ब्राह्मण उवाच

Subscribe to ब्राह्मण उवाच feed
Mukesh Nagarhttps://plus.google.com/109524758985518354773noreply@blogger.comBlogger153125
Updated: 1 week 2 days ago

द्वादश ज्योतिर्लिङ्गंस्मरणं

Tue, 06/07/2011 - 20:58
                                              द्वादश ज्योतिर्लिङ्गंस्मरणं   
           सौराष्ट्रे सोमनाथं च श्री शैले  मल्लिकार्जुनम्                                        उज्जैन्यां महाकालमोङ्ग्कारममलेश्वरम्              परल्यां  वैद्यनाथं च  डाकिन्यां भीमशङ्करं                                  सेतुबन्धे तु रामेशं नागेशं दारुकावने            वाराणस्यां तु विश्वेशं त्रयंबकं गौतमीतटे                                      हिमालये तु केदारं धृसिणेशं    शिवालये            एतानि  ज्योतिर लिङ्गानि सायं प्रातः पठेन्नरः                                  सप्त जन्म कृतं पापं स्मरणेन विनश्यति                                                                                    || इति   द्वादश ज्योतिर्लिङ्गंस्मरणं समाप्तं ||  
Categories: Stotra - Pooja

विष्णोरष्टाविंशतिनाम स्तोत्रं

Tue, 06/07/2011 - 20:24
     विष्णोरष्टाविंशतिनाम स्तोत्रं 

   अर्जुन उवाच
किं  नु नाम सहस्त्राणि   जपन्ते च पुनः पुनः यानि नामानि दिव्यानि तानि चाsचकश्व  केशव
 श्री  भगवान उवाच
मत्स्यं   कूर्मं वराहं च वामनं   च     जनार्दनम्
 गोविन्दम्  पुण्डरी काक्षम्  माधवं मधुसूदनम्
पद्मनाभं    सहस्त्राक्षम्   वनमालिम्   हलायुधम्
गोवर्धनं      हृषीकेशं       वैकुण्ठं        पुरुषोत्तमं
विश्वरूपं         वासुदेवं       रामं    नारायणं   हरिं
  दामोदरम्    श्रीधरं   च   वेदांगम्    गरुणध्वजम्   अनंतं   कृष्णगोपालं    जपतो    नास्ति   पातकं
  गवां       कोटिप्रदानस्य             अश्वमेधशतस्य   कन्यादान  सहस्त्राणाम्   फलं प्राप्नोति मानवः
अमायाम् वा पौर्णमास्यामेकादश्याम्  तथैव च
संध्याकाले   स्मरे नित्यं प्रातःकाले तथैव च
     मध्यान्हे  च जपनित्यम्     सर्वपापै: प्रमुच्यते   ||

             देवाधिदेव भगवान  नारायण  के सभी स्तोत्र व कवच के लिए संपर्क सूत्र-                                          mailto:ajmernagar@gmail.com
  
                 
Categories: Stotra - Pooja

विष्णु:स्तोत्रं

Sun, 06/05/2011 - 22:18
                    विष्णोरष्टनाम स्तोत्रं
अच्च्युतं   केशवं विष्णुं हरिम  सत्यं जनार्दनं |हंसं    नारायणं  चैव    मेतन्नामाष्टकम   पठेत्  ||त्रिसंध्यम य: पठेनित्यं दारिद्र्यं तस्य नश्यति |शत्रुशैन्यं  क्षयं   याति दुस्वप्न: सुखदो भवेत्  ||गंगाया     मरणं   चैव   दृढा    भक्तिस्तु   केशवे |  ब्रह्मा  विद्या   प्रबोधश्च   तस्मान्नित्यं पठेन्नरः ||                   ||इति वामन पुराणे विष्णोर्नामाष्टकम   सम्पूर्णं ||
                    विष्णोषोडशनामस्तोत्रं
औषधे चिन्तयेद विष्णुं भोजने च जनार्दनं |शयने   पद्मनाभं   च   विवाहे च     प्रजापतिम ||युद्धे      चक्रधरं     देवं      प्रवासे च त्रिविक्रमं |नारायणं      तनुत्यागे       श्रीधरं   प्रियसंगमे  ||दु:स्वप्ने    स्मर   गोविन्दं संकटे मधुसूदनम | कानने      नारसिंहं  च पावके   जलशायिनम  ||   जलमध्ये     वराहं च        पर्वते     रघुनंदनम |गमने      वामनं चैव       सर्वकार्येषु     माधवं ||षोडश-एतानि  नामानि  प्रातरुत्थाय य: पठेत |सर्वपाप    विनिर्मुक्तो    विष्णुलोके    महीयते  ||                    || इति विष्णो षोडशनाम स्तोत्रं  सम्पूर्णं ||
Categories: Stotra - Pooja

संकटनाशनं विष्णुस्तोत्रं

Fri, 06/03/2011 - 20:50

        संकट नाशनं विष्णुस्तोत्रं   

          श्री वेद व्यास उवाच:

पुनर्दैत्यम समायान्तं दृष्ट्वा देवा  सवासवाः   Iभय्प्रकम्पिता सर्वे विष्णु   स्तोत्रुम  प्रचक्रमु    II  १ II                          देवा उचु:

नमो मत्स्य-कुर्मादि  नाना-स्वरुपिः     I
सदा    भक्त       कार्योद्यातायार्तिहन्त्रे      II २ II
विधात्रादी      सर्गस्थिति  -धवंसकर्त्रे      I
गदा  शंख   पद्मा  रि हस्ताय  तेsस्तु      II  ३ II
रमा    वल्लभायसुराणाम     निहन्त्रे      I
भुजंगारियानाय            पीताम्बराय      II  ४ II
मखादि            क्रियापाककर्त्रे विकर्त्रे      I
शरण्याय  तस्मै   नता स्मों नतास्मः     II ५ II
नमो            दैत्यसंतार्पितामर्त्यदुख      I
चलदध्वन्स्दम्भोल्ये    विष्णवे    ते      II  ६  II
भुजन्गेश -       तल्पेश्यायार्क-चन्द्र      I
द्विनेत्राय तस्मै  नता: स्मों नतास्मः     II  ७ II

                नारद उवाच:

संकटनाशनं नाम स्तोत्रमेतत पठेन्नरः     I
स कदाचिन्न संकष्टी पीडयते  कृपया हरे :   II ८ II
 इति पद्म पुराणे पृथु-नारद संवादे  संकटनाशनं नाम विष्णुस्तोत्रं सम्पूर्णम

Categories: Stotra - Pooja

स्तोत्र १

Thu, 06/02/2011 - 22:00
अभीष्ट प्राप्ति के लिए कुछ स्तोत्र हैं इन्हें प्रातःकाल, सन्ध्याकाल तथा रात्रि में  करने से सर्वसिद्धि प्राप्त होती है और इसमें कोई संदेह नहीं है
सर्वप्रथम श्री गणेश जी की उपासना इस श्लोक के साथ आरंभ करेंगे

                      संकटनाशनं गणेशस्तोत्रं
                                 नारद-उवाच
प्रणम्य    शिरसा    देवं     गौरीपुत्रं    विनायकं
भक्तावासम स्मरेनित्यं आयु:  कामार्थ सिद्धये  II
प्रथमं    वक्रतुंडम   च   एकदंतं    द्वितीयकम,
तृतीयं कृष्ण पिन्गाक्षम गजवक्त्रं चतुर्थकम II
लम्बोदरं     पंचमं   च   षष्ठं     विकटमेव     च
सप्तमं   विध्नराजन  च   धूम्रवर्णं   तथाष्टकम्  II
नवमं    भालचंद्रम्     च   दशमं   तु  विनायकं  
एकादशिम्   गणपतिम्   द्वादशं   तु   गजाननं   II
द्वादश-एतानि नामानि त्रिसंध्यं यः पठेन्नरः
न च  विध्न   भयं   तस्य   सर्वसिद्धिकरं   परं   II
विद्यार्थी   लभते  विद्यां   धनार्थी लभते श्रीयंम्
पुत्रार्थी लभते पुत्रान मोक्षार्थी लभते गतिम्   II
जपेत् गणपतिं स्तोत्रं षड्भिर्मासै फलं लभेत्
सम्वत्सरेंण   सिद्धिं   च   लभते   नात्र   संशय   II
अष्टाभ्यो  ब्राह्मणेभ्यस्यो लिखित्वा यःसमर्पयेत्
तस्य विद्या भवेत् सर्वा गणेशस्य प्रसादतः   II                
            II इति नारद पुराणे संकट नाशनं गणेश स्तोत्रं सम्पूर्णं II  



श्री गणेश जी  के अन्य सभी स्तोत्र व कवच के लिए संपर्क सूत्र-           mailto:ajmernagar@gmail.com
Categories: Stotra - Pooja

हमारी दिनचर्या

Sun, 05/29/2011 - 10:30


इस दिनचर्या को अपनाकर देखे.............. 
 ॐ श्री गणेशाय  नमः ब्रह्म मुहूर्त में निद्रा त्याग  कर उठ जाएँ और   इस मन्त्र  के साथ अपने प्रातःकाल का आरम्भ करें  इसके पश्चात् अपने दोनों हाथों की हथेलियों को जोड़कर ऊपर अँगुलियों, फिर मध्य में और हथेलियों की जड़ में देखे तथा क्रमशः महादेवी लक्ष्मी, सरस्वती तथा श्री गोविन्द का ध्यान  करे और इस मंत्र का जाप करे.
कराग्रे वसते लक्ष्मी करमध्ये सरस्वती करमूले तू गोविन्दं प्रभाते करदर्शनम !!१!!
समुद्र वसने देवी पर्वतस्तन मंडले, विष्णुपत्नी नमस्तुभ्यं पाद्स्पर्शम  क्षमस्वमे !!२!!
....अब  झुककर पृथ्वी को हाथो से छूकर अपने माथे से लगाये तत्पश्चात पैर नीचे रखे!
...इसके बाद मुख को स्वच्छ जल से कुल्ला करे तथा हो सके तो रात्रि का रखा ताम्र पात्र का अन्यथा मिटटी के बर्तन में रखा  हुआ ३ से ४ गिलास  जल धीरे -धीरे पी लें अब ५ मिनट के बाद शौच के लिए चले जाएँ
यही क्रम ३-४ महीने तक कर के देखेगे तो स्वयं आप को अपने स्वास्थय में आश्चर्यजनक लाभ दिखाई देगा
अब हल्का  व्यायाम करे अथवा तेज चाल से चलते हुए ४-५ किलोमीटर तक पैदल चले जिससे शरीर से पसीना निकले और साथ ही विषैले पदार्थ भी बाहर निकल जाएँ
वापस आकर  थोड़े विश्राम के बाद पूर्ण स्नान* करें तथा अपने हिन्दू सनातन धर्म के अनुसार ईश्वर की पूरे मन से पूजा अर्चना करें |
स्तोत्र पाठ विधि
अपने हाथों को धोकर , दाहिने हाथ में जल ले और " ॐ केशवाय नमः ,ॐ नारायणाय नमः, ॐ माधवाय नमः  " मन्त्र पढ़े | इसके पश्चात तीन बार आचमन और प्राणायाम करे | अब अपने शरीर को शुद्ध करने के लिए निम्न मन्त्र पढ़कर --
  " ॐ अपवित्रः पवित्रो व सर्वावस्थां गतोऽपि  वा |   यः स्मरेत पुण्डरीकाक्षं स  बाह्याभ्यन्तरः शुचिः ||"
अपने शरीर तथा आसन पर जल छिड़क कर शुद्ध करे | जबतक मन,क्रम, वचन अर्थात वाणी तथा शरीर शुद्ध  नही  होगा तब तक  कोई भी पूजा- पाठ ,अनुष्ठान या पुण्य कार्य सिद्ध और फल-दायक नहीं होता है | अब हाथ में जल और पुष्प लेकर इस मन्त्र के साथ पाठ का संकल्प करे |       "ॐ   अत्राद्य महामाङ्गल्य प्रतिमासोत्तमे मासे अमुक मासे, अमुक पक्षे, अमुक तिथौ, अमुक वासरे अमुक गोत्रः, अमुक शर्म-वर्म-गुप्ताहं ,अमुक कार्य-सिद्धर्थं ( जैसे- स्वमनःशान्त्यर्थं, परमेश्वर्य प्रीत्यर्थं ) पाठं महं करिष्ये " कहते हुए पृथ्वी पर जल छोड़ दे |अब मृदु भाषा में मंद स्वर से अपने इष्ट देव का ध्यान करते हुए पाठ करने से  शीघ्र तथा यथेस्ट फल प्राप्त होता है |
 दिनचर्या  से, तथा अन्य से संबंधित अधिक विस्तृत जानकारी के लिए संपर्क - ajmernagar@gmail.com  
Categories: Stotra - Pooja

Pages