं यथाविधि Rām.1.8.16. -10 Good fortune, felicity, auspiciousness. -11 Exculpation or absolution from blame. -12 Preservation. -13 N. of Durgā. -14 Destruction, end, death.

3 अन्वयाः 

(3-1) ॐ 

(3-2) नौ (आवाम्) सह अवतु ⇒

  • Because this is a prayer, the meaning can be composed by assuming different कर्तृपद-s.
    • (1) सः ईश्वरः नौ सह अवतु
    • (2) सा देवी नौ सह अवतु
      • Thinking of सा देवी brings to mind all those invocations in देवीसूक्तम् such as या देवी सर्वभूतेषू विष्णुमायेति शब्दिता । नमः तस्यै नमः तस्यै नमः तस्यै नमो नमः ॥ या देवी सर्वभूतेषू चेतनेत्यभिधीयते । … या देवी सर्वभूतेषू बुद्धिरूपेण संस्थिता । … या देवी सर्वभूतेषू निद्रारूपेण संस्थिता । … 
    • (3) तत् परमतत्त्वं नौ सह अवतु OR तत् ईशतत्त्वं नौ सह अवतु OR तत् ब्रह्मतत्त्वं नौ सह अवतु 
    • (4) हे परमेश्वर भवान् नौ सह अवतु
    • (5) हे देवि, भवती नौ सह अवतु
    • (6) हे परमतत्त्व, भवत् नौ सह अवतु OR हे ईशतत्त्व, भवत् नौ सह अवतु OR हे ब्रह्मतत्त्व, भवत् नौ सह अवतु 
    • सह नाववतु is seen to be interpreted as “May both of us be protected”. Considering the wide range of meanings of धातुः अव् I would think that “May both of us be taken care of (in all respects, at all times)” would be a better interpretation.

(3-3) नौ (आवाम्) सह भुनक्तु 

  • Since नौ is द्विवचनम् and can only be द्वितीया-चतुर्थी-षष्ठी-विभक्तिषु and भुनक्तु is  लोटि (आज्ञार्थे) प्रथमपुरुषे एकवचनम् of धातुः भुज् / भुञ्ज्, meaning of धातुः भुज् / भुञ्ज् has to be taken as “to get for us to eat, to get for us to consume, to get for us to enjoy” in place of “to eat, to consume, to enjoy”.
  • Then as detailed for (3-2) above, meaning of this sentence also can be composed by assuming different कर्तृपद-s.
    • (1) सः ईश्वरः नौ सह भुनक्तु
    • (2) सा देवी नौ सह भुनक्तु
    • (3) तत् परमतत्त्वं नौ सह भुनक्तु
    • (4) हे परमेश्वर भवान् नौ सह भुनक्तु
    • (5) हे देवि, भवती नौ सह भुनक्तु
    • (6) हे परमतत्त्व, भवत् नौ सह भुनक्तु OR हे ईशतत्त्व, भवत् नौ सह भुनक्तु OR हे ब्रह्मतत्त्व, भवत् नौ सह भुनक्तु 

(3-4) (आवां) वीर्यं सह करवावहै ⇒ Two of us shall do all valor together

  • वीर्यम् ⇒ Whereas वीर्यम् is most commonly translated as valor, to be very, very general, it can be translated to cover all actions. Then  (आवां) वीर्यं सह करवावहै can be interpreted as “The two of us shall work in perfect unison (always).” That then becomes a huge, meaningful commitment, a vow, an oath.
  • Then it would also mean, we shall not allow anything to create a rift between us.
  • If any differences would arise, we shall resolve them mutually. 
  • By this connotation, this मन्त्र can be an essential feature of all agreements between any two countries also.

(3-5) नौ (आवयोः) अधीतं तेजस्वि अस्तु (भवतु) अथवा (अस्माभिः) अधीतं नौ (आवाभ्याम्) तेजस्वि अस्तु (भवतु) 

  • One अन्वयः is composed as नौ (आवयोः) अधीतं तेजस्वि अस्तु (भवतु) to mean “May learning of both of us be brilliant”
    • Learning being brilliant means the learning should never be short of perfection.
    • Examinations are really methods of assessment of performance of learners. Examination-systems include awarding marks or grades. Throughout my own education, I have had systems awarding marks,  where less than 35% marks is failure. I have been the 35% passing line is itself improper. Someone getting just 35% marks means 65% of his learning was not good. How can a student be allowed to proceed further, if 65% of learning was not good ?
    • The meaning “May learning of both of us be brilliant” also premises that there need not be any one-up-man-ship. Urge for knowledge should be for the sake of knowledge. There is no need for competitive spirit. If two plus two is four, it is so for everyone, who learnt that. There is no question of  comparison or competition. Competitive spirit can pollute one’s mind against another. That is bad. How smartly the next part of the prayer says (आवाम्) मा विद्विषावहै “May we not have any ill-feeling between us.”
    • There is an interesting सुभाषितम् about how one acquires knowledge and how much by every ‘how’. आचार्यात् पादमादत्ते पादं शिष्यः स्वमेधया । पादं सब्रह्मचारिभ्यः पादं कालक्रमेण च ।।  What one learns from the precept is one-fourth. One learns another one-fourth by one’s own assimilation, yet another one-fourth (by interacting with) co-learners and balance by passage of time (i.e. by life’s experiences). 
      • The नौ अधीतम् phrase in the मन्त्र can be taken to be inclusive of learning by interaction with co-learners. Rather the मन्त्र should be recited by co-learners together heartily and meaningfully that their co-learning be तेजस्वि अधीतम्.
    • Actually the teacher also keeps learning, when teaching. So it becomes apt for the teacher to recite along with his students नौ (आवयोः) अधीतं तेजस्वि अस्तु (भवतु) “May learning of both of us be brilliant”.
  • The other अन्वयः composed as अधीतं नौ (आवाभ्याम्) तेजस्वि अस्तु (भवतु) means “May learning of both of us be benevolent and beneficent for both of us”.
    • Knowledge proves benevolent and beneficent only if it can be readily applied, whenever needed. Knowledge once acquired should have been acquired with “ready recall” faculty. There is a good सुभाषितम् on this पुस्तके स्थातु या विद्या परहस्तगतं धनम् । कार्यकाले समुत्पन्ने न सा विद्या न तद्धनम् ।। Knowledge in the books and wealth in else’s hands is neither (your) knowledge nor (your) wealth, when you need them. Only “Ready recall” knowledge is तेजस्वि अधीतम्. 

(3-6) (आवाम्) मा विद्विषावहै = May we not have any ill-feeling between us.

(3-7) ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः The meaning and notes on this merit to be copy-pasted again and again.

(4) विमर्शाः Notes 

(4-1) Every sentence in this शान्तिमन्त्र contains two entities saying it together. The two entities can be husband and wife, two friends, two parties or even a teacher and his posse of students or two or more co-learners, the speaker and the audience, one or both the entities being singular or plural, the plurality such as audience, posse of students, rolled into one singularity.

  • As mentioned at (3-4) this मन्त्र can be an essential feature of all agreements between any two countries also.

(4-2) For a couple to be wedded, this शान्तिमन्त्र becomes a very meaningful marriage vow.

(4-3) The ending recitation of all शान्तिमन्त्र-s as ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः is certainly meaningful.

  • Why to utter the word शान्तिः thrice ?
  • What should the translation of ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः be ?
  • We shall have this शान्तिमन्त्रः again and again. When detailing it under शुक्लयजुर्वेदीयः शान्तिमन्त्रः the translation emerged as “May fulfillment be there ! May contentment be there !! May peace be there !!!”. 
  • My friend Mr. Vijay Kane made another charming proposition. Since man prays for peace by elimination of त्रिताप-s, saying शान्तिः thrice would be for peace from आधिदैविक ताप, आधिभौतिक ताप, आध्यात्मिक ताप.  
  • How all-inclusive, how all-pervasive, how comprehensive, how universal this end-note ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः is !!!
  • Shouldn’t we practice reciting it with what all focus we can bring into its recitation ?

शुभमस्तु ।

-o-O-o-


Categories: Sanskrit Blogs

शुक्लयजुर्वेदीयः शान्तिमन्त्रः

उपनिषदध्ययनम् - Wed, 03/15/2017 - 20:20

शुक्लयजुर्वेदीयः शान्तिमन्त्रः ईश-बृहदारण्यक-श्वेताश्वतर-उपनिषदाम्

ॐ पूर्णमदः पूर्णमिदम् | पूर्णात् पूर्णमुदच्यते | पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

This शान्तिमन्त्रः is from शुक्लयजुर्वेद and is to be recited with ईश, बृहदारण्यक and श्वेताश्वतर उपनिषद’s.

I had done a study of this मन्त्र long time back and had even presented that study at this link. It seems that that study can be done again, maybe, in better grammatical, etymological details taking help of resources such as the dictionary and धातुपाठ.

(1) सन्धिविच्छेदैः => 

ॐ पूर्णम् अदः पूर्णम् इदम् पूर्णात् पूर्णम् उदच्यते ।

पूर्णस्य पूर्णम् आदाय पूर्णम् एव अवशिष्यते ।।

॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

(2) Grammatical, etymological details of the words =>

(2-1) ॐ

  • In Apte’s dictionary ओम् ind. 1 The sacred syllable om, uttered as a holy exclamation at the beginning and end of a reading of the Vedas, or previous to the commencement of a prayer or sacred work. -2 As a particle it implies (a) solemn affirmation and respectful assent (so be it, amen !); (b) assent or acceptance (yes, all right); ओमित्युच्यताममात्यः Māl.6; ओमित्युक्तवतो$थ शार्ङ्गिण इति Śi. 1.75; द्वितीयश्चेदोमिति ब्रूमः S. D.1; (c) command; (d) auspiciousness; (e) removal or warding off. -3 Brahman. [This word first appears in the Upaniṣads as a mystic monosyllable, and is regarded as the object of the most profound religious meditation. In the Maṇḍūkya Upaniṣad it is said that this syllable is all what has been, that which is and is to be; that all is om, only om. Literally analysed, omis taken to be made up of three letters or quarters; the letter a is Vaiśvānara, the spirit of waking souls in the waking world; u is Taijasa, the spirit of dreaming souls in the world of dreams; and m is Prajñā, the spirit of sleeping and undreaming souls; and the whole om is said to be unknowable, unspeakable, into which the whole world passes away, blessed above duality; (for further account see Gough’s Upaniṣads pp.69-73). In later times om came to be used as a mystic name for the Hindu triad, representing the union of the three gods a (Viṣṇu), u (Śiva), and m (Brahmā). It is usually called Praṇava or Ekakṣaram; cf. अकारो विष्णुरुद्दिष्ट उकारस्तु महेश्वरः । मकारेणोच्यते ब्रह्मा प्रणवेन त्रयो मताः ॥ -Comp. -कारः 1 the sacred syllable ओम्; त्रिमात्रमोकारं त्रिमात्रमोंकारं वा विदधति Mbh.VIII.2.89. -2 the exclamation ओम्, or pronunciation of the same; प्राणायामैस्त्रिभिः पूतस्तत ओंकारमर्हति Ms.2.75. -3 (fig.) commencement; एष तावदोंकारः Mv.1; B. R.3.78. -रा N. of a Buddhist śakti (personification of divine energy).
  • No dictionary can give ‘meaning’ of Om. One has to experience it oneself, maybe, experience it best by ॐ-कार-ध्यानम्, which is said to be benevolent and beneficent in many ways. 

(2-2) पूर्णम् => पॄ-इति धातुः | तस्य क्त-कृदन्तम् | अत्र नपुंसकलिङ्गि | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च |

  • धातुपाठे पॄ पालनपूरणयोः 
  • पॄ 3, 9 P. (पिपर्ति, पृणाति, पपार, अपारीत्, परि-री-ष्यति, परि-री-तुम्, पूर्ण; pass. पूर्यते; caus. पूरयति-ते; desid. पिपरि- री-षति, पुपूर्षति) 1 To fill, fill up, complete. -2 To fulfil, gratify (as hopes &c.). -3 To fill with wind, blow (as a conch, flute &c.). -4 To satisfy, refresh, please; पितॄनपारात् Bk.1.2. -5 To rear, bring up, nourish, nurture, cherish.

(2-3) अदः => अदस् इति सर्वनाम | अत्र नपुंसकलिङ्गि | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च |

  • अदस् pron. a. [न दस्यते उत्क्षिप्यते अङ्गुलिर्यत्र इदंतया निर्द्धारणाय पुरोवर्तिनि एवाङ्गुलिनिर्देशः संभवति नापुरो वर्तिनि, न-दस्-क्विप् Tv.] (असौ m. f. अदः n.). That, (referring to a person or thing not present or near the speaker) (विप्रकृष्ट or परोक्ष); इदमस्तु सन्निकृष्टं समीपतरवर्ति चैतददो रूपम् । अदसस्तु विप्रकृष्टं तदिति परोक्षे विजानीयात् ॥ अमुष्य विद्या रसनाग्रनर्तकी N.1.5; असौ नामा$हमस्मीति स्वनाम परिकीर्तयेत् Ms.2.122. I am that person, so and so (giving the name); असावहमिति ब्रूयात् 13,216; Y. 1.26. अदस् is, however, often used with reference to प्रत्यक्ष or सन्निकृष्ट objects &c. in the sense of ‘this here’, ‘yonder’. असौ सरण्यः सरणोन्मुखानाम् R.6.21. (असाविति पुरोवर्तिनो निर्देशः Malli.); अमी रथ्याः Ś.1.8.; अमी वह्नयः 4.18;7.11. It is often used in the sense of तत् as a correlative of यत्; हिंसारतश्च यो नित्यं नेहासौ सुखमेधते Ms. 4.17. He, who &c. But when it immediately follows the relative pronoun (यो$सौ, ये अमी &c.) it conveys the sense of प्रसिद्ध ‘well-known’, ‘celebrated’, ‘renowned’; यो$सावतीन्द्रियग्राह्यः सूक्ष्मो$व्यक्तः सनातनः Ms.1.7; यो$सौ कुमार- सेवको नाम Mu.3; यो$सौ चोरः Dk.68; sometimes अदस् used by itself conveys this sense; विधुरपि विधियोगाद् ग्रस्यते राहुणा$सौ that (so well-known to us all) moon too. See the word तद् also and the quotations from K. P. -ind. There, at that time, then, thus, ever; correlative to some pronominal forms; यदादः, यत्रादः whenever, wherever &c. By अदो$नुपदेशे P.1.4.7. अदस् has the force of a (गति) preposition when no direction to another is implied; अदःकृत्य अदःकृतम्; । परं प्रत्युपदेशे तु अदःकृत्वा अदःकुरु । Sk.

(2-4) इदम् => इदम्-इति सर्वनाम | अत्र नपुंसकलिङ्गि | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च |

  • इदम् pron. a. [अयम् m., इयम् f., इदम् n.] 1 This, here, referring to something near the speaker; इदमस्तु संनिकृष्टं रूपम्); इदं तत् … इति यदुच्यते Ś.5 here is the truth of the saying. -2 Present, seen; the nominative forms are used with verbs in the sense of ‘here’; इयमस्मि here am I; so इमे स्मः; अयमागच्छामि here I come. -3 It often refers to something immediately following, while एतद् refers to what precedes; अनुकल्पस्त्वयं ज्ञेयः सदा सद्भिरनुष्ठितः Ms.3.147 (अयम् = वक्ष्यमाणः Kull.); श्रुत्त्वै- तदिदमूचुः -4 It occurs connected with यत्, तत्, एतद्, अदस्, किम् or a personal pronoun, either to point out anything more distinctly and emphatically, or some- times pleonastically; को$यमाचरत्यविनयम् Ś.1.25; सेयम्, सो$यम्, this here; so इमास्ताः; अयमहं भोः Ś.4 ho, here am I. -ind. Ved. 1 Here, to this place. -2 Now. -3 There. -4 With these words, herewith. -5 In this manner; नैतदौपयिकं राम यदिदं परितप्यसे Rām.2.53.3.

(2-5) पूर्णात् => पॄ-इति धातुः | तस्य क्त-कृदन्तम् | अत्र नपुंसकलिङ्गि | तस्य पञ्चमी विभक्तिः एकवचनं च |

(2-6) उदच्यते => (उत् + अच्) अथवा 9उत् + अञ्च्) इति धातुः | भ्वा० सेट् उ० । अचुँ॑ अञ्चुँ  वा [गतौ॒ याच॑ने च] इत्येके॑ | तस्य कर्मणिप्रयोगे लटि (वर्तमानकाले) प्रथमपुरुषे एकवचनम् | 

  • उदच्/उदञ्च् 1 U. [उद्-अञ्च्] 1 To raise, elevate, lift or throw up, draw up (as water); एकैकमेव पादमुदच्य तिष्ठति अश्वः Śat. Br.; उदञ्चिताक्षः Bk.2.31; उदञ्चय मुखं मनाक् Vb.3.27. -2 To utter, send forth, cause to sound; हरिमनुगायति काचिदुदञ्चितपञ्चमरागम् Gīt.1. -3 (Intrans.) (a) to go up; (b) to rise, rise forth; उदञ्चन्मात्सर्यं G. L.6; Bv.2.76; K.221; welter up; मूर्धच्छेदादुदञ्चत् Mv.3.32.

(2-7) पूर्णस्य => पॄ-इति धातुः | तस्य क्त-कृदन्तम् | अत्र नपुंसकलिङ्गि | तस्य षष्ठी विभक्तिः एकवचनं च |

(2-8) पूर्णम् => पॄ-इति धातुः | तस्य क्त-कृदन्तम् | अत्र नपुंसकलिङ्गि | तस्य द्वितीया विभक्तिः एकवचनं च |

(2-9) आदाय => आदा इति धातुः | तस्य ल्यबन्तम् |

  • आदा 3 Ā. (आदत्ते) 1 To receive, accept, take (to oneself), resort to; व्यवहारासनमाददे युवा R.8.18,1.4; मलीमसामाददते न पद्धतिम् R.3.46 follow or resort to; प्रदक्षिणार्चिर्हविरग्निराददे 3.14,1.45; Ms.2.238,117. -2 (With words expressing speech) To begin to speak, utter; वाचं आदा to speak, utter; विनिश्चितार्थामिति वाचमाददे Ki.1.3,14.2; Śi.2.13; R.1.59; शिव शिव शिवेत्यात्त- वचसः Bh.3.42. v. l. -3 To seize, take hold of; क्षितिधरपतिकन्यामाददानः करेण Ku.7.94; R.2.28,3.6; Ms.8.315; इदमेव निमित्तमादाय M.1; स हि सर्वस्य लोकस्य मन आददे R.4.8 attracted, had a hold on the mind. -4 To put on (as clothes &c.); यद्यच्छरीरमादत्ते Śvet. Up. -5 To take up, absorb, drink up; R.1.18; प्रदीपः स्नेहमादत्ते दशयाभ्यन्तरस्थया Śi.2.85. -6 To exact, take in (as taxes); take away, carry off; अगृध्नुराददे सो$र्थम् R.1.21; Ms.8.341,222; so बलिम्, शुल्कम् दण्डम् &c. -7 To pluck, lop off, separate; Ś.4.8. -8 To carry, take, bear; जालमादाय Pt.2 carrying, or along with the net; कुशानादाय Ś.3; तोयमादाय गच्छेः Me.2,48,64; see आदाय below; काश्यपसंदेशमादाय bearing K.’s message. -9 To perceive, comprehend; घ्राणेन रूपमादत्स्व रसानादत्स्व चक्षुषा । श्रोत्रेण गन्धानादत्स्व &c. Mb. -10 To agree to, undertake, begin. -11 To imprison, make captive. -Caus. To cause to take. -Desid. (दित्सते) To wish to take, carry off &c.

(2-10) एव => अव्ययम् | 

  • एव ind. This particle is most frequently used to strengthen and emphasize the idea expressed by a word :– (1) Just, quite, exactly; एवमेव quite so, just so; (2) same, very, identical; अर्थोष्मणा विरहितः पुरुषः स एव Bh.2.4 that very man; (3) only, alone, merely, (implying exclusion); सा तथ्यमेवाभिहिता भवेन Ku.3.63 only the truth, nothing but the truth; so नाम्नैव, स एव वीरः he alone (and not others); (4) already; गत एव न ते निवर्तते Ku.4.3; (5) scarcely, the moment, as soon as; chiefly with participles; उपस्थि- तेयं कल्याणी नाम्नि कीर्तित एव यत् R.1.87 as soon as the name was uttered; इति चिन्तयन्नेव while just thinking &c; (6) also, likewise; तथैव so also; (7) like, as (showing similarity); श्रीस्त एव मेस्तु G. M. (= तव इव); and (8) generally to emphasize a statement; भवितव्यमेव तेन U.4 it will (surely) take place. It is also said to imply the senses of (9) detraction; (10) diminution (11) command; (12) restraint; or (13) used merely as an expletive. (This particle is used in the Vedas in the senses of so, just so, like, indeed, truly, really) (14) Again; एवशब्दश्च पुनरित्यस्मिन्नर्थे भविष्यति । यथा क्षीरेण भुक्त्त्वा देवदत्तः क्षीरेणैव भुञ्जीतेति । भुञ्जीतैवेति पुनरिति गम्यते । ŚB. on MS.1.8.36.

(2-11) अवशिष्यते => (अव + शिष्) इति धातुः | तस्य कर्मणिप्रयोगे लटि (वर्तमानकाले) प्रथमपुरुषे एकवचनम् | 

  • धातुपाठे (1) शिष् । भ्वा० सेट् प० । शिषँऽ [हिं॒सार्थः॑] (2) चुरादिः णिजन्तः वा उभयपदी | शिषँ असर्वोपयो॒गे | (3) रु० अनिट् प० । शि॒षॢँ वि॒शेष॑णे |
  • अवशिष् (Used mostly in pass.) To be left last or as a remainder, to remain over or behind; यज्ज्ञात्वा नेह भूयो$न्यज्ज्ञातव्यमवशिष्यते Bg.7.2. पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्ण- मेवावशिष्यते Bṛi. Up.5.1.1. -Caus.To leave as a remainder; देहमात्रावशेषितः Bhāg.

(2-12) शान्तिः => शान्ति-इति स्त्रीलिङ्गि नाम | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च |

  • शान्तिः f. [शम्-क्तिन्] 1 Pacification, allayment, alleviation, removal; अध्वरविघातशान्तये R.11.1,62. -2 Calmness, tranquillity, quiet, ease, rest, repose; स्मर संस्मृत्य न शान्तिरस्ति मे Ku.4.17; शान्तिः कुतस्तस्य भुजङ्गशत्रोः Māl.6.1; यत् किंचिद् वस्तु संप्राप्य स्वल्पं वा यदि वा वहु । या तुष्टिर्जायते चित्ते सा शान्तिः कथ्यते बुधैः ॥ Padma P. -3 Cessation of hostility; सर्पस्य शान्तिः कुटिलस्य मैत्री विधातृसृष्टौ न हि दृष्टपूर्वा Bv.1.125. -4 Cessation, stop. -5 Absence of passion, quietism, complete indifference to all worldly enjoyments; तदुपहितकुटुम्बः शांन्तिमार्गोत्सुको$भूत् R.7.71. -6 Consolation, solace. -7 Settlement of differences, reconciliation. -8 Satisfaction of hunger. -9 An expiatory rite, a propitiatory rite for averting evil; शान्तयश्चापि वर्धन्तां यथाकल्पं यथाविधि Rām.1.8.16. -10 Good fortune, felicity, auspiciousness. -11 Exculpa- tion or absolution from blame. -12 Preservation. -13 N. of Durgā. -14 Destruction, end, death.

(3) अन्वयाः 

(3-1) अदः पूर्णम् (अस्ति) = That is complete and/or wholesome.

(3-2) इदं पूर्णम् (अस्ति) = This is complete and/or wholesome.

(3-3) पूर्णात् पूर्णम् उदच्यते = Wholesome can be taken out from wholesome.

(3-4) पूर्णस्य पूर्णम् आदाय = By fetching wholesome of wholesome

(3-5) पूर्णम् एव अवशिष्यते = wholesome only remains.

(3-6) ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः = May fulfillment be there ! May contentment be there !! May peace be there !!!

(4) विमर्शाः Notes

(4-1) The ऋषिः whoever composed this मन्त्रः seems to have left it for one  to ‘experience’ by oneself, what ‘That’ is and what ‘This’ is, both of which are described as being wholesome.

(4-2) Without any background of the requisite spiritual experience, I am tempted to venture a guess that ‘That’ and ‘This’ are प्रकृतिः and पुरुषः.

(4-3) प्रकृतिः and पुरुषः, also seem to be otherwise referred to as जीवः and शिवः or as आत्मा and परमात्मा.

(4-4) There are known to be two prominent schools of philosophical thought, one school, द्वैतवाद speaking of these dualities as dualities and the other, अद्वैतवाद speaking of these dualities as being essentially a Unity, which is to be realized through spiritual experience.

(4-5) The quote पूर्णात् पूर्णम् उदच्यते, “Wholesome emanates from wholesome” does not seem to be debatable at all. Every living being is born that way. Mother is a wholesome being. The child is also a wholesome being.

(4-6) The other quote पूर्णस्य पूर्णम आदाय पूर्णम् एव अवशिष्यते । “(Even) when wholesome is taken out of wholesome, wholesome only remains” seems to be more challenging to ‘realize’. For my own simplistic understanding, I am fascinated at the way actors switch between their ‘on stage’ roles and real-life roles. Once they have wholesomely ‘taken out’, out of their mind and body, their ‘on stage’ role, their real life role, that wholesome, remains ! How nicely William Shakespeare said, “The world is a stage’. Is not this single quotation enough to rate him also as an accomplished philosopher ?

(4-7) We all are mere enactors of a role on the stage of the world. We make an entry and also take the exit, as ordained by providence.

(4-8) The ending recitation of all शान्तिमन्त्र-s as ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः is certainly meaningful.

  • Why to utter the word शान्तिः thrice ?
  • What should the translation of ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः be ?
  • It comes to mind that in the previous post on ऋग्वेदीयः शान्तिमन्त्रः I did not dwell on this appropriately. I am happy that this time I have done better by translating it as “May fulfillment be there ! May contentment be there !! May peace be there !!!”. Yes, the word शान्तिः does have all these three meanings – fulfillment, contentment, peace. And it seems this order is also correct. It is human nature to hanker for many things. There cannot be peace, if the hankers are not fulfilled. Fulfillment of hankers also does not guarantee peace. Because we shall hanker more and for many more things. So, only contentment becoming the faculty of character can bring peace. Peace for oneself or by oneself will also not guarantee peace. Anything and everything around should be at peace.
  • How all-inclusive, how all-pervasive, how comprehensive, how universal this end-note ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः is !!!
  • Shouldn’t we practice reciting it with what all focus we can bring into its recitation ?

शुभमस्तु ।

-o-O-o-

 

 


Categories: Sanskrit Blogs

शान्तिमन्त्राः

उपनिषदध्ययनम् - Mon, 03/13/2017 - 12:31

Every reading and recitation of an उपनिषद् should commence with recitation of the शान्तिमन्त्र associated with it. Actually उपनिषद्-s are as epilogues of Vedas. That is why they are also known as वेदान्त-s. The शान्तिमन्त्र, which is to be recited when commencing recitation of an उपनिषद् is the मन्त्र in that Veda, of which the particular उपनिषद् is वेदान्त.

In Vinobaji’s book अष्टादशी, his commentary on 18 उपनिषद्-s, one finds five शान्तिमन्त्र-s. The Vedas and the related उपनिषद्-s are detailed as follows.

(1) ऋग्वेदीयः शान्तिमन्त्रः ऐतरेय-कौषीतकी-उपनिषदोः

  • ॐ वाङ् मे मनसि प्रतिष्ठिता मनो मे वाचि प्रतिष्ठितमाविराविर्म एधि। वेदस्य म आणिस्थः श्रुतं मे मा प्रहासीरनेनाधीतेनाहोरात्रान् संदधाम्यृतम् वदिष्यामि सत्यं वदिष्यामि तन्मामवतु तद्वक्तारमवत्ववतु मामवतु वक्तारमवतु वक्तारम्
    • ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

(2) शुक्लयजुर्वेदीयः शान्तिमन्त्रः ईश-बृहदारण्यक-श्वेताश्वतर-उपनिषदाम्

  • ॐ पूर्णमदः पूर्णमिदम् | पूर्णात् पूर्णमुदच्यते | पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते
    • ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

(3) कृष्णयजुर्वेदीयः शान्तिमन्त्रः कठ-तैत्तिरीय-नारायण-कैवल्य-ब्रह्मबिन्दु-उपनिषदाम्

  • ॐ सह नाववतु | सह नौ भुनक्तु | सह वीर्यं करवावहै | तेजस्वि नावधीतमस्तु | मा विद्विषावहै |
    • ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

(4) सामवेदीयः शान्तिमन्त्रः केन-छान्दोग्य-मैत्रायणी-उपनिषदाम्

  • ॐ आप्यायन्तु ममाङ्गानि वाक् प्राणश्चक्षुः श्रोत्रमथो बलमिन्द्रियाणि च सर्वाणि | सर्वं ब्रह्म औपनिषदम् | माहं ब्रह्म निराकुर्याम् | मा मा ब्रह्म निराकरोतु | अनिराकरणमस्तु | तदात्मनि निरते ये उपनिषत्सु धर्माः | ते मयि सन्तु | ते मयि सन्तु |
    • ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

(5) अथर्ववेदीयः शान्तिमन्त्रः प्रश्न-मण्डूक-माण्डुक्य-जाबाल-आरुणिक-उपनिषदाम्

  • ॐ भद्रं कर्णेभिः शृणुयाम देवाः | भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्राः | स्थिरैरङ्गैस्तुष्टुवान्सः तनूभिर्देवहितं यदायुः |
  • स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः | स्वस्ति नः पूषाः विश्वदेदाः | स्वस्ति नस्तार्क्ष्योऽरिष्टनेमिः | स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु |
    • ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

These will have to be studied one by one.

-o-O-o-

 

 


Categories: Sanskrit Blogs

ऋग्वेदीयः शान्तिमन्त्रः

उपनिषदध्ययनम् - Mon, 03/13/2017 - 11:36

The शान्तिमन्त्र below is from ऋग्वेद and is common to ऐतरेय and कौषीतकी उपनिषद-s. 

ॐ वाङ् मे मनसि प्रतिष्ठिता मनो मे वाचि प्रतिष्ठितमाविराविर्म एधि। वेदस्य म आणिस्थः श्रुतं मे मा प्रहासीरनेनाधीतेनाहोरात्रान् संदधाम्यृतम् वदिष्यामि सत्यं वदिष्यामि तन्मामवतु तद्वक्तारमवत्ववतु मामवतु वक्तारमवतु वक्तारम् ॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

Roman transliteration and English-translations, given below, mentioned as “with Swami Vivekananda” are from https://plus.google.com/108768789583592379715/posts/BGRNPLe4PYW 

मराठी अनुवाद विनोबांच्या अष्टादशीमधून – Explanations in मराठी are from अष्टादशी by विनोबा

  1. ॐ वाङ् मे मनसि प्रतिष्ठिता ⇒  Om Vaanga Me Manasi Pratisstthitaa ⇒  Om, Let My Speech be Established in My Mind ⇒ ॐ माझी वाणी मनामध्ये प्रतिष्ठित झाली आहे.
  2. मनो मे वाचि प्रतिष्ठितम् ⇒  Mano Me Vaaci Pratisstthitam |⇒ Let My Mind be Established in My Speech ⇒ माझे मन वाणीमध्ये प्रतिष्ठित झाले आहे.
  3. आविराविर्म एधि ⇒  Aavira-Avir-Ma Edhi ⇒ Let the Knowledge of the Self-Manifest Atman Grow in Me ⇒ हे प्रकाशरूप आत्मन् ! माझ्यासाठी प्रकट हो !
  4. वेदस्य म आणीस्थः । Vedasya Ma Aanniisthah ⇒ Let My Mind and Speech be the Support to Experience the Knowledge of the Vedas ⇒ (हे मन आणि वाणी) माझ्यासाठी वेद आणायला समर्थ व्हा
  5. श्रुतं मे मा प्रहासीः ⇒ Shrutam Me Maa Prahaasiih ⇒ Let what is Heard by Me (from the Vedas) be Not a mere Appearance ⇒ मी ऐकलेले (ज्ञान) माझा त्याग न करो.
  6. अनेनाधीतेनाहोरात्रान्सन्दधामि ⇒  Anena-Adhiitena-Ahoraatraan-San-Dadhaami ⇒ but what is Gained by Studying Day and Night be Retained.⇒ या अध्ययनाने मी दिवस आणि रात्र जोडेन.
  7. ऋतं वदिष्यामि ⇒ Rtam Vadissyaami ⇒ Speak about the Divine Truth ⇒ मी ऋत बोलेन.
  8. सत्यं वदिष्यामि ⇒ Satyam Vadissyaami ⇒ I Speak about the Absolute Truth ⇒ मी सत्य बोलेन.
  9. तन्मामवतु ⇒ Tan[d]-Maam-Avatu ⇒ May That Protect Me ⇒ ते माझे रक्षण करोत.
  10. तद्वक्तारमवतु ⇒ Tad-Vaktaaram-Avatu |⇒ May That Protect the Preceptor ⇒ ते बोलणाराचे रक्षण करोत.
  11. अवतु माम् ⇒ Avatu Maam  ⇒ May that Protect Me ⇒ ते माझे रक्षण करोत.
  12. अवतु वक्तारामवतु वक्तारम् ⇒ Avatu Vaktaaram  ⇒ May that Protect the Preceptor, May that Protect the Preceptor ⇒ ते बोलणाराचे रक्षण करोत. ते बोलणाराचे रक्षण करोत.
  13. ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ⇒  Om Shaantih Shaantih Shaantih ⇒ Om Peace, Peace, Peace

Even though the meanings/explanations are already given above, exploring, how the meanings are derived, should become a good self-study.

  1. ॐ वाङ् मे मनसि प्रतिष्ठिता   
    • 1-1 सन्धिविच्छेदैः ⇒ ॐ वाक् मे मनसि प्रतिष्ठिता 
    • ॐ = Salutary, auspicious pronunciation 
    • वाक् ⇒ वाच्-इति स्त्रीलिङ्गि नाम | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च |
      • वाच् f. [वच्-क्विप् दीर्घो$संप्रसारणं च Uṇ.2.67] 1 A word, sound, an expression (opp. अर्थ); वागर्थाविव संपृक्तौ वागर्थप्रतिपत्तये R.1.1. -2 Words, talk, language, speech; वाचि पुण्यापुण्यहेतवः Māl.4; लौकिकानां हि साधूनामर्थं वागनुवर्तते । ऋषीणां पुनराद्यानां वाचमर्थो$नुधावति U.1.1; विनिश्चितार्थामिति वाचमाददे Ki.1.3 ‘spoke these words’, ‘spoke as fol- lows’; R.1.49; Śi.2.13,23; Ku.2.3. -3 A voice, sound; अशरीरिणी वागुदचरत् U.2; मनुष्यवाचा R.2.33. -4 An assertion, a statement. -5 An assurance, a promise. -6 A phrase, proverb, saying. -7 N. of Sarasvatī, the goddess of speech.
    • मे ⇒ अस्मद्-सर्वनाम्नः अत्र षष्ठी विभक्तिः एकवचनं च |
      • अस्मद् pron. [अस्-मदिक् Uṇ.1.136] A pronominal base from which several cases of the 1st personal pronoun are derived; it is also abl. pl. of the word. m. The individual soul, the embodied soul; यूयं वयं वयं यूयमित्यासीन्मतिरावयोः । किं जातमधुना येन यूयं यूयं वयं वयम् ॥ Bh.3.65 (quite estranged from each other).
    • मनसि ⇒ मनस्-नाम्नः सप्तमी विभक्तिः एकवचनं च |
      • मनस् n. [मन्यते$नेन मन् करणे असुन्] 1 The mind, heart, understanding, perception, intelligence; as in सुमनस्, दुर्मनस् &c. -2 (In phil.) The mind or internal organ of perception and cognition, the instrument by which objects of sense affect the soul; (in Nyāya phil. मनस् is regarded as a Dravya or substance, and is distinct from आत्मन् or the soul); तदेव सुखदुःखाद्युपलब्धि- साधनमिन्द्रियं प्रतिजीवं भिन्नमणु नित्यं च Tarka K. -3 Conscience, the faculty of discrimination or judgment. -4 Thought, idea, fancy, imagination, conception; पश्यन्न- दूरान्मनसाप्यधृष्यम् Ku.3.51; R.2.27; कायेन वाचा मनसापि शश्वत् 5.5; मनसापि न विप्रियं मया (कृतपूर्वम्) 8.52. -5 Design, purpose, intention. -6 Will, wish, desire, inclination; in this sense मनस् is frequently used with the infinitive form with the final म् dropped, and forms adjectives; अयं जनः प्रष्टुमनास्तपोधने Ku.5.4; cf. काम. -7 Reflection (ध्यान); मनसा जपैः प्रणतिभिः प्रयतः समुपेयिवानधिपतिं स दिवः Ki.6.22. -8 Disposition, temper, mood. -9 Spirit, energy, mettle; मनोवीर्यवरोत्सिक्तमसृण्यमकुतोभयम् Bhag.3. 17.22. -1 N. of the lake called Mānasa. -11 Breath or living soul. -12 Desire, longing after. (मनसा गम् &c. to think of, contemplate, remember; जगाम मनसा रामं धर्मज्ञो धर्मकाङ्क्षया Rām.2.82.9; (अगमत्) मनसा कार्यसंसिद्धौ त्वरादिगुणरंहसा Ku.2.63; मनः कृ to fix the mind upon, direct the thoughts towards, with dat. or loc.; मनो बन्ध् to fix the heart or affection upon; (अभिलाषे) मनो बबन्धान्यरसान् विलङ्ध्य सा R.3.4; मनः समाधा to collect oneself; मनसि उद्भू to cross the mind; मनसि कृ to think, to bear in mind; to resolve, determine, think of.) N. B. In comp. मनस् is changed to मनो before अ and soft consonants, as मनो$नुग, मनोज्ञ, मनोहर &c.).
    • प्रतिष्ठिता ⇒ 
      1. प्रति + स्था इत्यस्य धातोः क्त-कृदन्तम् “प्रतिष्ठित” | अत्र स्त्रीलिङ्गि | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च | 
      2. प्रतिष्ठित p. p. 1 Set up, erected. -2 Fixed, established; तस्य प्रज्ञा प्रतिष्ठिता Bg.2.57-58. -3 Placed, situated; अरैः संधार्यते नाभिर्नाभौ चाराः प्रतिष्ठिताः Pt.1.81. -4 Installed, inaugurated, consecrated; दिलीपानन्तरं राज्ये तं निशम्य प्रतिष्ठितम् R.4.2. -5 Completed, effected; प्रति- ष्ठिते$हनि सन्ध्यामुपसीत Kau. A.1.19. -6 Prized, valued. -7 Famous, celebrated. -8 Settled, determined. -9 Comprised, included; त्वयि सर्वं प्रतिष्ठितम् Rām.7.76.28. -10 Established in life, married. -11 Endowed; प्रति- ष्ठितां द्वादशभिः Rām.6.48.12 (com. पादद्वयवर्त्यङ्गुलिदशकं द्वे पादतले च एवं द्वादशभिः). -12 Applied, applicable; पाणि- ग्रहणिका मन्त्राः कन्यास्वेव प्रतिष्ठिताः Ms.8.226. -13 Conversant with. -14 Secured, got, acquired. -15 Decided, certain; यदि वा मन्यसे राजन् हतमेकं प्रतिष्ठितम् Mb.12.32.19. -16 Complete, finished; एवमेषा महाभागा प्रतिष्ठाने प्रतिष्ठिता । तीर्थयात्रा महापुण्या सर्वपापप्रमोचिनी ॥ Mb.3.85.114.
  2. मनो मे वाचि प्रतिष्ठितम्  ⇒ 
    • सन्धिविच्छेदैः ⇒ मनः मे वाचि प्रतिष्ठितम् |
    • मनः ⇒ मनस्-इति नपुंसकलिङ्गि नाम | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च |
    • वाचि ⇒ वाच्-इति स्त्रीलिङ्गि नाम | तस्य सप्तमी विभक्तिः एकवचनं च |
    • प्रतिष्ठितम् ⇒ प्रति + स्था इत्यस्य धातोः क्त-कृदन्तम् “प्रतिष्ठित” | अत्र नपुंसकलिङ्गि | तस्य प्रथमा विभक्तिः एकवचनं च | 
  3. आविराविर्म एधि ⇒ 
    • सन्धिविच्छेदैः ⇒ आविः आविः मे एधि |
    • आविः See आवी f. Pain, suffering. (pl.) Pangs of child-birth.
      • आवी f. [अवीरेव स्वार्थे अण्] 1 A woman in her courses. -2 A pregnant woman. -3 The pangs of child-birth.
      • अवी [अवत्यात्मानं लज्जया अव्-ई Uṇ.3.158] A woman in her courses.
    • एधि ⇒ एध्-धातोः लोटि (आज्ञार्थे) मध्यमपुरुषे एकवचनम् | 
      • एध् 1 Ā (एधते, एधाञ्चक्रे, ऐधिष्ट, एधितुम्, एधित) 1 To grow, increase; विनापि संगमं स्त्रीणां कवीनां सुखमेधते Pt.2. 164. -2 To prosper, become happy, live in comfort; द्वावेतौ सुखमेधेते Pt.1.318. -3 To grow strong, become great. -4 To extend. -5 To swell, rise. -Caus. To cause to grow or increase; to greet, celebrate, honour; नैदिधः स्वपराक्रम् Bk.15.19; (तां) आशीर्भिरेधयामासुः Ku.6. 9. -Desid. एदिधिषते.
  4. वेदस्य म आणीस्थः ⇒ 
    • सन्धिविच्छेदैः ⇒ वेदस्य मे आणीस्थः 
    • वेदस्य ⇒ वेद-इति पुँल्लिङ्गि नाम | तस्य षष्ठी विभक्तिः एकवचनं च |
      • वेदः [विद्-अच् घञ् वा] 1 Knowledge. -2 Sacred knowledge, holy learning, the scripture of the Hindus. (Originally there were only three Vedas :- ऋग्वेद, यजुर्वेद and सामवेद, which are collectively called त्रयी ‘the sacred triad’; but a fourth, the अथर्ववेद, was subsequently added to them. Each of the Vedas had two distinct parts, the Mantra or Samhitā and Brāhmaṇa. According to the strict orthodox faith of the Hindus the Vedas are a-pauruṣeya, ‘not human compositions’, being supposed to have been directly revealed by the Supreme Being, Brahman, and are called Śruti’ i. e. ‘what is heard or revealed’, as distinguished from ‘Smṛiti’, i. e. ‘what is remembered or is the work of human origin’; see श्रुति, स्मृति also; and the several sages, to whom the hymns of the Vedas are ascribed, are, therefore, called द्रष्टारः ‘seers’, and not कर्तारः or सृष्टारः ‘composers’.) -3 A bundle of Kuśa grass; पद्माक्षमालामुत जन्तुमार्जनं वेदं च साक्षात्तप एव रूपिणौ Bhāg. 12.8.34; Ms.4.36. -4 N. of Viṣṇu. -5 A part of a sacrifice (यज्ञांग). -6 Exposition, comment, gloss. -7 A metre. -8 Acquisition, gain, wealth (Ved). -9 N. of the number ‘four’. -10 The ritual (वेदयतीति वेदो विधिः); Karma-kāṇda; वेदवादस्य विज्ञानं सत्याभासमिवानृतम् Mb.12.1. 2 (see Nīlakaṇtha’s commentary). -11 Smṛiti literature; आम्नायेभ्यः पुनर्वेदाः प्रसृताः सर्वतोमुखाः Mb.12.26.9.  
    • मे ⇒ अस्मद्-सर्वनाम्नः अत्र चतुर्थी विभक्तिः एकवचनं च |
    • आणीस्थः ⇒ wondering what the grammar and etymology of this word are.
  5. श्रुतं मे मा प्रहासीः ⇒ 
    • श्रुतम् ⇒
      • श्रुत p. p. [श्रु-क्त] 1 Heard, listened to. -2 Reported, heard of. -3 Learnt, ascertained, understood. -4 Well- known, famous, celebrated, renowned; श्रुतानुभावं शरणं व्रज भावेन भाविनि Bhāg.3.32.11; श्रुतस्य किं तत् सदृशं कुलस्य R.14.61;3.4. -5 Named, called. -6 Promised; तदवश्यं त्वया कार्यं यदनेन श्रुतं मम Rām.2.18.21. -7 Vedic, like Vedas (वेदरूप); गिरः श्रुतायाः पुष्पिण्या मधुगन्धेन भूरिणा Bhāg.4.2.25. -तम् 1 The object of hearing. -2 That which was heard by revelation i. e. the Veda, holy learning, sacred knowledge; श्रुतप्रकाशम् R.5.2. -3 Learning in general (विद्या); श्रोत्रं श्रुतेनैव न कुण्डलेन (विभाति) Bh.2.71; R.3.21;5.22; अग्निहोत्रफला वेदाः शीलवत्तफलं श्रुतम् Pt.2.15;4.68. -4 The act of hearing; योगे बुद्धिं, श्रुते सत्त्वं, मनो ब्रह्मणि धारयन् Mb.12.177.31.
      • श्रु / शृ इति धातुः श्रु I. 1 P. (श्रवति) To go, move; cf. शु. -II. 5 P. (शृणोति, शुश्राव, अश्रौषीत्, श्रोष्यति, श्रोतुम्, श्रुत) 1 To hear, listen to, give ear to; शृणु मे सावशेषं वचः V.2; रुतानि चाश्रोषत षट्पदानाम् Bk.2.1; संदेशं मे तदनु जलद श्रोष्यसि श्रोत्रपेयम् Me.13.12. -2 To learn, study; द्वादशवर्षभिर्व्याकरणं श्रूयते Pt.1. -3 To be attentive, to obey. (इति श्रूयते ‘it is so heard’, i. e. is enjoined in the scriptures, such is the sacred precept.) -Caus. (श्रावयति-ते) To cause to hear, communicate, tell, relate, inform; श्रावितो$मात्यसंदेशं स्तन- कलशः Mu.4. -Desid. (शुश्रूषते) 1 To wish to hear. -2 To be attentive or obedient, obey; वाक्यं नैव करोति बान्धवजनो पत्नी न शुश्रूषते Pt.4.78 (where the word may have the next sense also). -3 To serve, wait or attend upon; शुश्रूषस्व गुरून् Ś.4.17; Ku.1.59; Ms.2.244.
    • मा ⇒ 
      • मा ind. A particle of prohibition (rarely of negation) usually joined with the Imperative; मद्वाणि मा कुरु विषादमनादरेण Bv.4.41; also (a) with the Aorist, when the augment अ is dropped; क्लैब्यं मा स्म गमः पार्थ नैतत्त्वष्युपपद्यते Bg.2.3; पापे रतिं मा कृथाः Bh.2.77; मा मूमुहत् खलु भवन्तमनन्यजन्मा मा ते मलीमसविकारघना मतिर्भूत् Māl.1. 32; the अ is sometimes retained; मा निषाद प्रतिष्ठां त्वमगमः शाश्वतीः समाः Rām. (b) the Imperfect (the augment being dropped here also); मा चैनमभिभाषथाः Rām.1.2. 15; (c) the Future, or Potential mood, in the sense of ‘lest’, ‘that not’; लघु एनां परित्रायस्व मा कस्यापि तपस्विनो हस्ते पतिष्यति Ś.2; मा कश्चिन्ममाप्यनर्थो भवेत् Pt.5; मा नाम देव्याः किमप्यनिष्टमुत्पन्नं भवेत् K.37; the Imperative mood also is sometimes used for the Potential; त्वरतामार्यपुत्र एतां समाश्वासयितुं मास्या विकारो वर्धताम् M.4. (d) the Present Participle when a curse is im- plied; मा जीवन् यः परावज्ञादुःखदग्धो$पि जीवति Śi.2.45; or (e) with Potential passive participles; मैवं प्रार्थ्यम् मा is sometimes used without any verb; मा तावत् ‘oh ! do not (say or do) so’; मा मैवम्; मा नाम रक्षिणः Mk.3 ‘may it not be the police’; see under नाम. Sometimes मा is followed by स्म and is used with the Aorist or Imperfect with the augment dropped, and rarely with the Potential mood; क्लैब्यं मा स्म गमः पार्थ Bg.2.3; मा स्म प्रतीपं गमः Ś.4.17; मा स्म सीमन्तिनी काचिज्जनयेत् पुत्रमीदृशम्.
      • मा इति अस्मद्-सर्वनाम्नः द्वितीयाविभक्तेः एकवचनस्य रूपमपि | तथापि एतेन अर्थविपर्यासः भवेत् |
    • प्रहासीः ⇒ प्र+हा इति धातुः | ओँहा॒क् त्या॒गे | तस्य लुङि (अनद्यतनभविष्यत्काले) मध्यमपुरुषे एकवचनम् |
      • हा 3 P. (जहाति, हीन) 1 To leave, abandon, quit, give up, forsake, relinquish, dismiss; मूढ जहीहि धनागम- तृष्णां कुरु तनुबुद्धे मनसि वितृष्णाम् Moha M.1; सा स्त्रीस्वभावाद- सहा भरस्य तयोर्द्वयोरेकतरं जहाति Mu.4.13; R.5.72;8.52; 12.24;14.61,87;15.59; Ś.4.14; बुद्धिर्युक्तो जहातीह उभे सुकृतदुष्कृते Bg.2.5; Bk.3.53;5.91;1.71;2. 1; Me.51,62; Bv.2.129; Ṛs.1.38. -2 To resign, forego. -3 To let fall. -4 To omit, disregard, neglect. -5 To remove. -6 To avoid, shun. -Pass. (हीयते) 1 To be left or forsaken; भिन्नतिमिरनिकरं न जहे शशिरश्मि- संगमयुजा नभः श्रिया Ki.12.12.
  6. अनेनाधीतेनाहोरात्रान्सन्दधामि ⇒ 
    • सन्धिविच्छेदैः ⇒ अनेन अधीतेन अहोरात्रान् संदधामि 
    • अनेन ⇒ इदम् वा एतत् वा सर्वनाम्नी | अत्र नपुंसकलिङ्गी | तयोः तृतीया विभक्तिः एकवचनं च |
    • अधीतेन ⇒ (अधि + इ)-धातोः क्त-कृदन्तम् | अत्र नपुंसकलिङ्गी | तस्य तृतीया विभक्तिः एकवचनं च |
      • अधीत p. p. Learnt, studied, read, remembered, attained &c.
      • अधी [अधिं-इ] 2 A. 1 To study, learn (by heart), read; (with abl. of person) learn from; आख्यातोपयोगे P.I.4.29. उपाध्यायादधीते Sk.; सो$ध्यैष्ट वेदान् Bk.1.2. -2 (P.) (a) To remember, think of, long or care for, mind, (with regret) with gen.; रामस्य दयमानो$सावध्येति तव लक्ष्मणः Bk.8.119;18.38; ममैवाध्येति नृपतिस्तृप्यन्निव जलाञ्जलेः Ki.11.74 thinks of me only. (b) To know or learn by heart, study, learn; गच्छाधीहि गुरोर्मुखात् Mb. (c) To teach, declare. (d) To notice, observe, under- stand. (e) To meet with, obtain; तेन दीर्घममरत्वमध्यगुः । Śi.14.31. -Caus. [अध्यापयति] to teach, instruct (in); with acc. of the agent of the verb in the primitive sense; (तौ) साङ्गं च वेदमध्याप्य R.15.33; विद्यामथैनं विजयां जयां च… अध्यापिपद् गाधिसुतो यथावत् Bk.2.21,7.34; अध्यापितस्योशनसापि नीतिम् Ku.3.6.
    • अहोरात्रान् ⇒ अहश्च रात्रिश्च अहोरात्रः (समाहारद्वन्द्वः) | तस्य द्वितीया विभक्तिः बहुवचनं च |
      • अहन् n. [न जहाति न त्यजति सर्वथा परिवर्तनं, न हा-कनिन् Uṇ.1.55.] (Nom. अहः, अह्नी-अहनी, अहानि, अह्ना, अहोभ्याम् &c.; अहरिति हन्ति पाप्मानं जहाति च Śat. Br.) 1 A day (including day and night); अहः शब्दो$पि अहोरात्रवचनः । रात्रिशब्दो$पि । ŚB. on MS.8.1.16. अघाहानि Ms.5.84. -2 Day time सव्यापारामहनि न तथा पीडयेन्मद्वियोगः Me.9; यदह्ना कुरुते पापम् by day; अग्निर्ज्योतिरहः शुक्लः Bg.8.54. -3 The sky (as traversed by the sun); समारूढे च मध्यमह्नः सवितरि K.99; M.2. -4 A sacrificial or festival day. -5 A day’s work. -6 Viṣṇu. -7 Night. -8 A portion of a book appointed for a day. -9 A day personified as one of the eight Vasus. -नी (du.) Day and night (At the end of comp. अहन् is changed to अहः, हम् or to अह्न; see P.V.4.88-91; VI.3.11, VIII.4.7. Note: At the beginning of comp. it assumes the forms अहस् or अहर्; e. g. सप्ताहः, एकाहः, पूर्वाह्णः, अपराह्णः पुण्याहं, सुदिनाहं, अहःपतिः or अहर्पतिः &c. &c.).
        • -रात्रः (-त्रम् also) 1 a day and night (P.II.4.29.); त्रीनहोरात्रान् Nala.12.44; त्रिंशत्कला मुहूर्तः स्यादहोरात्रं तु तावतः Ms.1.64.65; Y.1.147. -2 a day of the Pitṛis, a month of the gods and a year of Brahmā.
    • संदधामि ⇒ संधा इति धातुः | तस्य लटि (वर्तमानकाले) उत्तमपुरुषे एकवचनम् |
      • संधा 3 U. 1 To join, bring together, unite, combine, put together, compound, mix; यानि उदकेन संधीयन्ते तानि भक्षणीयानि Kull. -2 (a) To treat with, form friendship or alliance with, make peace with; शंत्रुणा न हि संदध्यात् सुश्लिष्टेनापि संधिना H.1.88; Chāṇ.19; Kām.9.41. (b) To unite in friendship, reconcile, make a friend of; सकृद्दुष्टमपीष्टं यः पुनः संघातुमिच्छति Pt.2. 33. -3 To fix upon, direct towards; संदधे दृशमुदग्रतारकाम् R.11.69. -4 To fit to or place upon the bow (as a missile, arrow &c.); धनुष्यमोघं समधत्त बाणम् Ku.3.66; R.3.53;12.97. -5 To produce, cause; पर्याप्तं मयि रमणीय- डामरत्वं संधत्ते गगनतलप्रयाणवेगः Māl.5.3; संधत्ते भृशमरतिं हि सद्वियोगः Ki.5.51. -6 To hold out against, be a match for; शतमेको$पि संधत्ते प्राकारस्थो धनुर्धरः Pt.1.229. -7 To mend, repair, heal. -8 To inflict upon. -9 To grasp, support, take hold of. -1 To grant, yield. -11 To make good, atone for. -12 To contract, close up. -13 To approach, come near. -14 To prepare, make, com- pose. -15 To assist, aid. -16 To comprehend, conceive. -17 To possess, have. -18 To perform, do; स्वलीलया संदधते$व्ययात्मने Bhāg.7.8.41; वाङ्मात्रेणापि साहाय्यं मित्रादन्यो न संदधे Pt.2.12. -19 To employ, make use of, apply to use.
  7. ऋतं वदिष्यामि ⇒ 
    • ऋतम् ⇒ ऋत a. [ऋ-क्त] 1 Proper, right. -2 Honest, true; सर्वमेतदृतं मन्ये यन्मां वदसि केशव Bg.1.14; Ms.8.82. -3 Worshipped, respected. -4 Bright, luminous (दीप्त) -5 Gone, risen, moved, affected by; सुखेन ऋतः = सुखार्तः ऋते च तृतीयासमासे Vārt. on P.VI.1.89; so दुःखः˚, काम˚.
      • ऋतम् (Not usually found in classical literature) 1 A fixed or settled rule, law (religious). -2 Sacred custom, pious action. यस्तनोति सतां सेतुमृतेनामृतयोनिना Mb.12.47.49. -3 Divine law, divine truth. -4 Absolution. मर्त्यानामृतमिच्छताम् Bhāg.1.16.7. -5 Water; सत्यं त्वा ऋतेन परिषिञ्चामि. -6 Truth (in general), right; ऋतं वदिष्यामि T. Up.1.1.1. ऋतानृते Ms.1.29, 2.52,8.61,14. -7 Truth (personified as an object of worship; in later Sanskrit regarded as a child of Dharma). -8 Livelihood by picking or gleaning grains in a field (as opposed to the cultivation of ground); ऋतमुञ्च्छशिलं वृत्तम् Ms.4.4. -9 The fruit of an action; एकं चक्रं वर्तते द्वादशारं षण्णाभिमेकाक्षमृतस्य धारणम् Mb.1.3. 62. -10 Agreeable speech; ऋतं च सूनृता वाणी कविभिः परिकीर्तिता Bhāg.11.19.38. -11 N. of an Āditya. -12 The Supreme Spirit. (In the Vedas ऋत is usually interpreted by Sāyaṇa to mean ‘water’, ‘sun’ or ‘sacrifice’, where European scholars take it in the sense of ‘divine truth’, ‘faith’ &c.).
    • वदिष्यामि ⇒ वद्-इति धातुः | वदँ व्य॑क्तायां वा॒चि | तस्य लृटि (द्वितीयभविष्यत्काले) उत्तमपुरुषे एकवचनम् | 
      • वद् 1 P. (वदति, but Ātm. in certain senses and with certain prepositions; see below; उवाद, अवादीत्, वदिष्यति, वदितुम्, उदित; pass. उद्यते desid. विवदिषति) 1 To say, speak, utter, address, speak to; वद प्रदोषे स्फुटचन्द्रतारका विभावरी यद्यरुणाय कल्पते Ku.5.44; वदतां वरः R.1.59 ‘the foremost of the eloquent’. -2 To announce, tell, communicate, inform; यो गोत्रादि वदति स्वयम्. -3 To speak of, describe; आश्चर्यवद्वदति तथैव चान्यः Bg.2.29. -4 To lay down, state; श्रुतिस्मृत्युदितं धर्ममनुतिष्ठन् हि मानवः Ms.2.9;4.14. -5 To name, call; वदन्ति वर्ण्यावर्ण्यानां धर्मैक्यं दीपकं बुधाः Chandr.5. 45; तदप्यपाकीर्णमतः प्रियवदां वदन्त्यपर्णेति च तां पुराविदः Ku.5. 28. -6 To indicate, bespeak; कृतज्ञतामस्य वदन्ति संपदः Ki. 1.14. -7 To raise the voice, utter a cry, sing; कोकिलः पञ्चमेन वदति; वदन्ति मधुरा वाचः; &c. -8 To show brilliance or proficiency in, be an authority of (Ātm.); शास्त्रे वदते Sk., पाणिनिर्वदते Vop. -9 To shine, look splendid or bright (Ātm.); लङ्का समाविशद् रात्रौ वदमानो$रिदुर्गमाम् Bk. 8.27. -10 To maintain, affirm. -11 To toil, exert, labour (Ātm.); क्षेत्रे वदते Sk. -Caus. (वादयति, ते) 1 To cause to speak or say. -2 To cause to sound, play on a musical instrument; वीणामिव वादयन्ती Vikr.1.1; वादयते मृदु वेणुम् Gīt.5. -3 To speak, recite.
  8. सत्यं वदिष्यामि ⇒ 
    • सत्यम् ⇒ सत्य a. [सते हितं यत्] 1 True, real, genuine; as in सत्यव्रत, सत्यसंध. -2 Honest, sincere, truthful, faithful. -3 Fulfilled, realized. -4 Virtuous, upright. -5 Un- failing; कच्चिच्छुश्रूषसे तात पितुः सत्यपराक्रम Rām.2.1.7. -त्यः 1 The abode of Brahman and of truth, the uppermost of the seven worlds or lokas above the earth; see लोक. -2 The Aśvattha tree. -3 N. of Rāma. -4 Of Viṣṇu; सत्यव्रतं सत्यपरं त्रिसत्यं सत्यस्य योनिं निहितं च सत्ये । सत्यस्य सत्यमृतसत्यनेत्रं सत्यात्मकं त्वां शरणं प्रपन्नाः ॥ Bhāg.1.2.26. -5 The deity presiding over नान्दीमुखश्राद्ध q. v. -6 N. of Brahman; अव्ययस्याप्रमेयस्य सत्यस्य च तथाग्रतः Mb.1.37.5. -त्यम् 1 Truth; मौनात्सत्यं विशिष्यते Ms.2.83; सत्यं ब्रू ‘to speak the truth’. -2 Sincerity. -3 Goodness, virtue, purity, -4 An oath, a promise, solemn asseveration; सत्याद् गुरुमलोपयन् R.12.9; Ms.8.113. -5 A truism demonstra- ted truth of dogma. -6 The first of the four Yugas. or ages of the world, the golden age, the age of truth and purity. -7 Water -8 The Supreme Spirit; हिरण्मयेन पात्रेण सत्यस्यापिहितं मुखम् Īśop.15. -9 Final emancipation (मोक्ष); इह चेदवेदीदथ सत्यमस्ति न चेदिहावेदीन् महती विनष्टिः Ken.2.5.
  9. तन्मामवतु ⇒
    • सन्धिविच्छेदैः ⇒ तत् माम् अवतु 
    • अवतु ⇒ अव्-इति धातुः | अवँ रक्षण-गति-कान्ति-प्रीति-तृप्त्यवगम(तृप्ति-अवगम)-प्रवेश-श्रवण-स्वाम्यर्थ(स्वामी-अर्थ)-याचन-क्रियेच्छा(क्रिया-इच्छा)-दीप्त्यवाप्त्यालिङ्गन(दीप्ति-अवाप्ति-आलिङ्गन)-हिंसा-दान-भाग-वृ॒द्धिषु So many shades of meaning ! अत्र लोटि (आज्ञार्थे) प्रथमपुरुषे एकवचनम् |
      • अव् 1 P. [अवति, आव, आवीत्, अविष्यति, अवितुम्, अवित or ऊत] 1 To protect, defend; सह नाववतु Tait 2.1.1. यमवता- मवतां च धुरि स्थितः R.9.1; प्रत्यक्षाभिः प्रपन्नस्तनुभिरवतु वस्ता- भिरष्टाभिरीशः Ś.1.1. -2 To please, satisfy, give pleasure to; do good to; विक्रमसेन मामवति नाजिते त्वयि R.11.75; न मामवति सद्वीपा रत्नसूरपि मेदिनी. 1.65. -3 To like, wish, desire, love. -4 To favour, promote, animate. (In the Dhātu- pāṭha several other meanings are assigned to this root, but they are very rarely used in classical literature; e. g. गति, कान्ति, अवगम, प्रवेश, श्रवण, स्वाम्यर्थ or सामर्थ्य, याचन, क्रिया, दीप्ति, अवाप्ति, ग्रहण, व्याप्ति,आलिङ्गन, हिंसा, आदान, दहन, भाव, भाग, and वृद्धि). -Caus. To consume, devour. -With अनु to encourage, inspire. -उद् 1 to regard, attend to. -2 to wait for. -3 to promote, impel. -उप 1 to cherish, behave friendly towards. -2 to encourage. -सम् 1 to satisfy, satiate. -2 to protect, maintain. [cf. L. aveo].
  10. तद्वक्तारमवतु ⇒ 
    • सन्धिविच्छेदैः ⇒ तत् वक्तारम् अवतु |
    • वक्तारम् ⇒ वच्-धातोः तृच्-कृदन्तम् वक्तृ | अत्र पुँल्लिङ्गि | तस्य द्वितीया विभक्तिः एकवचनम् | 
      • ण्वुल्तृचौ (पा. सू. ३।१।१३३) (लघुसिद्धान्तकौमुद्याम् ७८७), धातोरेतौ स्तः। कर्तरि कृदिति कर्त्रर्थे॥
  11. अवतु माम् ⇒
  12. अवतु वक्तारमवतु वक्तारम् ⇒ 
    • सन्धिविच्छेदैः ⇒ अवतु वक्तारम् | अवतु वक्तारम् |
  13. ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ⇒ 
    • शान्तिः f. [शम्-क्तिन्] 1 Pacification, allayment, alleviation, removal; अध्वरविघातशान्तये R.11.1,62. -2 Calmness, tranquility, quiet, ease, rest, repose; स्मर संस्मृत्य न शान्तिरस्ति मे Ku.4.17; शान्तिः कुतस्तस्य भुजङ्गशत्रोः Māl.6.1; यत् किंचिद् वस्तु संप्राप्य स्वल्पं वा यदि वा वहु । या तुष्टिर्जायते चित्ते सा शान्तिः कथ्यते बुधैः ॥ Padma P. -3 Cessation of hostility; सर्पस्य शान्तिः कुटिलस्य मैत्री विधातृसृष्टौ न हि दृष्टपूर्वा Bv.1.125. -4 Cessation, stop. -5 Absence of passion, quietism, complete indifference to all worldly enjoyments; तदुपहितकुटुम्बः शांन्तिमार्गोत्सुको$भूत् R.7.71. -6 Consolation, solace. -7 Settlement of differences, reconciliation. -8 Satisfaction of hunger. -9 An expiatory rite, a propitiatory rite for averting evil; शान्तयश्चापि वर्धन्तां यथाकल्पं यथाविधि Rām.1.8.16. -10 Good fortune, felicity, auspiciousness. -11 Exculpation or absolution from blame. -12 Preservation. -13 N. of Durgā. -14 Destruction, end, death.

विमर्शाः Notes 

(1) The first two sentences ॐ वाङ् मे मनसि प्रतिष्ठिता | मनो मे वाचि प्रतिष्ठितम् bring to mind the ever-important concept of uniformity in thought, word and deed. Probably, by this, the implied meaning can be, “I pray wholeheartedly with (these) words”

(2) Actually, since uttered word is only the fourth stage of वाक्, overall meaning of वाक् includes thought. But is not thought more an activity of the intellect, than of mind ? Maybe, to become प्रतिष्ठित is needed more for the mind than for the intellect. Optionally, instead of worrying over whether, to become प्रतिष्ठित is needed more for the mind than for the intellect, implied meaning of these two sentences can be taken as “I pray with all my faculties focused together.”

(3) For the third sentence, I came across two versions आवीरावीर्म एधि (or आविराविर्म एधि), the difference being due to the words आविः / आवीः. From Apte’s dictionary, general meaning of both is “pain”. Meaning of आवीरावीर्म एधि (or आविराविर्म एधि) then becomes “may there be increase in my pain by pain”. This meaning does not match with the meaning “Let the Knowledge of the Self-Manifest Atman Grow in Me”. 

  • Actually there is a word आविर्भावः which has a component आविर्. In Apte’s dictionary, आविर्भावः आविर्भूतिः f. 1 Manifestation, presence, appearance. -2 An incarnation. -3 Nature or property of things. 
  • Looks like it is the meaning of आविर्भावः /आविर्भूतिः which is taken to be the meaning of आविः , आवीः, आविर्. 

(4) In the fourth sentence वेदस्य मे आणीस्थः the etymology and grammar of आणीस्थः are not understood. So as of now I have to go by the meaning as obtained.

(5) In the fifth sentence श्रुतं मे मा प्रहासीः meaning of श्रुतम् as knowledge is quite appealing. Since knowledge is best acquired by listening to a Guru, श्रुतम् is knowledge.

  • The form प्रहासीः merits a deliberation. As mentioned above, it is प्र+हा इति धातुः | तस्य लुङि (अनद्यतनभविष्यत्काले) मध्यमपुरुषे एकवचनम् | For धातुः हा without the prefix  प्र, the form is अहासीः. With the prefix प्र the form should be प्राहासीः . The अ gets dropped in the presence of मा, in both cases, with the prefix or without the prefix. Such is the force and influence of मा. 
  • Since the form has also the attribute of मध्यमपुरुषे एकवचनम्, the subject is त्वम्. By that the complete sentence is त्वम् मे श्रुतं मा प्रहासीः = You will not forsake my learning = You will not go away from my learning. This presumes that ‘my learning’ has also Your association with it, in it, within it. If You forsake that association, ‘my learning’ will become devoid of substance.” This is a charming thought, to see Him even in every bit of learning ! The knowledge that is implied is the knowledge of the Supreme and knowledge of self as well ! 

(6) अनेन अधीतेन अहोरात्रान् संदधामि = By this learning / knowledge I shall put together number of days and nights. This brings to mind a phrase सूत्रे मणिगणा इव (गीता ७’७) Pearls tied by a thread. Learning / knowledge is the thread. Days and nights are the pearls of time. This sentence brings forth passion and perseverance required, so that one would be eligible for the knowledge of the Supreme and of self. Great !

(7) ऋतं वदिष्यामि | सत्यं वदिष्यामि | तन्मामवतु | तद्वक्तारमवतु | अवतु माम् | अवतु वक्तारम् | अवतु वक्तारम् |

  • I think it is good to utter all this in this manner of seven sentences. संधि-s in third and fourth sentences need not be broken. But संधि-s joining sentences 4, 5, 6 and 7 may rather be separated. This way the utterance would be with the meaning also clear in the mind and hence, with as much better devotion. If I have to teach somebody the manner of uttering these, I would advocate utterance in this manner of seven sentences. 
  • There is quite some repetition in the sentences 3 to 7. But that is intentional. All of them have the verb अवतु. One thing that justifies the repetition is the number of meanings of the धातुः अव् as already detailed.  
  • These parts match so well with similar parts in श्रीगणपत्यथर्वशीर्षम् – ऋतं वच्मि | सत्यं वच्मि | अव त्वं माम् | अव वक्तारम् | …. 

() Apart from knowing the meanings sentence by sentence, it becomes a good study to look at the continuity of thought across all the sentences together.

ॐ वाङ् मे मनसि प्रतिष्ठिता | मनो मे वाचि प्रतिष्ठितमाविराविर्म एधि। वेदस्य म आणिस्थः | श्रुतं मे मा प्रहासीरनेनाधीतेनाहोरात्रान् संदधाम्यृतम् वदिष्यामि सत्यं वदिष्यामि | तन्मामवतु तद्वक्तारमवत्ववतु मामवतु वक्तारमवतु वक्तारम् |

Om ! (solemnly may this utterance commence) ! I realize that my speech is in unison with my mind. My mind is unison with my speech. May this knowledge grow, by every realization. May I be the knower. May He not forsake my learning. May this knowledge be with me day and night over days and nights. May I be speaking what is right. May I be speaking the truth. May this be to protect me. May this be for the protection of the speaker. May this be for the protection of whoever says this.

॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥ May the peace be. 

Howsoever good a translation, one would attempt, it can never match reciting the original Sanskrit mantra, soaking every sound deep into the mind and heart. Only then one would realize how meaningful even the repetitions are !


Categories: Sanskrit Blogs

सूफ़ियों की समा में श्याम रंग

Balramshukla's Blog - Mon, 02/20/2017 - 23:32

  गीर्वाणवाणीरुचिरावकाशे चरामि वा सुन्दरपारसीके।      मदीयकर्णौ शृणुतः सदैव तवैव सर्वत्रग कृष्ण वर्णान्॥ सदार्यनारीवदनारविन्दे नितम्बिनीनामथ यावनीनाम्।    तवाननाभाभ्रमतोऽरविन्दद्वयाक्ष मेऽक्षीणि धृतव्रतानि॥ به هر رنگی که خواهی جامه می پوش — من انداز قدت را می شناسم बे̆ हर रंगी कि ख़ाही जामा मी पूश – मन अन्दाज़े क़दत रा मी शनासम (हे प्रिय, चाहे तुम किसी भी वेश में आ जाओ – मैं तुम्हारे स्वरूप की अलोकसामान्य उच्चता से तुम्हें पहचान लूँगा )

A paper of mine describing Shri Krishna as a poetic symbol in Sufi literature is published in Tasfiah-A bi-annual multi language journal of Sufism and Islamic Studies.

भारत में इस्लाम केवल मुसल्लह ग़ाज़ियों के ज़रिये ही नहीं बल्कि तस्बीह–ब–दस्त सूफ़ियों की करामात से भी दाख़िल हुआ था। सूफ़ी ‘हमे अज़ ऊस्त’(सारा अस्तित्व उसी परमेश्वर से उत्पन्न हुआ है), तथा ‘हमे ऊस्त’(सम्पूर्ण अस्तित्व तथा परमेश्वर में कोई अन्तर नहीं है), की मान्यता के क़ायल रहे हैं। उन्हें तो हर देस में हर भेस में अपना महबूब ही दिखाई पड़ता है। जिस जगह धर्माचार्य पत्थर की मूरत भर देख पाता है वहीं प्रेम रंग में सराबोर सूफ़ी ख़ुदा का दीदार करता है।  वे तो जल्लाद से डरते हैं न वाइज़ से झगड़ते। वो समझे हुए हैं उसे जिस भेस में वो आये। यही कारण है कि भारत में आने पर यहाँ के हन्दुओं में पूर्व प्रचलित आध्यात्मिक प्रतीकों से उन्हें गुरेज़ नहीं हुआ। अजनबीपन और अपरिचय का डर तो उनको होता है जिनकी साधना कच्ची होती है। ऐसे लोगों का ईमान डावाडोल होता है । माबूद (उपास्य) को खो देने का, दीन से ख़ारिज हो जाने का डर उनमें समा जाता है। हज़रत अली का क़ौल है–आदमी जिसको नहीं जानता उससे घृणा करने लगता है, या डरने लगता है  (अन्नासु आदाउ मा जहिलू[1])। डरा हुआ आदमी प्रेम नहीं कर सकता वह तो दूसरों को भी डराता है। श्रीकृष्ण का कथन है कि मेरे प्रिय भक्त वे हैं जो न डरते हैं और न डराते हैं[2]। डरने वालों का महबूब की गली में कोई काम नहीं – उनका तो वहाँ प्रवेश ही निषिद्ध है – बर दरे माशूक़े मा तर्सन्देगान् रा कार नीस्त[3]

ईश्वरीय लोगों में यह सामर्थ्य होता है कि वे अहंकार के ज़ाहिरी पर्दे को हटा पाते हैं[4] । वे ईमान (मुखड़े) के साथ कुफ़्र (ज़ुल्फ़) को भी महबूब का जुज़्व (हिस्सा) ही समझते हैं क्योंकि उनके नज़दीक ग़ैरे महबूब किसी चीज़ का वजूद ही नहीं होता –ग़ैरे वाहिद हर चे बीनी आन् बुत अस्त [5]उनका हृदय समन्दर की तरह विशाल होता हैँ[6] जिसमें सारी नदियाँ एकमेक हो जाती हैं-बिना किसी पारस्परिक मतभेद के। उनके हृदय में  सारी इकाइया̆ एक में विलीन हो जाती हैं[7]। सूफ़ियों की यही सार्वजनीननता उन्हें स्वीकार्य बनाती है।

सूफ़ी मत का जन्म भले ही अरब में हुआ हो उसे सर्वाधिक अनुकूल वातावरण भारतवर्ष में प्राप्त हुआ। इसका कारण यह था कि भारतवर्ष में ऐसे अनेक सम्प्रदाय पहले से विद्यमान थे जिनमें सूफ़ियों जैसी मान्यतायें विद्यमान थीं। रिज़वी (२०१४: भूमिका१) के अनुसार–

प्राचीनकाल से ही भारतवर्ष में ऐसे संत होते आये हैं जो अपनी अमृतमयी

वाणी के द्वारा सद्भावों तथा सद्विचारों के प्रचारक रहे हैं। इस वातावरण में

इस्लामी तसव्वुफ़ अथवा सूफ़ीमत का रंगरूप और भी उज्ज्वल हो गया और

सूफ़ियों ने मानव कल्याण के क्षेत्र में विशेष योग दिया।

इसके अतिरिक्त सूफ़ियों के हमे–ऊ,स्त (अर्थात्, सब कुछ परमेश्वर है।) का सिद्धान्त पारम्परिक इस्लाम की अपेक्षा भारतीय दर्शन के अद्वैतवाद के साथ अधिक समान था[8]। साथ आने पर दोनों सिद्धान्तों ने एक दूसरे को प्रभावित किया तथा दोनों एक दूसरे से पुष्ट हुए। इस प्रकार का पारस्परिक आदान प्रदान जीवन्त संस्कृतियों का अभिलक्षण होता है। भारतीय सूफ़ी काव्य ने संस्कृत, प्राकृत तथा अपभ्रंश की साहित्य परम्पराओं से कविता की संरचना तो ली ही उन्होंने अपने सिद्धान्तों को भारतीय परिप्रेक्ष्य में बयान करने तथा लोगों को समझाने के लिए भी भारत में युगों से प्रचलित सांस्कृतिक प्रतीकों का भरपूर उपयोग किया[9]

सूफ़ी काव्यों में अपने प्रारम्भिक समय से ही अनेक प्रतीकों का प्रयोग शुरू हो गया था। इस प्रसंग में इस विषय पर विचार रोचक होगा कि रहस्यवादी काव्य में प्रतीक की आवश्यकता क्यों पड़ती है। वस्तुतः प्रतीक की आवश्यकता तब होती है जब हमारा वर्णनीय तत्त्व निर्गुण तथा सूक्ष्म हो। निर्गुण तत्त्व मानस की गति से परे है। उसकी उपासना सम्भव नहीं। परन्तु उपास्य की उपासना के बिना साधक की गति भी नहीं है। क्योंकि उसे जाने बिना संसार चक्र से छुटकारा नहीं मिलने वाला है। इस समस्या के समाधान के लिये विभिन्न सिद्धान्तियों ने अलग अलग मार्ग निकाले हैं। सूफियों की निर्गुण धारा ज्ञानमार्गियों की तरह नितान्त निर्गुण नहीं है। वहाँ परमेश्वर सगुण और निराकार है। ऐसे निराकार तत्त्व में स्थित गुणों के दिग्दर्शन के लिये सूफ़ियों को अपने प्रारम्भिक काल से ही भिन्न भिन्न प्रतीकों की कल्पना करनी पड़ी। फारसी तथा उससे प्रभावित उर्दू आदि काव्यों में हम एक प्रकार की सरस द्विकोटिकता का अनुभव करते हैं, इसका कारण उपर्युक्त प्रतीक प्रयोग ही है। इन काव्यों का अध्ययन करते हुए हम अनुभव करते हैं कि चर्चा ऐहलौकिक प्रियतम की हो रही है लेकिन अर्थ निराकार परमेश्वर में भी पर्यवसित हो रहा होता है। शृङ्गार रस तथा भक्ति–भाव का ऐसा मिला–जुला स्वरूप भारतीय साहित्य में मूलतः नहीं रहा। संस्कृत की कविता में शायद ही कोई ऐसा उदाहरण हो जिसमें नायिका की चर्चा करते हुए परमतत्त्व की बात की जा रही हो। इस स्पष्ट विभाजन का कारण है कि भारतीय धर्म ने परमेश्वर को स्वयं देहधारी स्वीकार कर लिया था अतः वह इन्द्रियों के द्वारा संवेद्य हो गया। उसके लिए किसी अन्य प्रतीक की आवश्यकता नहीं पड़ी[10]

प्रतीकों का उपयोग करके कवि निम्नलिखित लाभों को ग्रहण कर पाता है[11]

  • सूक्ष्म भावों को स्थूल रूप में प्रस्तुत कर पाना।
  • अपरिचित वस्तु का किसी परिचित आधार पर परिचय देना।
  • अप्रस्तुत के वर्णन से प्रस्तुत के विषय में जिज्ञासा पैदा करना।
  • विषय वस्तु का ध्वनन।
  • दो विषयों का प्रतिपादन एक साथ करना।

सूफ़ियों ने अलौकिक परमात्म–वस्तु का वर्णन करने के लिए लौकिक प्रतीकों का उपयोग किया है इसका कारण है भारतीय वैष्णव सन्तों की भाँति उनकी जगत् को देखने की अपूर्व दृष्टि। हज़ारी प्रसाद द्विवेदी ने इस प्रवृत्ति को वैष्णवों के चिन्मुखीकरण के समकक्ष रखा है (रिज़वी २०१४: प्राक्कथन ५–६)–

…जगत् के समस्त क्रियाकलाप का चिन्मुखीकरण ही वैष्णव साधकों का

और सूफ़ी साधकों का भी, प्रधान लक्ष्य है। संसार के जितने भी सम्बन्ध हैं

वे सभी जडोन्मुख न होकर यदि चिन्मुख हो जायँ तो मनुष्य के सर्वोत्तम

पुरुषार्थ के साधक हो जाते हैं[12]।…..जो साधारण जगत् का जडविषयक राग

वह चिन्मुख होकर श्लाघ्य हो जाता है। इसी बात को बताने के लिए लौकिक

प्रतीकों की आध्यात्मिक व्याख्या की जाती है।

इस्लाम के आने से पहले ही भारत में श्रीकृष्ण की रसराज के रूप में प्रतिष्ठा हो चुकी थी[13]। श्रीमद्भागवत के व्रजेन्द्रनन्दन कान्हा महाभारत के पराक्रमशील वीरवर श्रीकृष्ण की अपेक्षा हृदय के अधिक निकट लगते थे। लोक परम्परा में गोपियों से उनकी प्रेमगाथायें सर्वत्र व्याप्त थीं। रसीले लोकगीतों में उनके अतिरिक्त कोई और नायक हो भी नहीं सकता था। श्रीकृष्ण की प्रेम लीला के आध्यात्मिक अर्थ निकालने की परम्परा प्रारम्भ से ही वैष्णव सम्प्रदायों में विद्यमान थी। स्वयं श्रीमद्भागवत के अनुसार कृष्ण ने गोपियों के साथ ऐसे रमण किया जैसे कि कोई बच्चा अपने ही प्रतिबिम्ब के साथ खलने लगे–

रेमे रमेशो व्रजसुन्दरीभिर्यथार्भकः स्वप्रतिबिम्बविभ्रमः। (श्रीमद्भागवतम् १०–३३–१६)

इस स्थिति में यह असम्भव था कि कृष्ण भारतीय सूफ़ी कवियों के लिए प्रतीक के रूप में उपयुक्त नहीं होते। सूफ़ी काव्य में श्रीकृष्ण की उपस्थिति की चर्चा हम सबसे पहले ख़ुदावन्दगार मौलाना जलालुद्दीन रूमी तथा उनके माशूक और मुर्शिद शम्सुद्दीन तबरेज़ी से शुरू करते हैं। मौलाना के भारत के साथ परिचय के सबसे प्रमुख साधन बने थे उनके गुरु एवं परम प्रेमास्पद–शम्सुद्दीन तबरीज़ी। अनेक विद्वानों का मानना है कि शम्स का सम्बन्ध भारत से था । दौलतशाह, जो कि मौलाना के प्राचीन जीवनी लेखक हैं, उनके अनुसार शम्स के पिता नौ–मुसलमान (अर्थात् धर्मपरिवर्तक)  थे तथा उनका नाम – खोविन्द जलालुद्दीन था। Dr. Rasih Guven  ने अपने लेख  Maulana Jalal ul Din and ShamsTabrizi[14] ने प्रबल सम्भावना जताई है कि उनका नाम गोविन्द रहा होगा जो एक भारतीय[15] नाम है। उनके पूर्वज भारत से तबरीज़ व्यापार किया करते थे तथा कालान्तर मे मुसलमान हो गये थे। स्वयं मौलाना शम्स (अर्थात् सूर्य) का सम्बन्ध पूर्व से जोड़कर अनेक बार काव्यात्मक चमत्कार उत्पन्न करते हैं[16] । इससे भी यह पता चलता है कि शम्स मूलतः तबरीज के नहीं थे क्योंकि तबरीज ईरान के पश्चिम में है पूरब में नहीं[17]। मौलाना भारतीय कहानियों तथा दर्शनों से बहुत अधिक परिचित लगते हैं। उन्होंने पंचतन्त्र की अनेक नीतिकथाओं का आध्यात्मिकीकरण अपनी मसनवी में दर्शाया है[18]। सैयद अमीर हसन आबिदी ने अपने लेख में मौलाना की जन्मभूमि बल्ख़ में हिन्दू तथा बौद्ध सभ्यताओं के अवशेषों से उनके प्रभावित होने को अच्छी तरह से इंगित किया है। रूमी अगर अपनी मसनवी की शुरूआत बिना हम्द या नात या मनक़िबत के सीधे बंसुरी के बयान–नैनामा–के साथ शुरू कर रहे हैं, तो उस समय उनके मन में कहीं न कहीं श्रीकृष्ण की बाँसुरी है[19]

बिश्नव अज़ नै चून् हिकायत मी कुनद । व,ज़ जुदाई–हा शिकायत मी कुनद[20]॥ आदि।।

पारम्परिक व्याख्या में बाँसुरी आदमी के गले की प्रतीक है। वह उसके जीवात्मा की आवाज़ है जिसके खाली छिद्रों के शुरुआती सिरे पर परमात्मा के होंठ हैं। उसी की फूँकी गयी वायु से बाँसुरी गुंजायमान है। ध्यातव्य है कि सूफ़ियों ने ईश्वर की साधना के रूप में संगीत–नृत्य आदि ललित कलाओं का उपयोग किया। ललित कलाओं की विशेषता है कि वे हमारे चित्त की रागात्मक वृत्तियों को उभारती हैं। द्रवित चित्त में कभी उत्तेजनात्मक वृत्तियाँ नहीं आ सकती। किसी के प्रति भी कठोर होने के लिये हमें पहले अपने को कठोर बनाना पड़ता है। इस प्रकार गीत संगीत चित्त को ईश्वराराधन के योग्य बनाता है। वैष्णवों के यहाँ संगीत प्रारम्भ से ही ईश्वराराधन के साधन के तौर पर मान्य है। संगीत की निस्बत से भी श्रीकृष्ण का सूफ़ियों के प्रतीक के रूप में उपस्थित होना स्वाभाविक हो जाता है।

सूफ़ियों को भी कृष्ण कथा के आध्यात्मिक अर्थ से ही स्वाभाविक रूप से अधिक रुचि थी।  श्रीकृष्ण तथा राधा की प्रेम कथायें सूफियों को भी अलौकिक रहस्यों से परिपूर्ण ज्ञात होती थीं। इनके लीला से सम्बन्धित पद तत्कालीन जनता के मानस में बसे हुए थे जिनका प्रयोग करके सूफ़ी सामान्य जनता के निकट हो सकते थे तथा अपने सन्देश को प्रसारित कर सकते थे। उन्होंने इन कविताओं का प्रयोग अपनी आध्यात्मिक महफिलों में शुरू किया। इन कविताओं का समा में गाया जाना मुल्लाओं को अच्छा नहीं लगता रहा होगा। शुद्धतावादियों की इस प्रकार की असहमति को हक़ायक़े हिन्दी में बिलग्रामी ने पूर्वपक्ष के रूप में उठाया है–

यदि कोई कहे कि अपवित्र काफ़िरों का नाम आनन्द लेकर सुनना एवं शरअ के विरुद्ध

साहित्य पर आवेश में आकर नृत्य करने लगना कहाँ से उचित हो गया तो हम कहेंगे

उमर बिन ख़त्ताब से लोगों ने सुनकर यह बात कही कि (क्या) क़ुरान में शत्रुओं का

उल्लेख तथा काफ़िरों के प्रति सम्बोधन नहीं है?

सूफ़ी साधना के इसी प्रकार के भारतीयकरण का एक प्रसंग बिलग्रामी से भी पहले शैख नूर क़ुत्बे आलम ( मृत्यु १४१५) के ख़ानक़ाह से सम्बद्ध भी लिखित मिलता है[21]। इन्हीं कारणों से लोक में प्रचलित श्रीकृष्ण परक पदों को अपने साधना हेतु स्वीकार करने के साथ सूफ़ियों ने इनमें प्रयुक्त प्रतीकों की अपने सम्प्रदायों के अनुरूप विभिन्न आध्यात्मिक (=मजाज़ी) व्याख्यायें प्रस्तुत कीं।  अकबर के समय लिखी अपनी पुस्तक हक़ायक़े हिन्दी में मीर अब्दुल वाहिद बिल्गिरामी (जन्म १५०९ ई॰ ) ने कृष्ण सम्बन्धी प्रतीकों से सूफ़ियों द्वारा लिये जाने वाले अर्थों के भिन्न भिन्न आयामों का विस्तार से वर्णन किया है। वस्तुतः इस महत्त्वपूर्ण पुस्तक में लेखक ने हिन्दी ध्रुपद और विष्णुपद गानों में लौकिक शृंगार के वर्ण्य विषयों को आध्यात्मिक रूप में समझने की कुंजी दी है[22]। इस पुस्तक से सूफी साधकों की उस उदार दृष्टि का पता चलता है जिससे उन्होंने हिन्दू और मुसलमान धर्म की एकता को खोज निकाला था। बिलग्रामी ने क़ुर्आन और हदीस से प्रमाण देकर अपने आध्यामिक संकेतों की प्रामाणिकता सिद्ध की है। इससे उनकी गम्भीर निष्ठा अद्भुत भक्ति और नितान्त उदार दृष्टि का सन्धान मिलता है। उन्होंने केवल शब्दों के आध्यात्मिक संकेत बताकर ही विश्राम नहीं लिया बल्कि इन शब्दों का आश्रयकरके जो विचार बन सकते हैं और बनते हैं उनको भी समझाने का प्रयत्न किया है[23]

बिलग्रामी के अनुसार–

“यदि हिन्दवी वाक्यों में कृष्ण अथवा उनके अन्य नामों का उल्लेख हो तो उससे रिसालत पनाह सल्लम (मुहम्मद साहब ) की ओर संकेत होता है। और कभी इसका तात्पर्य केवल मनुष्य से होता है। कभी इससे मनुष्य की वह वास्तविकता समझी जाती है जो परमेश्वर के ज़ात की वहदत से सम्बन्धित होती है। कभी इबलीस से भी तात्पर्य होता है। कभी उन अर्थों की ओर संकेत होता है जिनका अभिप्राय  बुत, तर्साबचा, तथा मुग़बचा से होता है”[24]

(मूल फ़ारसी) गर दर कलिमाते हिन्दवी ज़िक्रे किशन या आन् चे असामी ए ऊस्त वाक़ेअ शवद किनायत कुनन्द अज़ जनाबे रिसालत पनाह सल्ल,ल्लाहु अलैहि व सल्लम व गाह बर इंसानो गाह बर हक़ीक़ते ब–ऐतिबारे अह्दिय्यते ज़ात ओ गाह बर इब्लीसो गाह हम्ल कुनन्द बर आन् मा,नी कि अज़् बुतो तर्साबचे ओ मुग़बचे इरादत मी कुनन्द।

श्रीकृष्ण का व्यक्तित्व अकेला नहीं अपितु उनके साथ उनके पार्षद, उनका पूरा परिवार तथा उनकी लीलाएँ हैं । बिलग्रामी ने हक़ायक़े हिन्दी नामक अपने ग्रन्थ के  विष्णुपद नामक विभाग में आने वाले नामों की व्याख्या के सन्दर्भ में लगभग उन सभी आनुषङ्गिक नामों के सूफ़ियाना गूढार्थ बताये हैं। उदाहरण के लिये– गोपी या गूजरी का तसव्वुफ़ में तात्पर्य हो सकते हैं–१. फ़रिश्ता, २. मनुष्य जाति की वास्तविकता। कुबरी अथवा कुब्जा का अर्थ है दोषों और त्रुटियों से युक्त मनुष्य। ऊधो (उद्धव) का तसव्वुफ़ में तात्पर्य हो सकते हैं–१.मुहम्मद साहब, २. जिबरील, ३. ईमानदार ज़ामिन । ब्रज अथवा गोकुल शब्दों से १. आलमे नासूत, २. मलकूत या ३. जबरूत ग्रहण किया का सकता है। गंगा या जमुना का अर्थ होता है– वहदत की नदी जो मारिफ़त के समुद्र की ओर बहती हैं। इनका अर्थ हुदूस और इमकान की नहर भी होता है, क्योंकि जन्म लेने वाली वस्तुएँ लहरों एवं नहरों की तरह होती हैं। मुरली अथवा बाँसुरी का तात्पर्य अदम से वुजूद का नमूदार होना होता है। हिन्दवी जुम्लों में अगर कंस का उल्लेख आता हो तो सूफ़ी उससे १. नफ़्स, २. शैतान ३. ख़ुदा के क़हर और जलाल वाले नाम ४. पिछले पैगम्बरों की शरीअत, आदि अर्थ प्रसंगानुसार लेते हैं। सर्प से उनका तात्पर्य नफ़्से अम्मारा[25] से होता है। वृन्दावन, मधुपुरी, मधुवन आदि से सूफ़ी ईमन की वादी का मतलब निकालते हैं। मथुरा का तात्पर्य सूफ़ियों की अस्थायी मक़ाम है। नन्द से मुराद पैग़म्बर मुहम्मद तथा यशोदा ईश्वर की कृपा का द्योतक है[26]। हक़ायक़े हिन्दी में केवल व्यक्ति अथवा स्थानवाचक शब्दों  का ही नहीं अपितु कृष्ण लीला के गीतों में आये विभिन्न अभिव्यक्तियों का आध्यात्मिक अर्थ भी बताया गया है। अनेक स्थानों पर कृष्ण आदि उत्तम पात्रों के इब्लीस आदि अर्थ लेने के कारण यह बिलकुल नहीं लगता कि इन प्रतीकात्मक अर्थों को लेने के पीछे उनकी उन पात्रों के प्रति कोई श्रद्धा बुद्धि है। उनका एकमात्र उद्देश्य यह है कि इन शब्दों की व्याख्या इस तरह से की जाये कि वे सूफ़ी सिद्धान्तों के वाचक हो जायें तथा उनका व्यक्तिगत भाव मिट जाये। उदाहरण के लिये कृष्ण द्वारा गोपियों का रास्ता रोकने के प्रसंग को वे इब्लीस द्वारा साधकों के मार्ग में विघ्न डालना अर्थ लेकर कृष्ण का तात्पर्य शैतान से लेना बताते हैं। जबकि इसका और अधिक सूफी सम्मत अर्थ यह हो सकता था पीरे कामिल प्रारम्भिक साधना पूरी हो जाने के बाद सालिक को ज़ाहिरी शरीअत के रास्ते से रोकता है। इन प्रकार के प्रसंगों से लगता है कि मीर अब्दुल वाहिद बिलग्रामी का प्राथमिक उद्देश्य केवल यह था कि हिन्दवी गीतों का सूफी सम्मत अर्थ लगाकर उन्हें स्वीकार्य बनाया जाय और उनका साधनात्मक लाभ लिया जाये।

सूफ़ियों के ग्रन्थों में इस बात के स्पष्ट प्रमाण मिलते हैं कि अपनी रसमयी साधना के प्रसंग में वे पारम्परिक अरबी तथा ईरानी वस्तुओं की अपेक्षा भारतीय वातावरण के उपादानों में अधिक रम पाते थे। इसका साफ़ कारण, जिसको पहले भी बताया जा चुका है, यह था कि सूफ़ीवाद का यह स्वरूप हिन्दुस्तानी था, इसलिए स्वभावतः उसे यहाँ की वस्तुएँ अधिक हृदयावर्जक लगतीं। एक इसी तरह की घटना का ज़िक्र मुल्ला निज़ामुद्दीन ने किया है[27]

“एक बार सालन के शैख़ पीर मुहम्मद (मृत्यु १६८७) की ख़ानकाह में समा

चल रहा था तथा हिन्दवी गीत गाये जा रहे थे। उपस्थित लोग आनन्दातिरेक

में मग्न थे। जब सूफ़ियों का नृत्य और वज्द समाप्त हुआ, वे उठे और बहुत सुन्दर

कण्ठ से क़ुर्आन की आयत पढ़ी, लेकिन इसका उपस्थित लोगों पर कोई प्रभाव

नहीं हुआ–न तो नृत्य न ही वज्द। इसे देखकर शेख़ मुहम्मदी ने कहा– कितने

आश्चर्य की बात है कि क़ुर्आन सुनने के बावजूद कोई उत्तेजित नहीं हुआ जबकि

हिन्दवी कलाम जिनमें क़ुर्आन के विरुद्ध बाते हैं, सुनकर तुम उत्तेजित हो गये।

इसे सुनकर सैयद अब्दुर्रज़्ज़ाक़ प्रसन्न हुए तथा उन्होंने शैख़ मुहम्मदी के इस

आचरण का समर्थन किया[28]।”

इस प्रकार की व्याख्यायें सूफ़ियों की उदार दृष्टि से अधिक उनकी जनवादिता तथा प्रचार प्रियता की परिचायक हैं। इस प्रकार की व्याख्या से उनकी जिस मानसिकता का द्योतन होता है, वे हैं–

  • कोई भी वस्तु ईश्वर से ख़ाली नहीं है[29]। इसलिये प्रत्येक वस्तु अथवा स्थान से ईश्वर को प्राप्त किया जा सकता है। मौलाना रूमी का कथन है– मा,शूके तू हमसाया ए दीवार बे दीवार।

अथवा हाफ़िज़- वीन् अजब बीन् कि चे नूरी ज़ कुजा मी बीनम

  • कोई भी व्यक्ति ईश्वर की प्राप्ति की योग्यता से रहित नहीं है–

आन् हीच सरी नीस्त कि सिर्री ज़ि ख़ुदा नीस्त (हाफ़िज़)

  • सारे शब्दों तथा सारी पुस्तकों का तात्पर्य ईश्वर है, अतः सारी बातों की व्याख्या उसके पक्ष में की जा सकती है[30]

बिलग्रामी ने उद्धृत किया है–जिसकी रूह तजल्ला में रहती है उसके लिये समस्त संसार ईश्वर की पुस्तक है।[31]  तथा ज़ाहिर और बातिन सभी वस्तुओं को हस्ती समझ ले। और सभी वस्तुओं को क़ुरान और उसकी आयतें समझ ले।

इस प्रकार सूफ़ियों ने भारत की सांकृतिक धरोहर का इनकार या उसकी तक्फीर न करके उनका सूफीकरण किया तथा उन्हें और समृद्ध ही किया। बाहमी रवादारी, असंघर्ष, अनिराकरण तथा यदृच्छालाभ द्वारा सन्तुष्ट रहकर निरन्तर परमेश्वर के ध्यान में मग्न रहना ही उनकी सबसे बड़ी विशेषता है–

आशिक़ान् दर दैर रुह्बान् अन्दो दर मस्जिद इमाम

हर कि बा इश्क़ आशना शुद हीच जा बीकार नीस्त

(आशिक़ मन्दिर में पुजारी और मस्जिद में इमाम बन जाते हैं। जो भी प्रेम से परिचित हुआ

वह कहीं भी बेरोज़गार नहीं रहता॥)

सूफ़ी कवियों में ईरान से ही प्रेम गाथाओं की आध्यात्मिक व्याख्या की रिवायत मौजूद थी। लैला मजनूँ, खुसरौ–शीरीन्, यूसुफ़–ज़ुलैख़ा आदि पौराणिक प्रेम गाथाओं पर विश्वप्रसिद्ध मसनवियाँ लिखी जा चुकी थीं। इसी परम्परा से परिचित सूफ़ियों ने भारत में भी प्रचलित लोकगाथाओं के मजाज़ी स्वरूप का वर्णन  करके हक़ीक़ी अर्थों का दिग्दर्शन कराने की चेष्टा की[32]। ऐहलौकिक प्रेम हेय नहीं है, बल्कि वह तो उस पुल का पहला सिरा है जिसके आख़िरी सिरे पर पारलौकिक सत्य है–لمجاز قنطرة الحقیقة । उत्तर तथा दक्षिण भारत में सूफ़ी प्रेमाख्यान काव्यों की बड़ी समृद्ध परम्परा है। इसे हिन्दी साहित्य के इतिहासकारों ने भक्तिकाल की निर्गुण शाखा के प्रेममार्गी सन्तकाव्य के अन्तर्गत रखा है। इसमें प्रमुख कवि हैं उत्तर में मुल्ला दाउद (चन्दायन १३७८–७९) तथा जायसी (१५४०–४२) से लेकर कवि नसीर (प्रेमदर्पण–१९१७–१८) तक, तथा दक्षिण में निज़ामी–(कदमराव पदमराव १४५६ ई॰) से लेकर सिराज औरंगाबादी (बूस्ताने ख़याल १७४९ ई॰) तक[33]। इन हिन्दुस्तानी सूफ़ी प्रेमाख्यान गायकों में सबसे प्रसिद्ध जायसी हैं। इन्होंने पद्मावत के अतिरिक्त श्रीकृष्ण को नायक बनाकर एक काव्य कन्हावत की रचना भी की है। जायसी ने कृष्ण की कथा को प्रेम के वर्णन के लिये सर्वोत्कृष्ट कथा मानी है–

अइस प्रेम कहानी दोसरि जग महँ नाहिं। तुरुकी अरबी फारसी सब देखेउँ अवगाहि॥

(कन्हावत पृ॰ १२ दोहा १४)

इसमें ऊपरी तौर पर तो कृष्ण की लोकप्रसिद्ध गाथा का वर्णन है लेकिन साथ ही उन्होंने कई स्थलों पर कृष्ण कथा के सूफ़ी मतानुसार आध्यात्मिक अर्थों की ओर भी संकेत किया है–

परगट भेस गोपाल गोबिन्दू। गुपुत गियान न तुरुक न हिन्दू॥ (कन्हावत)

कन्हावत के अतिरिक्त अपनी दूसरी कृति पद्मावत में भी जायसी ने कृष्ण के ऐतिहासिक प्रतीक का बार बार उपयोग किया है–

ले कान्हहिँ अकरूर अलोपी । कठिन बियोग जियहिँ किमि गोपी॥ (पद्मावत)

श्रीकृष्ण के प्रतीकों का सुन्दर उपयोग हमें काकोरी के क़लन्दरिया ख़ानक़ाह के संस्थापक हज़रत तुराब काकोरवी (मृत्यु १८०६) के हिन्दवी काव्यों में मिलता है। जब वे श्रीकृष्ण को अपने पीर या महबूब की शक्ल में पेश कर पाते हैं तो इसमें उनका वही विशाल हृदय और मज़बूत ईमान दीख पड़ता है । जहाँ ज़ाहिद को कुफ़्र दीखता है वहीं शाहिद अपना महबूब ढूँढ लेता है।श्रीकृष्ण तथा उनसे सम्बद्ध प्रतीकों का प्रयोग उनके काव्य में कृष्णमार्गी वैष्णव कवियों की तरह ही है । और यह महत्त्वपूर्ण विशेषता उन्हें सभी निर्गुण सन्त कवियों, चाहे वे प्रेममार्गी हों या ज्ञानमार्गी, से पृथक् करती है।

हज़रत तुराब काकोरवी फ़ारसी, अरबी आदि भाषाओं में सिद्धहस्त थे तथा इन सबकी काव्य परम्पराओं से सुपरिचित।  उनके कलाम फ़ारसी भाषा में भी उपलब्ध होते हैं । परन्तु उर्दू कवियों के विपरीत अपनी हिन्दी कविता में उन्होंने फ़ारसी जगत् के काव्य प्रतीकों या रूढियों गुलो–बुलबुल, शीरीं–फरहाद आदि का प्रयोग नहीं किया है । उनके यहाँ तो बसन्त है, होरी है, वर्षा है, हिंडोला है, कोयल है, पपिहे की पियु पियु है, दादुर (मेढक) का शोर है और हिन्दुस्तान की अपनी विशेषता रिश्तों की अहमियत – ननद तोरा बिरना, नन्द के लाला, जसमत के लंगरवा ये सभी प्रचुर मात्रा में हैं । इससे उनका काव्य ठेठ हिन्दुस्तानी सौंधी गन्ध से सुवासित हो गया है । और इसी में तुराब की तुराबिय्यत है[34] । इसी क्रम में दिव्य अथवा लौकिक प्रेम को व्यञ्जित करने के लिये उनके उपमान लैला मजनूँ, शीरीं – फ़रहाद आदि नहीं  बल्कि भारतीय रसिक जनों के प्राणभूत राधा– कृष्ण हैं जिनका बहाना लेकर भक्ति तथा रीति काल के हिन्दी कवियों ने अपने भक्ति और शृङ्गार सम्बन्धी उद्गार प्रकट किये हैं[35]। भारतीय जनमानस इनसे एक विशेष प्रकार की निकटता का अनुभव करता है, चाहे वह किसी वर्ग या धर्म से सम्बन्धित हो। श्रीकृष्ण का साँवला रङ्ग भारतीय उपमहाद्वीप का प्रतिनिधि रङ्ग है । उनकी सरस बातें, तिरछी चितवन, रंगारंग बानक भारतीय जनसमूह के हृदय में धँस गया है  और कवियों का उपजीव्य स्रोत बन चुका है । हज़रत के काव्य में श्रीकृष्ण पूर्णतः रस्य तथा अनुभव कर सकने की सीमा तक वर्णित हुए हैं । यह वर्णन कबीरदास के – “केसौ कहि कहि कूकिये, गुरुग्रन्थसाहब के साँवर सुन्दर रामैया मोर मन लागा तोहे तथा कवीन्द्र रवीन्द्र के एशो श्यामल शुन्दर की अपेक्षा अधिक सरस, रंगीन तथा अनुभाव्य है। ऊपर उद्धृत काव्य केवल कृष्ण के नाम तथा प्रतीकमात्र का उपयोग करते हैं । इनमें कृष्ण अपने सर्वसामान्य रूप में नहीं आते और निर्गुण ब्रह्म की एक छवि उन पर हावी हो रहती है । वस्तुतः श्रीकृष्ण की छवि इस क़दर रंगीन है कि वे सगुणता की प्रतिमूर्ति ही प्रतीत होते हैं । यही कारण है कि भक्तिकालीन निर्गुण धारा के कवियों में परब्रह्म के प्रतीक के रूप में जितना राम का उपयोग किया गया है उतना कृष्ण का नहीं क्योंकि उन कवियों का लक्ष्य अन्ततः निर्गुण तत्त्व ही था। इसके विपरीत तुराब के कृष्ण केवल ध्यानगम्य ही नहीं हैं बल्कि अपने पूरे सौन्दर्य के साथ सपार्षद विद्यमान हैं । उनके पास काली कामर (कम्बल), पिछौरी पाग (मोरपंख का मुकुट) है, मोहनी मूरत–सोहनी सूरत है और आँखें रसीली और लाजभरी हैं । वे ढीठ हैं, लंगर हैं । एक बार उनकी नज़र किसी पर लग गयी फिर छोड़ते नहीं । यहाँ जसमत (यशोमती) भी हैं,नन्द भी हैं,राधा – बृषभान किशोरी भी हैं, दूध–दही का बेचना भी है । उनसे रूठना है– जासो चाहें पिया खेलें होरी– मोसे नहीं कछु काम री गुइयाँ; मनाना है, उनके कठोर व्यवहार के लिये उलाहना देना है, उनकी जबरदस्ती के लिये उन्हें गालियाँ देना हैं । उनकी बेवफ़ाई का बखान है – तोरी प्रीत का कौन भरोसा– एक से तोरे एक से जोड़े । सौतिया डाह है – फाग मा भाग खुले सौतन के रीझे हैं उन पर श्याम री गुइयाँ ॥ पछतावा है – ऐ दई  नाहक पीत करी ॥ राधा का विरह में पीला पड़ना है – कान्ह कुँवर के कारण राधा – तन से भई पियरी दुबरी ॥ इन पुष्ट तथा सरस सचित्र वर्णनों के कारण तुराब के कृष्ण का निर्गुण ब्रह्म में पर्यवसान बहुत अन्त में हो पाता है  ।

तुराब के काव्य में कृष्ण के लौकिक तथा पारलौकिक अनेक प्रकार के रंग हैं । वह अधिकतर स्थानों पर पीरे कामिल (परिपूर्ण गुरु) के रूप में प्रकट होकर आये हैं । गुरु, शिष्य के अहंकार की चिरसञ्चित मटकी को फोड़ कर उसकी अन्तरात्मा को प्रेम रस में सराबोर कर डालता है । बिल्कुल वही जो कृष्ण गोपियों के साथ करते हैं । ज़बरदस्ती साधना के फाग में प्रेम का रंग लगाता है । वह अबीर घूँघट खोल कर मलता है । दूध–दही बेचने नहीं देता जैसे गुरु सांसारिक कार्यों से साधक को कुन्द कर देता है –फगवा माँगत रार करत है – कस कोई बेचे दूध दही ॥ वह लाज हर लेता है – ताली बजावत धूम मचावत – गाली सुनावत लाज हरत है ,बिलकुल मौलाना रूम के साक़ी की तरह – बरख़ीज ऐ साक़ी बिया – ऐ दुश्मने शर्मो हया ॥

अनेक बार कृष्ण को परब्रह्म के प्रतीक के रूप में भी देखा जा सकता है । वह अपना मुख सबसे बचाये रखता  है – कुंज़ुन् मख़्फ़ीयुन् (کنج مخفی)[36] की तरह और रसिकों के मुँह पर अबीर मलता है।  वह कान्ह कुँवर रूपी ब्रह्म ही है जिसके विरह में राधा रूपी जीवात्मा तन से पीली और दुबली हो जाती है।

बाद के अनेक उर्दू कवियों ने भी श्रीकृष्ण को उपने काव्य का विषय बनाया है जिसमें अधिकतर तो चरितकाव्य अथवा श्रद्धास्पद की तरह  हैं। इन वर्णनों में सूफ़ियों जैसी द्विकोटिकता का अभाव है। लेकिन यह कहा जा सकता है कि श्रीकृष्ण को उर्दू की परम्परा में चरितनायक के रूप में वर्णन करने का साहस तथा प्रेरणा पूर्वोक्त सूफ़ियों की काव्य परम्परा के कारण ही मिल पाया है। अनेक स्थलों पर उर्दू कवियों ने भी श्रीकृष्णपरक प्रतीकों का सूफ़ियाना उपयोग भी किया गया है। कुछ प्रमुख उदाहरण प्रस्तुत हैं–

मुंशी बनवारीलाल शोला–

तु ही है हुस्ने रुखसारे हक़ीक़त । तु ही है परदा बरदारे हक़ीक़त॥

अलग कब तुझसे तेरी गुफ़्तो गू है। गरज इक तू ही तू है तू ही तू है॥

गोपीनाथ अम्न–

कोई पीताम्बर या जामा ए एहराम में आये

मुहम्मद की गली या कूचा ए घनश्याम में आये

ख़ुदा शाहिद कि सर झुकता है अहले दिल के क़दमों पर

मये साफ़ी से मतलब है किसी भी जाम में आये

मौलाना हसरत मोहानी –

पैग़ामे हयाते जाविदाँ था हर नग़्मा किशन बाँसुरी का

वो नूरे सियाह या कि हसरत सरचश्मा फ़रोग़े आगही का

निहाल स्योहारवी–

आ गया फिर हुस्न दुनिया ए अजल आबाद पर

ज़िन्दगी मथुरा पे बरसी आले ईजाद पर

कायनाते जुज़्व ओ कुल का राज़दाँ पैदा हुआ

मुख़्तसर ये है कि आक़ा ए जहाँ पैदा हुआ।

उपर्युक्त शाइरों के उदाहरणों में सीमाब अकबराबादी, निहाल स्योहारवी, नज़ीर बनारसी आदि के कृष्ण परक कलाम काबिले गौरो जिक्र हैं। श्रीकृष्ण की लीलाओं के गान के लिये नजीर अकबराबादी बहुत ही प्रसिद्ध हैं। कृस्न कन्हैंया का बालपन, जनम कन्हैयाजी और हरि की तारीफ़ में  आदि कथात्मक कवितायें कृष्ण लीला की उज्ज्वल तस्वीर खींचते हैं।  लेकिन सबसे रहस्यात्मक नातिया कलाम मोहसिन काकोरवी का है जिसमें ज़ाहिरी तौर पर श्रीकृष्ण को मुहम्मद साहब के प्रतीक के रूप में प्रयुक्त किया गया है। क़सीदे के शुरुवाती शेर हैं–

सम्ते काशी से चला जानिबे मथुरा बादल

अब्र के दोश पे लाती है सबा गंगाजल

देखिये होगा सिरीकृष्न का दरशन क्यूँकर

सीना–ए–तंग में दिल गोपियों का है बेकल

ध्यान देने की बात है कि जिस राधा कृष्ण के प्रतीक को लेकर हिन्दी के रीतिकालीन कवियों ने मुख्यतः शृंगारिक रचनायें की सूफ़ी कवियों ने इन्हीं प्रतीकों का उपयोग अपने सम्प्रदाय की आध्यात्मिक व्याख्या के लिए किया। इस प्रकार उन्होंने कृष्ण परक इन प्रतीकों को अर्थों के नये आयाम प्रदान किये तथा फ़ारसी काव्य की चिर परिचित द्विकोटिकता (=मजाज़ी तथा हक़ीक़ी) की पंक्ति में इन भारतीय प्रतीकों को भी जोड़ दिया।

 चयनित सन्दर्भ

फ़ारसी

(फारसी पुस्तकों के सन्दर्भ में क्रमशः पहले लेखक या संपादक का नाम , फिर तिरछे अक्षरों में पुस्तक का नाम , कोष्ठक में पुस्तक की विषयवस्तु हिन्दी में , प्रकाशक का नाम , प्रकाशनस्थान तथा प्रकाशनवर्ष दिये  गये हैं ।)

जमानी , करीम – शरहे जामे ए मसनवी (मसनवी की व्याख्या)–इन्तिशाराते इत्तेलाआत, तेहरान

१३९०हिजरी ।

जमालजादे,मुहम्मद अली –बांगे नाय (मसनवी की कहानियां ) – इन्तिशाराते अंजुमने किताब ,

तेहरान – १३३५ हिजरी ।

जर्रीनकूब,अब्दुल हुसैन – पिल्ले पिल्ले ता मुलाकाते खुदा ( मौलाना की जीवनी) –इन्तिशाराते इल्मी ,

तेहरान – तीसवां संस्करण  १३८९ हिजरी ।

ज़र्रीनकूब, अब्दुल हुसैन–दुम्बाले  ए जुस्तो जू दर तसव्वुफ़े ईरान (ईरानी सूफ़ीवाद पर प्रामाणिक पुस्तक ) मुवस्सिसे

इन्तिशाराते अमीर कबीर , तेहरान –१३८९ हिजरी।

फरुजान फर , बदीउज्जमान –शरहे हाले मौलवी (मौलाना की जीवनी) , किताबफरूशे जवार ,मशहद–

१३१५ हिजरी ।

मौलाना , जलालुद्दीन मुहम्मद इब्ने मुहम्मद (व्या॰) नसीरी, जाफर ; शरहे मसनवी ए मानवी (दफ्तरे

      यकुम), इन्तिशाराते तर्फन्द , –  तेहरान , १३८० हिजरी ।

मौलाना, जलालुद्दीन मुहम्मद इब्ने मुहम्मद (सं॰) निकोल्सन ,आर॰ ए॰;मसनवी ए मानवी–

     पादानुक्रमसहित, मास्को संस्करण, इन्तिशाराते हिरमिस , (चतुर्थ संस्करण) १३८६ हिजरी ।

मौलाना, जलालुद्दीन मुहम्मद इब्ने मुहम्मद (सं॰) कदकनी, मुहम्मद रजा शफीई – दीवाने शम्स तबरीज

    (मौलाना के दीवान का संक्षिप्त तथा सटिप्पण संस्करण) ,  इन्तशाराते सुखन– तेहरान , १३८८ हिजरी ।

मौलाना, जलालुद्दीन मुहम्मद इब्ने मुहम्मद (सं॰) निकोल्सन ,आर॰ ए॰– मसनवी ए मानवी, हुनरसराये

गूया– तेहरान , १३८९ हिजरी ।

English-

Arberry, A.J. – Tales from Masnavi , George Allen and Unwin LTD, Ruskin House

Museum Street , London – 1961

(Editors) Banani,Amin; Hovannisian,Rechard ; Sabagh, Georges – Poetry and Mysticism in Islam : The Heritage of Rumi , Cambridge University Press – 1994

(Editor) Quasemi, Sharif Husein ; Maulavi Flute ,New age International (P) Limited. Publishers, New Delhi et.c.-1997

Rizvi, Syed Athar Abbas. A History of Sufism in India (Vol.1). Munshiram Manoharlal Publishers Pvt. Ltd. New Delhi. (IVth reprint)2012

Rizvi, Syed Athar Abbas. A History of Sufism in India (Vol.2). Munshiram Manoharlal Publishers Pvt. Ltd. New Delhi. 1983

(ed.)Singh, Abhay Kumar (March 2016) Mithra- The Journal of Indo Iranian Studies. Bareily : Indo Iranian Studies Centre, MJP Rohilkhand University.

Hindi-

(सं॰) अख़्तर, जाँनिसार. हिन्दोस्तां हमारा. हिन्दोस्तानी बुक ट्रस्ट, बम्बई।

तिवारी, रामपूजन. सूफ़ीमत साधना और साहित्य. ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी. सं॰ २०२५

(सं॰) पाठक, शिवनन्दन सहाय. कन्हावत (मलिक मुहम्मद जायसी कृत महाकाव्य). साहित्य भवन प्रा॰ लिमिटेड, इलाहाबाद. १९८१

पाण्डेय, श्याम मनोहर. मध्ययुगीन प्रेमाख्यान.लोकभारती प्रकाशन, इलाहाबाद. १९८२

(अनु॰) रिज़वी, सैयिद अतहर अब्बास (संवत् २०१४). हक़ायक़े हिन्दी (मीर अब्दुल वाहिद बिल्ग्रामी). काशी : नागरी प्रचारिणी सभा.

शुक्ल, बलराम. सूफ़ी तुराब के कान्ह कुँवर (शाह तुराब की हिन्दी ठुमरियों की समीक्षा). पुस्तक वार्ता (म॰गा॰ अं॰   हि॰ वि॰ वि॰ वर्धा का प्रकाशन)–नवं॰ दिस॰ २०१५.

सिंह, कन्हैया. हिन्दी सूफ़ी काव्य में हिन्दू संस्कृति का चित्रण और निरूपण. भारती भण्डार, लीडर प्रैस–इलाहाबाद. १९७३

Urdu-

मौलवी, जलालुद्दीन मुहम्मद इब्ने मुहम्मद (अनु॰) हुसैन, काजी सज्जाद ;मसनवी ए मानवी(अनुवाद तथा

    टिप्पणी) ,सबरंग किताबघर, दिल्ली १९७४ ई॰

[1] النَّاسُ عادا مَا جَهِلُوا

[2] यस्मान्नोद्विजते लोको लोकान्नोद्विजते च यः।(श्रीमद्भगवद्गीता १२–१५)

[3]बर दरे मा,शूक़े मा तर्सन्दगान् रा कार नीस्त–जुम्ले शाहानन्द ईन् जा बन्दगान् रा बार नीस्त– दीवाने शम्स ग़ज़ल सं॰–३९६, बैत सं॰१.

[4]मर्दाने ख़ुदा पर्दा ए पिन्दार दरीदन्द–यानी हमे जा ग़ैरे ख़ुदा यार नदीदन्द। फ़रूग़ी बुस्तामी–ग़ज़लियात, ग़ज़ल सं॰ २२६, बैत सं॰ १

[5]ग़ैरे वाहिद हर चे बीनी आन् बुत–स्त । मस्नवी ए मानवी–६.४७

[6]अन्दर दिले मर्दाने ख़ुदा दर्या ई–स्त। दीवाने शम्स

[7]चून्क यकहा मह्व शुद आनक तु ई । मस्नवी ए मानवी–१.९१

[8] विस्तृत विवेचन–सूफ़ी सिद्धान्त तथा भारतीय दृष्टि– बलराम शुक्ल (अप्रकाशित शोध पत्र)

[9] विस्तृत विवेचन के लिए बत्रा (सं॰ २०२७ : ७०५–७५८)

[10] ‘This multi-layered explanation is a distinctive feature of the entire Persian love poetry where the mundane love certainly beckons to the celestial one. In Sanskrit literature this tendency is totally absent. The nature of mundane love has been taken to be totally different than that of the celestial love = Bhakti. The first one falls in the category of Rasa while the other is Bhava’ From an unpublished paper titled- Kathakautukam : Sanskrit rendering of Yusuf-Zulaykha of Jami, Dr. Balram Shukla.

[11] बत्रा, श्रीनिवास पृ॰ २१०–२११

[12] तु॰ श्रीमद्भागवतम्– तावद्रागादयःस्तेनास्तावत्कारागृहं गृहम्।

तावन्मोहो अङ्घ्रिनिगडो यावत्कृष्ण ते जनाः ॥ (१०.१४.३६)( हे कृष्ण, जब तक हम तुम्हारे नहीं हुए होते हैं, तभी तक  राग–द्वेष हमारे ध्यान को चुरा पाते हैं, घर तभी तक कारागार की तरह हमारे स्वतन्त्रता का हनन करने वाला होता है, अज्ञान तभी तक हमारे पैर की बेड़ी बना रहता है।)

[13] विशुद्धतावाद से प्रदूषित कुछ हिन्दी साहित्य के कुछ आधुनिक विचारक यह मानते हैं कि श्रीकृष्ण का शृङ्गारिक रूप भक्तिकाल की देन है,

तथा उनके इस रूप की प्रतिष्ठा प्रारम्भ में श्रीमद्भागवत तथा बाद में जयदेव आदि अर्वाचीन कवियों के द्वारा हुई। यह धारणा आर्यसमाज

आदि सुधारवादी आन्दोलनों के कारण और अधिक बद्धमूल हो गयी। परन्तु भारतीय साहित्य का अखण्ड रूप से पर्यालोचन करने पर पता

चलता है कि श्रीकृष्ण का ललित रूप कम से कम २००० वर्षों पुराना है। गाथासप्तशती, जिसका समय कुछ विद्वान् कालिदास से भी पहले का

मानते हैं, में राधा तथा कृष्ण के प्रेमपरक गाथाओं को देखने से यह बात स्थापित हो जाती है।

[14]  The Maulavi Flute–१९९७

[15] वैष्णव सम्प्रदायगत हिन्दू नाम है।

[16] बर् आ ऐ शम्से तबरेज़ी ज़ मश्रिक। दीवाने शम्से ग़ज़ल सं॰ २७०७, बैत सं॰ १०

[17] परन्तु अगर कूनिया की अपेक्षा देखा जाये तो तबरीज पूरब में ही है।

[18] विशेष विवेचन–नैतिकता से आध्यात्मिकता की ओर पंचतंत्र और मसनवी ए मानवी, प्रकाश्यमान लेख– बलराम शुक्ल,

[19] Maulana Jalal ud Din Rumi, His times and Relevance to Indian Thought- SAH Abidi; Maulavi flute pp. 214-225

[20] बाँसुरी से सुनो जो कहानी वह कह रही है, वह अपने विरह की शिकायत कर रही है।

[21] “It has been recorded that….. there during the Sama gathering even the Vishnupadas were recited, when it was objected to the Sheikh said to have replied that even Qur’an has the stories of Firaun, Haman and Namrud” S.Z.H. Jafri (March 2016 :13)

[22] हक़ायक़े हिन्दी, प्राक्कथन (हजारी प्रसाद द्विवेदी)

[23] तदेव

[24] इसके समर्थन के लिये बिल्ग्रामी ने मस्नवी उद्धृत की है–

  बुतो तर्साबचे नूरी,स्त ज़ाहिर कि अज़ रू ए बुतान् दारद मज़ाहिर।

    कुनद ऊ जुम्ले दिलहा रा वसाक़ी गही गर्दद मुग़न्नी गाह साक़ी ॥

   (बुत तथा तर्साबचा खुले हुए नूर हैं जो हसीनों के रुख़ से चमकते रहते हैं। यह प्रकाश    

    हृदयों का विश्राम स्थान बन जाता है। कभी गायक बन जाता है और कभी साक़ी।) (वही पृ॰ ७३)

[25] नफ़्से अम्मारा को हम भौतिक प्रवृत्ति के रूप में समझ सकते हैं।

[26] वही

[27] S.Z.H. Jafri (March 2016 :21)

[28] मुल्ला निज़ामुद्दीन अंसारी, मनाक़िबे रज़्ज़ाक़िया, लखनऊ, १३१३ हिजरी, पृष्ठ–१४–१५ (उद्धृत)

[29] तु॰ ईशावास्यमिदं सर्वं यत्किञ्च जगत्यां जगत्। (ईशोपनिषद् १)

[30] आदावन्ते च मध्ये च हरिः सर्वत्र गीयते। (हरिवंशपुराण)

[31] ब–नज़्दे आन् कि जानश दर तजल्ला–स्त हमे आलम किताबे हक़ तआला–स्त, वही पृ॰ ७४

[32] पहिले हिन्दुई कत्था कही। पुनि रे काहुँ तुरुक लै कही॥

पुनि हम खोलि अरथ सब कहा। जोग सिंगार बीर रस अहा॥ (कुतुबन–मृगावती छन्द ४२७, सं॰ माताप्रसाद गुप्त)

[33] विस्तृत सूचना के लिये देखें कन्हावत, भूमिका पृ॰ ६८ से ७१।

[34]तुराब – تراب का अर्थ अरबी में मिट्टी होता है ।

[35]राधिका कन्हाई के सुमिरन कौ बहानौ है । (भिखारीदास– रीतिकालीन हिन्दी कवि)

[36]كنت كنزاً مخفياً فاحببت أن أعرف فخلقت الخلق لكي أعرف» हदीसे नबवी


Categories: Sanskrit Blogs

व्याकरणिक कोटियों का अभिनवकृत दार्शनिक उपयोग-

Balramshukla's Blog - Thu, 02/09/2017 - 20:34
  व्याकरणिक कोटियों का अभिनवकृत दार्शनिक उपयोग[1]                                                                           -डा. बलराम शुक्ल                  सूत्राम्भसं पदावर्तं पारायणरसातलम्  ।  धातूणादिगणग्राहं ध्यानग्रहबृहत्प्लवम् धीरैरालोकितप्रान्तं अमेधोभिरसूयितम् । सदोपभुक्तं सर्वाभिरन्यविद्याकरेणुभिः  ॥ नापारयित्वा दुर्गाधममुं व्याकरणार्णवम्। शब्दरत्नं स्वयंगम्यम् अलं कर्तुमयं जनम्[2]

भारतीय ज्ञान परम्परा में असंख्य विद्वानों की शृंखला के मध्य अनेक महान् विद्वान् प्रकाश स्तम्भ की भाँति विद्यमान हैं जिनकी आभा, सहस्राब्दियों का समय बीत जाने के बाद भी; उनके स्थानों में आमूलचूल सामाजिक परिवर्तन हो जाने के बावजूद, मन्द नहीं पड़ सकी है। महर्षि वेदव्यास, आचार्य पाणिनि तथा भगवान् शंकराचार्य के साथ महामाहेश्वर अभिनवगुप्तपादाचार्य ऐसे ही महापुरुषों में से एक हैं। आचार्य पाणिनि सीमान्त प्रान्त के शलातुर ग्राम (सम्भवतः आधुनिक लाहौर) के निवासी थे। उन्होंने अष्टाध्यायी की रचना की जो भारत की सांस्कृतिक एकता की मूल भाषा संस्कृत को ठीक ठीक समझने में हजारों साल तक उपयुक्त होती रही है। लाहौर अब हमारे पास नहीं है लेकिन अष्टाध्यायी अब भी हमें अपनी सांस्कृतिक निधि को सुरक्षित करने में निरन्तर सहयोग कर रही है। अभिनव गुप्त आज से लगभग एक हजार वर्ष पहले कश्मीर में  वर्तमान थे। उन्होंने अद्वैत दर्शन के जिस काश्मीर संस्करण का व्याख्यान किया वह भारत की दार्शनिक स्मृति में अमिट है। उनके द्वारा काव्यशास्त्रीय सिद्धान्तों के बारे दी गयी व्याख्यायें आज तक अन्तिम मानी जा रही हैं। आज शारदादेश कश्मीर का पर्याय नहीं है। भारत की अखण्ड सांस्कृतिक भावना भी वहाँ धूमिल हो रही है, लेकिन वहाँ से उपजे अभिनवगुप्त और उनके सिद्धान्त अब भी अक्षुण्ण हैं। यह दुस्संयोग ही है कि प्रस्तुत पत्र में चर्चा के विषय पाणिनि तथा अभिनव दोनों ही अपनी ज़मीन पर अपदस्थ हो चुके हैं। वहाँ उनको समझने की बात छोड़ दें उनका नामलेवा कोई नहीं रहा। लेकिन फिर भी, राजनैतिक कुचक्र सरस्वतीपुत्रों के माहात्म्य को ऐकान्तिक रूप से समाप्त नहीं कर पाये हैं।

अभिनवगुप्त शैवदर्शन, तन्त्र तथा काव्यशास्त्र की परम्परा के अपूर्व व्याख्याकार हैं। वे सुदीर्घ कालावधि में फैली चिन्तन परम्पराओं को समग्रता में देखकर समेकित रूप में व्याख्या करते हैं, इसलिए उनके दर्शन एवं तन्त्र से सम्बद्ध ग्रन्थ, टीकाग्रन्थ व स्तोत्र तथा फुटकर काव्य आदि मिलाकर परम्परा की व्याख्या का महावाक्य बनता है (त्रिपाठी २०१६:४)। अभिनव का जो भी अभिनवत्व है वह उनकी व्याख्या का ही है। उन्होंने व्याख्याओं के द्वारा परम्परा को जो योगदान दिया वह मूल ग्रन्थों के प्रणयन से कम नहीं है। उन्होंने अपनी व्याख्याओं से कश्मीर के त्रिक दर्शन को एक समन्वित रूप दिया, नाट्यशास्त्र की महावाक्यात्मक कृति के रूप में सप्रमाण विवेचना प्रस्तुत की (त्रिपाठी २०१६:७), ध्वनि तत्त्व को पुनरुज्जीवित किया तथा वैष्णव आधारकारिकाओं का शैवीकृत रूप परमार्थसार भी प्रस्तुत किया[3]

अपने विशिष्ट व्याख्यान प्रकार में अभिनव ने व्याकरण शास्त्र का अद्भुत तथा अपूर्व उपयोग किया है। व्याकरणशास्त्र सामान्यतः सभी शास्त्रों का उपकारक है इसलिए कोई भी व्याख्या व्याकरण की सहायता के बिना असम्भव है। लेकिन अभिनव के व्याख्या ग्रन्थों में हम व्याकरण शास्त्र की कोटियों का असाधारण उपयोग पाते हैं। प्रकृति तथा प्रत्यय के ज्ञान से शब्द के बाह्य स्वरूप की वास्तविक पहचान हो पाती है तथा इसी कारण किसी भी ग्रन्थ की गुत्थियाँ सुलझाने के लिए टीकाकार व्याकरण की सहायता लेते हैं। लेकिन व्याकरणशास्त्र का उपयोग अभिनव व्याख्येय ग्रन्थ के केवल बाह्य शब्द स्वरूप को स्पष्ट करने के लिए नहीं करते बल्कि इसका प्रयोग वह अपनी दार्शनिक मान्यताओं के प्रतिपादन तथा स्पष्टीकरण में भी करते हैं। व्याकरण शास्त्र के इस विशिष्ट उपयोग से अभिनव का सम्पूर्ण व्याकरण तन्त्र पर असाधारण अधिकार द्योतित होता है।

अभिनव व्युत्पत्त्यै सर्वशिष्यता[4] तथा बहुभिर्बहु बोद्धव्यं[5] के मूर्तिमान् उदाहरण थे।  ज्ञान के प्रति अपनी प्रगाढ पिपासा के चलते अभिनव ने प्रायः सभी शास्त्रों का अध्ययन उस समय के विद्वानों के पास जाकर किया था। परन्तु व्याकरण शास्त्र तो उनके घर की विद्या थी। व्याकरण के उनके गुरु स्वयं उनके पिता नरसिंह गुप्त (चखुल अथवा चुखुलक) थे जिनसे उन्होंने महाभाष्य का अध्ययन किया था। कश्मीर में पाणिनीय व्याकरण, विशेषतः महाभाष्य के अध्ययन की समृद्ध परम्परा रही है। व्याख्यान के क्रम में अभिनव में नूतन आयामों को प्रकट करने की जो क्षमता दिखायी पड़ती है, उसमें महाभाष्यकार पतञ्जलि का बहुत बड़ा योगदान देखा जा सकता है। उनके नाम के विषय में परम्परा में जो व्याख्यायें मिलती हैं उसमें एक के अनुसार उन्हें महाभाष्यकार पतञ्जलि का अवतार बताया जाता है। अभिनवगुप्तपाद शब्द में गुप्तपाद का अर्थ सर्प अथवा शेषनाग है। इस प्रकार इनके नाम का अर्थ होगा– शेषनाग अर्थात् पतञ्जलि के नवीन अवतार[6]। इस व्याख्या से पता चलता है कि उस समय उनकी प्रसिद्धि एक प्रख्यात वैयाकरण के रूप में थी। जब हम उनके ग्रन्थों का अध्ययन करते हैं तो पदे पदे उनके व्याकरण ज्ञान तथा उसके अपूर्व उपयोग से चकित रह जाते हैं। आगे के पृष्ठों में हम उनके व्याकरण ज्ञान के तत्त्वशास्त्रीय उपयोग के कुछ प्रमुख बिन्दुओं की ओर ध्यान आकृष्ट करेंगे।

अभिनवगुप्त व्याकरण के प्रक्रिया तथा दर्शन दोनों पक्षों से सुपरिचित थे तथा उन्होंने दोनों का अपनी व्याख्याओं में यथास्थान उपयोग किया। व्याख्येय ग्रन्थों के सम्प्रत्ययात्मक बीजशब्दों के दार्शनिक तात्पर्य को स्पष्ट करने के लिए वे उन शब्दों की व्युत्पतियाँ प्रस्तुत करते हैं। सामान्यतः, वे व्याकरण शास्त्र की प्रविधियों का उपयोग करते हुए एक शब्द की अनेकानेक व्युत्पत्तियाँ देते हैं। प्रत्येक व्युत्पत्ति से उनका तात्पर्य उस सम्प्रत्यय विशेष के किसी नये आयाम को सुस्पष्ट करना होता है।

परात्रिंशिका (या परात्रीशिका) ग्रन्थ की अपनी व्याख्या के प्रारम्भ में ही वे देवी शब्द की व्युत्पत्ति के लिए पाणिनि के धातुपाठ में स्थित दिव्[7] धातु के सभी अर्थों को अपने दर्शन के आयाम में घटा कर प्रदर्शित करते हैं। शिवाद्वैत दर्शन के अनुसार शिव प्रकाशात्मक तथा उनकी शक्ति विमर्शात्मिका है। सम्पूर्ण सृष्टि इस प्रकाशात्मा का विमर्श ही है। उपर्युक्त प्रसंग में अभिनव के अनुसार जब परा वाणी, पश्यन्ती तथा मध्यमा के स्वरूप में आकर जब पर संविद् के रूप में स्वयं अपना ही विमर्श करती है तो वह देवी शब्द से कही जाती है–

तत्पश्यन्तीमध्यमात्मिका स्वात्मानमेव वस्तुतः परसंविदात्मकं यदा विमृशति परैव च संविद् देवीत्युच्यते[8]

उसे देवी इस कारण से कहा गया है कि वह देव अर्थात् भैरवनाथ[i] की शक्ति है (भैरवनाथस्यैव देवत्वमिष्यते च्छक्तेरेव भगवत्या देवीरूपता) भैरव अर्थात् सबको व्याप्त करने वाला समष्टि चैतन्य देव इसलिए हैं क्योंकि–

  1. वह पश्यन्ती आदि शक्तियों के माध्यम से बाह्य जगत् की सृष्टि तक अपने विमर्श रूपी आनन्द में क्रीडा करते हैं। (क्रीडा)
  2. विश्व को अतिक्रान्त करने के कारण सबसे उत्कृष्ट स्थिति वाले भगवान् भैरव उसी अवस्था में स्थित रहने की इच्छा से युक्त हैं। (विजिगीषा)
  3. संसार में, जो असंख्य प्रकार के ज्ञान, स्मृति, संशय तथा निश्चय आदि व्यवहार हैं, वह सब वस्तुतः वही करते हैं । (व्यवहार)
  4. बाह्यरूप में भासित जगत् में जगत् के स्वरूप में भासित होने के कारण (द्युति)
  5. उनके प्रकाश के वश में आये हुए उन्मुख सभी लोगों के द्वारा उसकी स्तुति की जाती है। (स्तुति)
  6. अपनी इच्छापूर्वक सभी स्थानों तथा सभी कालों में उनकी गति सम्भव है। (गति)

इसी प्रकार क्रम दर्शन के एक पारिभाषिक शब्द चक्र को उन्होंने चार धातुओं से निष्पन्न बताया है ताकि दार्शनिक दृष्टि से इस शब्द के प्रकार्यों को स्पष्ट किया जा सके[9]

  • यह चमकता है। (कसि विकासे)
  • यह आत्मिक तृप्ति देता है।(चक तृप्तौ)
  • यह बन्धन को काटता है (कृती छेदने)
  • इसमें क्रियाशक्ति है। (डुकृञ् करणे)

वे यह भी दिखाते हैं कि अर्थ के निम्नोक्त आयाम क्रम सम्प्रदाय में किस प्रकार सुसंगत हैं और शरीर में विभिन्न चक्रों पर एकाग्रता के द्वारा इनका साक्षात्कार भी किया जा सकता है। अभिनव अपने अनुभव द्वारा उपार्जित रहस्यों का समर्थन पारम्परिक शास्त्रीय ज्ञान द्वारा करते हैं। इसलिए उनका शास्त्रीयज्ञान पाण्डित्य प्रदर्शन मात्र नही रह जाता। देशपाण्डे (१९९५ ६) का उत्प्रेक्षण है–

उन (अभिनव) के मत में, आध्यात्मिक ज्ञान की पूर्णता क्रमशः तीन अवस्थाओं से प्राप्त                 होती है–गुरुतः, शास्त्रतः, स्वतः, अर्थात् गुरु से, शास्त्र की युक्ति से और स्वानुभव से। अपने निजी अनुभवों के कारण ही अभिनव गुप्त को शिवाद्वय दर्शन का श्रेष्ठतम आचार्य माना जाता है[10][ii]

अभिनव कुल सम्प्रदाय के विविध पक्षों को स्पष्ट करने के लिए कुल शब्द के व्याकरणात्मक व्युत्पत्ति का सहारा लेते हैं। वे इस शब्द को कुल संस्त्याने बन्धुषु च धातु से निष्पन्न करते हैं– कोलति इति कुलम्। इसका अर्थ वे करते हैं – स्थूल–सूक्ष्मपर प्राण–इन्द्रिय–भूत–आदि। क्योंकि वे समूह में रहते हैं तथा उनका कार्यकारण सम्बन्ध होता है[11]

इसी प्रकार कुल सम्प्रदाय एवं प्रत्यभिज्ञा दर्शन के प्रसंग देवी के लिए प्रयुक्त महाभागा के विविध अर्थों को स्पष्ट करने के लिए वे इसके चार अलग अलग विग्रह देते हैं[12] तथा इन विग्रहों द्वारा इस शब्द को त्रिक दर्शन की अवधारणा में सम्मत पराभट्टारिका शक्ति के स्वरूप वर्णन में उपयुक्त करते हैं–

  • महान् भागो यस्याः
  • महान् (शिवः) भागो यस्याः
  • महान् (बुद्ध्यादिः) भागो यस्याः
  • महस्य–सर्वतोऽखण्डितपरिपूर्णनिरर्गलनिरपेक्षस्वातन्त्र्यजगदानन्दमयस्य आ–ईषत् भागाः–सुखांशलक्षणा यतः।

संस्कृत के सभी व्याख्याकार सामान्यतः व्याकरणात्मक व्युत्पत्तियों का उपयोग अपने अपने शास्त्रीय सिद्धान्तों को सुस्पष्ट करने के लिए करते रहे हैं लेकिन अभिनव यहीं तक सीमित नहीं हैं। वे भाषिक प्रयोगों को दार्शनिक तत्त्वमीमांसा की व्याख्या के लिए कुंजी के रूप में प्रयोग करते हैं क्योंकि उनके अनुसार सारे भाषिक प्रयोग इन तत्त्वों के क्रम में ही विकसित हुए हैं–

न तैर्विना भवेच्छब्दो नार्थो नापि चितेर्गतिः॥ (परात्रिंशिका पृ॰८०)

(जड–शक्ति–शिव के त्रिक के बिना शब्द, अर्थ अथवा चेतना की गति सम्भव नहीं है)

परात्रिंशिका के प्रारम्भ में ही देवी शब्द की निरुक्ति प्रदर्शित करने के बाद अभिनव प्रश्न उठाते हैं कि देवी के साथ सामानाधिकरण्य में उवाच क्रिया कैसे संगत हो सकती हैं[13]? त्रिक दर्शन में देवी (शक्ति) चिदात्मक शिव के साथ एकाकार हैं। वह सभी वस्तुओं के हृदय में रहती हैं। वह न केवल प्रत्येक सत्ता में प्रत्यक्षतः अनुभव योग्य हैं अपितु प्रत्येक मानवीय अनुभव की आधार भी हैं। उनके लिए परोक्ष, अनद्यतन[14] भूतकाल के अर्थ में प्रयुक्त उवाच क्रिया कैसे लग सकती है? (काल्पनिकं च अनद्यतनत्वम् अकाल्पनिके संविद्वपुषि कथम्)।  उवाच का अर्थ यहाँ वस्तुतः पप्रच्छ (पूछा) है, इसलिए यह प्रश्न भी उठता है कि ज्ञान तथा चैतन्य की सम्पूर्णता का प्रतिनिधित्व करने वाली देवी को पूछने की आवश्यकता कैसे पड़ सकती है। पूछना एक ऐसी क्रिया है जो ज्ञान की अल्पता के कारण उद्भूत होती है, जो देवी में सम्भव नहीं है। अनेक शैव दार्शनिकों ने विभिन्न ग्रन्थों में इस विचित्र प्रश्न के उत्तर देने के प्रयत्न किये हैं, लेकिन अभिनवगुप्त का समाधान अधिक सूक्ष्म और व्याकरणिकता से युक्त है।

उनके अनुसार देव्युवाच में उवाच पद प्रथम पुरुष का नहीं अपितु उत्तम पुरुष का है। इसका अर्थ है – मैं, जो कि देवी हूँ, उसने पूछा । लेकिन प्रश्न की क्रिया में कर्ता इस तरह से शामिल रहता है कि वह क्रिया उसके लिए परोक्ष नहीं हो सकती, फिर उसके लिए उत्तम पुरुष का प्रयोग सुसंगत नहीं हो सकता। अभिनव के पास इसका व्याकरणिक उपाय है। कात्यायन का एक वार्तिक है जिसके अनुसार लिट् लकार उत्तम पुरुष का प्रयोग वक्ता अपने शयन तथा नशे की स्थिति का वर्णन करते हुए कर सकता है[15]। पतञ्जलि इसमें जोड़ते हैं कि जागृत अवस्था में भी यदि व्यक्ति का मन उस जगह अवस्थित नहीं है तो वहाँ भी लिट् लकार का उत्तम पुरुष में प्रयोग हो सकता है। अभिनव कहते हैं कि देवी उवाच में देवी का तात्पर्य है पश्यन्ती तथा मध्यमा। वे अपने आप के बारे में विमर्श करती हैं– परा वाक् स्वरूपिणी मैंने ही इस प्रकार कहा था पश्यन्ती तथा मध्यमा की स्थिति वहाँ है जहाँ मायिक जगत् की उत्पत्ति प्रारम्भ हो चुकी है। उस धरातल पर स्थित होकर  जब वह परा का परामर्श करती है तो परा को भूत (सामान्य) की तरह मानती है। केवल भेदावभास के द्वारा उज्जीवित होने वाले आन्तरिक तथा बाह्य इन्द्रियों के मार्ग से परे है–परा, इसलिए उसे वे परोक्ष की तरह मानती हैं। अद्यतन की धारणा एक काल्पनिक धारणा है अतः वह अकाल्पनिक परा के विषय में संगत नहीं है, इस कारण वह अनद्यतन भी है। इस प्रकार लिट् लकार के तीनों शर्तों के पूरे हो जाने के कारण यहाँ लिट् लकार उत्तम पुरुष एकवचन का प्रयोग किया गया है। इस प्रसंग में उत्तम पुरुष इसलिए संगत है क्योंकि परा की अवस्था में ज्ञेय वस्तु का नितान्त अभाव रहता है इसलिए वह वक्ता के लिए परोक्ष है[16]। लिट् लकार के ये तीन अभिलक्षण इस प्रसंग में वस्तुतः धात्वर्थ से सम्बद्ध न होकर इसके बहु आयामी तथा समकेन्द्रित कर्ता से सम्बन्धित हैं[17]। इस प्रकार व्याकरण के नियम विशेष का आधार लेकर अभिनव ने यहाँ त्रिक दर्शन की एक बड़ी गुत्थी ही नहीं सुलझायी, बल्कि इस दर्शन में वास्तविकता के विभिन्न स्तरों तथा उनके पारस्परिक सम्बन्धों की भी अच्छी तरह से व्याख्या कर दी।

अभिनव ने भाषा के वैखरी रूप के द्वारा सम्बद्ध होने सकने वाले प्रथम, मध्यम तथा उत्तम पुरुष को त्रिक दर्शन के तीन तत्त्वों–नर, शक्ति तथा शिव का वाचक माना है। उनके अनुसार जो केवल जड प्रकाश्य है, जिसे इस दर्शन में नर या अणु भी कहते हैं, वह प्रथम पुरुष का विषय है। उदाहरण के लिए– घटः तिष्ठति (घड़ा पड़ा है) अभिनव इसे अपरा शक्ति का नाम देते हैं[18]। जो वस्तु इदंतया (यह है इस रूप में) भासित होते हुए भी सम्बोधन के योग्य हो,  वह मध्यम पुरुष का विषय होता है। उस वस्तु का इदंभाव, सम्बोधित करने वाले के अहं भाव से आच्छादित हो जाता है। उदाहरण के लिए त्वं तिष्ठसि (तुम स्थित हो) अभिनव इसे शक्ति का परापर स्वरूप कहते हैं। अहं तिष्ठामि (मैं रुकता हूँ।) इत्यादि प्रयोगों में जो स्वतन्त्रता का विमर्श होता है वह शिव की परा शक्ति का विमर्श है जो वस्तुतः शिव से भिन्न नहीं है। शिव सबसे उत्कृष्ट है इसी कारण इसका वाचन करने वाले भाषिक पुरुष को उत्तम पुरुष कहते हैं। अभिनव इस प्रसंग में रोचक रीति से भगवद्गीता का एक श्लोक उद्धृत करते हैं तथा व्याकरण और दर्शन के उत्तम पुरुष की एकता सिद्ध कर देते हैं[19]

यस्मात्क्षरमतीतोऽहमक्षरादपि चोत्तमः।

अतोऽस्मि लोके वेदे च प्रथितः पुरुषोत्तमः॥ (भगवद्गीता १५.१८)

अभिनव कहते हैं कि स्वयं श्रीकृष्ण ने स्मद् (अहम्) के सामानाधिकरण्य वाले अस्मि का प्रयोग करके अपने को क्षर तथा अक्षर दोनों से उत्तम बताया है, इसलिए यहाँ स्पष्ट है कि उत्तम पुरुष का वाच्य उत्तम शिव ही है। आगे अभिनवगुप्त युष्मद तथा अस्मद् के भाषिक प्रयोग की विशिष्टताओं का दार्शनिक उपयोग करते हैं, अथवा यह कहें कि वे भाषिक प्रयोगों की उपपत्ति दार्शनिक रहस्यों को समझा कर करते हैं। वे बताते हैं कि  वैयाकरणों के निकाय में प्रसिद्ध ‘अलिङ्गे युष्मदस्मदी (अर्थात् युष्मद् तथा अस्मद् में लिङ्ग नहीं होते)’ का कारण क्या है[20]?

अनुत्तर तत्त्व त्रिक दर्शन में भैरववाची है जिससे परे कोई नहीं है। परात्रिंशिका में अभिनव ने इस शब्द की १६ प्रकार से व्याख्या की है[21]।अन्तिम व्याख्या में उन्होंने व्याकरण शास्त्र की सूक्ष्मताओं का सहारा लेकर समझाने का प्रयत्न किया है कि तरप् प्रत्यय का प्रयोग होने पर भी यह शब्द सर्वोत्कृष्ट का वाची कैसे बनता है[22]

अभिनव का दर्शन शिवाद्वैत है। शिव तथा शक्ति परस्पर भिन्न नहीं हैं[23] तथा उनसे सृष्ट जगत् भी उनसे वस्तु भिन्न नहीं है। एक से ही अनेक का आभास हुआ है– एकं वस्तु द्विधा भूतं द्विधा भूतमनेकधा[24] इसलिए इस दर्शन में सिद्धान्त है – सर्वं हि सर्वात्मकम् (सभी वस्तुएँ सभी वस्तुओं की स्वरूप हैं)। अभिनव गुप्त इस सिद्धान्त का उपयोग भाषिक प्रयोगों में होने वाले प्रथम–मध्यम–उत्तम पुरुषों के पारस्परिक व्यत्यय को समझाने में करते हैं[25]। हम देखते हैं कि भाषा में जहाँ प्रथम पुरुष का प्रयोग करना होता है वहाँ मध्यम या उत्तम पुरुष का प्रयोग कर दिया जाता है, तथा इसी तरह अन्यत्र भी होता है। अभिनव कहते हैं यह तो इष्टापत्ति है। इसी से तो प्रकट होता है कि सभी वस्तुएँ सर्वात्मक हैं और एक दूसरे का स्वरूप धारण कर लेती हैं–

  • नर–शक्ति–शिव के त्रिक में तात्त्विक भेद नहीं है इसीलिए तो प्रथम पुरुष के द्वारा उक्त होने वाले नर (जड) के लिए हम मध्यम तथा उत्तम पुरुष का प्रयोग भी देख पाते हैं– जैसे शृणुत ग्रावाणः[26] (ऐ पत्थरो, सुनो) या मेरुः शिखरिणाम् अहम्[27] (पर्वतों के बीच मैं मेरुपर्वत हूँ) इसके साथ ही भाषा में अहं चैत्रो ब्रवीमि (मैं चैत्र बोल रहा हूँ) यह प्रतीतिपूर्वक प्रयोग भी होता है जिसका तात्पर्य है कि अस्मत् का अर्थ शिव जड वस्तु के साथ तादात्म्य प्राप्त करता है।
  • युष्मद् की प्रतीति का विषय शक्ति तत्त्व भी अनेक बार जडात्मकता को प्राप्त करता है। अभिनव का उदाहरण है त्वं गतभयधैर्यशक्तिः (तुम भय तथा धैर्य की शक्ति से रहित हो)[28] इसके अतिरिक्त सम्मानसूचक भवान् शब्द अथवा गुरवः, पादाः इन विशेष शब्दों से द्योतित तो युष्मद् द्वारा बोधित अर्थ (शक्ति) होता है परन्तु इनका प्रयोग प्रथम पुरुष में होता है।
  • भाषिक प्रयोगों में जब हम अपने किसी प्रिय के लिए कहते हैं– प्रिये मैं तुम ही हूँ, तो उसे सम्बोधित करके उसके शरीर से तादात्म्य स्थापित करने के कारण शिव तत्त्व (अस्मदर्थ) ऐसा लगता है कि अपने स्वरूप को छोड़कर जड (इदमर्थ) तथा शक्ति (युष्मदर्थ) की कोटि तक उतर आता है। इसके अलावा, मैं कौन हूँ, यह मैं हूँ, अरे वाह मैं, मुझे धिक्कार है, इत्यादि भाषिक अभिव्यक्तियों में भी अस्मदर्थ (शिव) अपने अप्रतिहत स्वातन्त्र्य को गौण बनाकर इदन्तया प्रतीत होता है। हे मैं इस अभिव्यक्ति में हम देख सकते हैं कि शिव परापर शाक्त (सम्बोधनात्मक युष्मदर्थ) का स्पर्श कर रहा है।

संस्कृत अथवा किसी भी भाषा के प्रयोग में हम देखते हैं कि प्रथम तथा मध्यम पुरुष एक साथ आयें तो मध्यम पुरुष, मध्यम तथा उत्तम एक साथ आयें तो उत्तम पुरुष, तथा सभी एक साथ आयें तो उत्तम पुरुष अवशिष्ट रहता है तथा उसी को द्योतित करने वाली क्रिया का प्रयोग होता है। पाणिनि ने भी एक विशेष प्रविधि से इसकी व्यवस्था दी है[iii]।  अभिनव इस भाषिक परिघटना का दार्शनिक रहस्य बताते हैं–।

एकात्मक होने के कारण परमतत्त्व प्रतिपक्षविहीन होता है। जब वह शक्ति स्वरूप में होता है तब शिव ही उसका प्रतियोगी होता है। एक ही शिवतत्त्व जड रूप में आकर अनेक रूपों में भासित होने लगता है। इसीलिए तो घटः, घटौ तथा घटाः के लिए प्रयुक्त तिष्ठति, तिष्ठतः तथा तिष्ठन्ति क्रियाएँ एक–एक क्रियाएँ ही प्रयुक्त होती हैं। ये क्रियाएँ एक ही शिव तत्त्व की क्रिया शक्ति के द्वारा सम्पादित की जाती हैं[29]

जब नर, शक्ति तथा शिव का एकसाथ परामर्श होता है तो वे बाद बाद वाले के स्वरूप में विलीन हो जाते हैं। इसका कारण यह है कि पूर्व पूर्व वालों (जड तथा शक्ति) का वास्तविक रूप बाद बाद वाला (शक्ति तथा शिव) ही है। इसलिए, स च त्वं च के साथ तिष्ठथः (मध्यम पुरुष) क्रिया का प्रयोग होता है तथा स च त्वं अहं च के साथ  तिष्ठामि (उत्तम पुरुष) की क्रिया का प्रयोग होता है। संस्कृत के वैयाकरणों ने तो इसका अनुशासन किया है, लेकिन पालि, आन्ध्र तथा अन्य द्राविड भाषायें जहाँ व्याकरण नहीं है वहाँ भी इसी प्रकार की भाषिक परिघटना देखी जाती है[30]

उपर्युक्त प्रकार का अपूर्व शास्त्र–समन्वय हमें अभिनव के यहाँ ही देखने को मिलता है[iv]। अन्यत्र भी वे काव्यशास्त्र के सिद्धान्तों की व्याख्या अपने दार्शनिक चिन्तन के प्रकाश में करते हैं वैसे ही दर्शन को भी काव्य के उदाहरणों से स्पष्ट करते हैं। अनेक स्थलों पर उन्होंने नाटकों से मनोवैज्ञानिक प्रवृत्ति वाले पद्य उद्धृत किये हैं तथा और उनका उपयोग दार्शनिक सूक्ष्मताओं को स्पष्ट करने में किया है (देशपाण्डे १९९५१:४)। व्याकरण तथा दर्शन को तो उन्होंने परस्पर एक दूसरे के यमल के रूप में ही ग्रहण किया है। तोरेला (१९९९ :१३२) ने अभिनव की इस विशेषता के सम्बन्ध में ठीक ही कहा है

“Such a kind of sophisticated operation – to translate grammatical paradigms into

Theological ones, and vice versa- is not new to him. He moves with elegance

and suppleness between two factually different dimensions, nourishing one through

the other  thus pointing, through the liberty of his exegeses, to the unpredictability

of  the paths of supreme consciousness[31].”

भाषा दर्शन में प्रत्यभिज्ञा दार्शनिकों का बहुत बड़ा योगदान है। वे भाषा की विभिन्न अवस्थाओं परा–पश्यन्ती–मध्यमा तथा वैखरी को परमशिव के जागतिक विमर्श की अवस्थाओं के साथ समान्तर तथा पर्याय के रूप में ग्रहण करते हैं अतः उनके मत में परस्पर द्वारा एक दूसरे की व्याख्या स्वाभावतः सम्भव है। अभिनव भाषिक व्यवहार को आन्तरिक वस्तुसत्ता की प्रतीति का सच्चा अनुसरणकर्ता मानते हैं तथा इसी कारण वे वस्तु तत्त्व को परिभाषित करने के लिए भाषिक व्यवहारों तथा उसके व्युत्पादक–व्याकरण शास्त्र का प्रचुर उपयोग करते हैं– वचनक्रमश्च हार्दीमेव प्रतीतिं मूलतोऽनुसरन् तत्प्रतीतिरसरूपतया प्रतीतेरपि एवंरूपत्वमवगमयेत्। (परात्रिंशिका पृ॰ ८०)

 

                            सन्दर्भ ग्रन्थ सूची                                            मूल ग्रन्थ

परात्रिंशिका अभिनवगुप्तकृततत्त्वविवेकटीकोपेता. (सं॰) मुकुन्दरामशास्त्री. कश्मीर सिरीज आ̆फ़ टेक्स्ट एंड स्टडीज़-18, १९१८,(पुनः॰) अरोमा पब्लिशिंग हाउस, नई दिल्ली १९९१.

श्रीमद्भगवद्गीता अभिनवगुप्ताचार्यव्याख्योपेता. (सं॰) वासुदेवलक्ष्मण पणशीकर. (पुनः॰) श्रीलालबहादुरशास्त्रीसंस्कृतविद्यापीठम्. नवदेहली–२००९

परमार्थसारः अभिनवगुप्तपादानाम्.भाष्यकृत् योगराजाचार्यः. श्रीरणवीरकेन्द्रीयसंस्कृतविद्यापीठम्. जम्मूपुरम्. १९८१

Isvarapratyabhijnakarika of Utpaldeva with the Author’s Vrtti, Critical edition and annotated translation by Raffele Torella. Motilal Banarasidass Publishers Private Limited, Delhi. 2002.

Paratrishika (trans) Jaidev Singh. Motilal banarasidas- Delhi

                                               अध्ययन

रस्तोगी, नवजीवन (२०१३) काश्मीर शिवाद्ववाद में प्रमाणचिन्तन. लालभाई दलपतभाई भारतीय संस्कृति विद्यामन्दिर, अहमदाबाद।

देशपाण्डे, ग॰ त्र्य॰ (१९९५) अभिनवगुप्त. (हिन्दी अनु॰) मिथिलेश चतुर्वेदी. साहित्य अकादमी, नई दिल्ली

Torrella, Raffele (1999) “Devī Uvāca”, or Theology of the Perfect Tense. Journal of Indian Philosophy 27: (Pp)129-138.

त्रिपाठी, राधावल्लभ (२०१६) अभिनव हैं अभिनव–दसवीं सदी के सौन्दर्यशास्त्री का संसार. प्रतिमान. सी एस डी एस (प्रकाश्यमान)।

http://www.sanskrit-sanscrito.com.ar/pt_br/escrituras-escrituras-do-trika-par%C4%81tr%C4%AB%C5%9Bik%C4%81vivara%E1%B9%87a-portugues-6/795 (4.07.2016  को देखा गया)

Endnotes–

[1] इस पत्र की विषय वस्तु के लिए मैं प्रो॰ अरिन्दम चक्रवर्ती, आचार्य–दर्शन विभाग, हवाई विश्वविद्यालय; का कृतज्ञ हूँ।

[2] व्याकरणशास्त्र अगाध समुद्र की तरह है जिसे पार किये बिना व्यक्ति शब्द रूपी रत्नों को प्राप्त नहीं कर सकता। इस व्याकरण रूपी समुद्र में सूत्र ही जल है, पद ही भँवर है, पारायण ही इसका धरातल है, धातुपाठ तथा उणादिपाठ आदि मगरमच्छ की तरह हैं, अवधान ही इसे पार करने के लिए बड़ी नाव है, समस्त शास्त्रविद्यारूपी हथिनियों के द्वारा इसका निरन्तर सेवन किया जाता है। धैर्यशाली विद्वान् इसके दूसरे किनारे को देख पाते हैं जबकि धारणा शक्ति से रहित मूर्ख व्यक्ति इससे ईर्ष्या करते रह जाते हैं।                                                                                                                            —-काव्यालंकार (भामह) ६.१–३

[3] आधारं भगवन्तं शिष्यः पप्रच्छ परमार्थम्॥

आधारकारिकाभिस्तं गुरुरभिभाषते स्म तत्सारम्।

कथयत्यभिनवगुप्तः शिवशासनदृष्टियोगेन॥ (परमार्थसार २.३)

[4] विशिष्ट ज्ञान के लिए सबकी शिष्यता स्वीकार कर लेनी चाहिए।

[5] बहुत लोगों से बहुत चीज़ों का ज्ञान प्राप्त कर लेना चाहिए। (सभारञ्जनशतक–नीलकण्ठदीक्षित)

[6] देशपाण्डे (१९९९ : २)

[7] दिवु क्रीडाविजिगीषाव्यवहारद्युतिस्तुतिगतिषु (धातुपाठ दिवादि १)

[8] परात्रिंशिका पृ॰ ८

[9] देशपाण्डे (१९९५ :१२०)

[10] परात्रिंशिका व्याख्या (पृ॰३७–३८) तथा तन्त्रालोक (२.४९) में अभिनवगुप्त ने इन तीनों साधनों के विकल्प को भी बताया है–

एकवारं प्रमाणेन शास्त्राद् वा गुरुवाक्यतः। ज्ञाते शिवत्वे सर्वस्थे प्रतिपत्त्या दृढात्मना॥

करणेन नास्ति कृत्यं क्वापि भावनयापि वा॥

तथा, तन्त्रालोक–

गुरोर्वाक्याद्युक्तिप्रचयरचनोन्मार्जनवशात् समाश्वासाच्छास्त्रं प्रति समुदिताद्वापि कथितात्।

विलीने शङ्काभ्रे हृदयगगनोद्भासिमहसः प्रभोः सूर्यर्स्येव स्पृशत चरणान् ध्वान्तजयिनः॥

[11] कुलं स्थूलसूक्ष्मपरप्राणेन्द्रियभूतादि समूहात्मतया कार्यकारणभावाच्च। (परात्रिंशिका पृ॰ ३२)

[12] परात्रिंशिका पृ॰ ६६–६९

[13] इस समस्या का सूक्ष्म विवेचन राफ़ेल तोरेला (1999) ने अपने पत्र  “ Devī Uvāca”, or Theology of the

Perfect Tense में कुशलता पूर्वक किया है।

[14] परोक्ष अर्थात् वह क्रिया जो वक्ता ने न देखी हो। अनद्यतन वह क्रिया जो आज न हुई हो।

[15] सुप्तमत्तयोरुत्तमः। महाभाष्य २

[16] एवं भगवती पश्यन्ती मध्यमा च स्वात्मानमेव यदा विमृशति अहमेव परावाग्देवतामयी एवमवोचमिति तदा तेन रूपेणोल्लसन्मायारम्भतया स्वात्मापेक्षतया तन्मायीयभेदानुसारात्तामेव पराभुवं स्वात्ममयीं भूतत्वेनाभिमन्वाना भेदावभासप्राणनान्तर्बहिष्करणपथव्यतिवर्तिनीयत्वात्परोक्षतया…….इत्यनवस्थितं काल्पनिकं चाद्यतनत्वमकाल्पनिके संविद्वपुषि कथमिति न्यायाद्भूतानद्यतनपरोक्षार्थपरिपूरणात्परोक्षोत्तमपुरुषक्रमेण विमृशेद् अहमेव सा परावाग्देवीरूपैव सर्ववाच्यवाचकाविभक्ततयैवमुवाचेति तात्पर्यम्। सुप्तोऽहं किल विललाप इति ह्येवमेवोपपत्तिः। तथाहि — तामतीतामवस्थां न स्मरति प्रागवेद्यत्वादिदानीं पुरुषान्तरकथितमाहात्म्यादतिविलापगानादिक्रियाजनितगद्गदिकादिदेहविक्रियावेशेन वा तदवस्थां चमत्कारात्प्रतिपद्यते नह्यप्रतिपत्तिमात्रमेवैतन्मत्तः सुप्तो वाहं किल विललाप इति मदस्वप्नमूर्छादिषु हि वेद्यविशेषानवगमात्परोक्षत्वं परावस्थायां तु वेद्यविशेषस्याभाव एव — इति केवलमत्र वेदकवेद्यतादात्म्यप्रतिपत्त्या तुर्यरूपत्वान्मदादिषु तु मोहावेशप्राधान्यात् — इतीयान् विशेषः परोक्षता तु समानैव। (परात्रिंशिका पृ॰ ८–९)

[17] “The three features of the perfect do not concern action but its stratified or concentric agent” (Torrella

1999: 134)

[18] मुख्यतया तु विच्छिन्नैव इदन्ता प्रतीयते यत्र भगवत्या अपराया उदयः। (परात्रिंशिका पृ॰ ७८)

[19] नरशक्तिशिवात्मकं हीदं सर्वं त्रिकरूपमेव। तत्र यत् केवलं स्वात्मन्यवस्थितं तत् केवलं जडरूपयोगि मुख्यतया नरात्मकं घटस्तिष्ठतीतिवदेष एव प्रथमपुरुषविषयः शेषः। यत् पुनरिदमित्यपि भासमानं यदामन्त्र्यमाणतया आमन्त्रकाहम्भावसमाच्छादिततद्भिन्नेदम्भावं युष्मच्छब्दव्यपदेश्यं तच्छाक्तं रूपं त्वं तिष्ठसीत्यत्र ह्येष एव युष्मच्छब्दार्थ आमन्त्रणतत्त्वं च। तथाहि यथाहं तिष्ठामि तथैवायमपीति। तस्याप्यस्मद्रूपावच्छिन्नाहम्भावचमत्कारस्वातन्त्र्यमविच्छिन्नाहञ्चमत्कारेणैवाभिमन्वान आमन्त्रयते यथार्थेन मध्यमपुरुषेण व्यपदिशति सेयं हि भगवती परापरा। सर्वथा पुनरविच्छिन्नचमत्कारनिरपेक्षस्वातन्त्र्याहंविमर्शेऽहं तिष्ठामीति पराभट्टारिकोदयो यत्रोत्तमत्वं पुरुषस्य। (परात्रिंशिका ७३–७५)

[20] परात्रिंशिका पृ॰ ७६

[21] तद् व्याख्यातमिदमनुत्तरं षोडशधा। (परात्रिंशिका पृ॰ ३१)

[22] वही पृ॰ २९–३०

[23] शक्तिशक्तिमतोरभेदात्।

[24] एक वस्तु (शिव) दो (शिव–शक्ति) में विभाजित हुआ तथा वही बहुतों (आभासरूप संसार) में प्रकट हुआ। (परात्रिंशिका पृ॰ ७९)

[25] सर्वं हि सर्वात्मकमिति नरात्मानो जडा अपि त्यक्ततत्पूर्वरूपाः शाक्तशैवरूपभाजो भवन्ति — शृणुत ग्रावाणः मेरुः शिखरिणामहं भवाम्यहं चैत्रो ब्रवीमीत्यपि प्रतीतेः। शाक्तमपि युष्मदर्थरूपमपि नरात्मकतां भजत एव शाक्तरूपमुज्झित्वा त्वं गतभयधैर्यशक्तिरित्यनामन्त्रणयोगेनापि प्रतिपत्तेः। भवानित्यनेन पादा गुरव इत्यादिप्रत्ययविशेषैश्चापरावस्थोचितनरात्मकप्रथमपुरुषविषयतयापि प्रतीतिसद्भावात्। त्यक्तशाक्तरूपस्यापि चाहंरूपशिवात्मकत्वमपि स्याद्वयस्ये दयिते त्वमेवाहं भवामीति प्रत्ययात्। शिवस्वरूपमपि चोज्झितचिद्रूपमिव नरशक्त्यात्मकं वपुराविशत्येव। कोऽहमेषोऽहमहो अहं धिग् माम् अहो मह्यमित्यादौ ह्यहमिति गुणीकृत्याविच्छिन्नं स्वातन्त्र्यं मुख्यतया तु विच्छिन्नैवेदन्ता प्रतीयते यत्र भगवत्या अपराया उदयः। हे अहमित्यादौ परापरशाक्तस्पन्दस्पर्श एव शिवस्य। (परात्रिंशिका पृ॰ ७७–७८)

[26] महाभाष्य ३.१.१

[27]भगवद्गीता १०.२३

[28] इस उदाहरण में चूँकि सम्बोधन अभिप्रेत नहीं है इसलिए अभिनव इस युष्मद (त्वम्=तुम) को जड भाव में आपन्न मान रहें हैं।

[29] एकात्मकत्वे ह्यप्रतियोगित्वात् शिवताप्रतियोगिसम्भवे शाक्तत्वमनेकतायां भेद एव नरात्मभाव एकस्यैव घटो घटौ घटा घटपटपाषाणा इत्यपि हि तिष्ठति तिष्ठतस्तिष्ठन्तीति चैकेनैव क्रियाशक्तिस्फुरितमेवैतद्। (परात्रिंशिका ७९)

[30] अत एव नरशक्तिशिवात्मनां युगपदेकत्र परामर्श उत्तरोत्तरस्वरूपानुप्रवेश एव — तस्यैव वस्तुतस्तत्परमार्थरूपत्वात्स च त्वं च तिष्ठथः स च त्वं चाहं च तिष्ठाम इति प्रतीतिक्रम एवाकृतकसंस्कारसारः शाब्दिकैर्लक्षणैरनुगम्यते तथा च निजभाषापदेष्वपि संस्कारस्य यत्र नामापि नावशिष्यते बौद्धान्ध्रद्रविडादिषु तत्राप्ययमेव वाचनिकः क्रमो वचनक्रमश्च हार्दीमेव प्रतीतिं मूलतोऽनुसरन् तत्प्रतीतिरसरूपतया प्रतीतेरप्येवंरूपत्वमवगमयेत्। (परात्रिंशिका पृ॰ ७९–८०)

[31] व्याकरणिक कोटियों का दार्शनिक कोटियों में और दार्शनिक कोटियों का व्याकरणिक कोटियों में अनूदित कर देने का

विशिष्ट व्यापार अभिनव के लिए नया नहीं है।  वे इन दो, सूचनात्मक दृष्टि से भिन्न, आयामों में से सुन्दर सहज रीति से एक से दूसरे का पोषण करते हुए चलते हैं। अनेकशः व्याख्याओं की छूट लेते हुए अभिनव, परम चैतन्य के मार्ग की पूर्वानुमान–भिन्नता को प्रकट करते हैं।

[i] पर्यन्तपञ्चाशिका नामक ग्रन्थ में कुलमत के अनुसार तथा प्रत्यभिज्ञा के विपरीत अभिनव गुप्त ने ३७ तत्त्व गिनाये हैं। सैतीसवाँ तत्त्व उन्होंने भैरव को बताया है जिसे कुल सम्प्रदाय में अनुत्तर भी कहा गया है। …. सर्वाभिव्यापक समष्टि चैतन्य अनुत्तर (परतत्त्व अथवा परा संविद) कहलाता है। (देशपाण्डे १९९५ : १३ एवं २४)

[ii] तुलना करें–

अनपेक्षितगुरुवचना सर्वान् ग्रन्थीन् विभेदयति सम्यक्।

प्रकटयति पररहस्यं विमर्शशक्तिर्निजा जयति॥

(गुरु के वचनों की अपेक्षा किये बिना जो सभी गाँठों को ठीक तरह से खोल कर गम्भीर रहस्यों का उद्घाटन कर देती है वह अपनी विमर्श शक्ति सर्वोत्कृष्ट है। )

[iii] अष्टाध्यायी १.२.७२ त्यदादीनि सर्वैर्नित्यम् सूत्र के अनुसार त्यदादिगण में पढ़े गये शब्द जब वाक्य में किसी भी अन्य के साथ पढ़े जाते हैं तो वे ही शेष बचते हैं बाक़ी लुप्त हो जाते हैं। त्यदादिगण सर्वादिगण के अन्तर्गत पढ़ा गया एक अन्तर्गण है जिसमें त्यद्, तद्, यद्, एतद्, इदम्, अदस्, एक, द्वि, युष्मद्, अस्मद्, भवतु, किम्, इतने शब्द समाहित होते हैं। इनके शेष बचने का उदाहरण है– रामः च स च = तौ, रामः च स च सा च = ते। अब प्रश्न यह है कि त्यदादि गण के ही शब्द अगर एक साथ पढ़े जायें तो कौन शेष बचे? इस प्रश्न के समाधान के रूप में महाभाष्य में एक वार्तिक आया है त्यदादीनां मिथः सहोक्तौ यत् परं तच्छिष्यते (वार्तिक सं॰ ८०१)। अर्थात्, जब त्यदादिगण में पढ़े गये शब्द एक साथ आ जायें तो उन में जो शब्द गण में बाद में पढ़े गयें हैं वे शेष रहते हैं। उदाहरण के लिए स च यश्च = यौ। प्रथमपुरुष के लिए प्रयुक्त हो सकने वाले जितने भी शब्द हैं युष्मद् सबके बाद है इसलिए इनके साथ युष्मद् शेष रहता है। युष्मद् के भी बाद अस्मद् है इसलिए अस्मद् किसी के साथ भी प्रयुक्त हो शेष बचता है।

[iv] यद्यपि शंकराचार्य ने भी व्याकरण की कोटियों का अनेक स्थानों पर अपने मत को प्रकट करने में उपयोग किया है लकिन इस विषय में उदाहरणों की जितनी प्रचुरता अभिनव गुप्त में है सम्भवतः उतनी अन्य किसी में नहीं। उदाहरणके रूप में प्रस्तुत है भगवद्गीता २.१६ में आये तत्त्वदर्शिनः शब्द की व्याख्या– तदिति सर्वनाम् सर्वं च ब्रह्म तस्य नाम तदिति तद्भावः तत्त्वम् ब्रह्मणो याथात्म्यम्। तत् द्रष्टुं शीलं येषां ते तत्त्वदर्शिनः तैः तत्त्वदर्शिभिः।


Categories: Sanskrit Blogs

Sanskrit blog: Ramblings of Thimmu, the dull-headed

Simple Sanskrit - Sat, 02/04/2017 - 16:10
मूढतिम्मोः जल्पनम्
श्रान्तं धरायां हि ससुखं स्वपन्तं त्व-मुत्तिष्ठ विचिनु शय्यामिति वदसि किम्? ।तृप्तिं न नाशयेदुपकृतिभ्रान्त्या तु
दुष्करं ह्युपकृतिर्मूढतिम्मो ॥ ८७३ ॥Rough translation of the following Kannada verse [ಡಿವೀಜೀ ಯವರ ಮಂಕುತಿಮ್ಮನ ಕಗ್ಗ-ಪದ್ಯ ಸಂ.೮೭೩]ಬಳಲಿ ನೆಲದಲಿ ಮಲಗಿ ಮೈಮರೆತು ನಿದ್ರಿಪನಕುಲುಕಿ ಹಾಸಿಗೆಯನರಸೆನುವುದುಪಕೃತಿಯೆ ?ಒಳಿತನೆಸಗುವೆನೆಂದು ನೆಮ್ಮದಿಯ ನುಂಗದಿರುಸುಲಭವಲ್ಲೊಳಿತೆಸಗೆ ಮಂಕುತಿಮ್ಮ || ೮೭೩ ||- - - -http://gssmurthy.blogspot.com http://murthygss.tripod.com/ http://sanskritcentral.com
Categories: Sanskrit Blogs

Pages

Subscribe to Sanskrit Central aggregator - Sanskrit Blogs