astrology lalkitab

Subscribe to astrology lalkitab feed
We cannot change the circumstances in which our soul chose to be born, but we can definitely change the circumstances in which we grow.ASTROLOGY, VASTU SASTRA, AURA, AROMA. SHIVYOG,ARTOF LIVING, ISHAYOG,OSHO AND NEWAGE MEDITATION अध्यात्म, ज्योतिष, यन्त्र-मन्त्र-तन्त्र, वेद, पुराण, इतिहास, गुढ़-रहस्य समस्त समस्या का निराकरण सम्भव नहीं है, मात्र कुछेक समस्या का ही समाधान सम्भव है। Accurate Horoscope Analysis and Remedies for All Problems malhotrasubhashhttp://www.blogger.com/profile/12453811351942282454noreply@blogger.comBlogger3619125
Updated: 8 hours 27 min ago

चंद्रमा दोष

Tue, 03/05/2013 - 14:15
चंद्रमा दोष के लक्षण:
जुखाम, पेट की बीमारियों से परेशानी
घर में असमय पशुओं की मत्यु की आशंका
अकारण शत्रुओं का बढ़ना, धन का हानि
उपाय:
भगवान शिव की आराधना करें
ऊं नम शिवाय मंत्र का रूद्राक्ष की माला से 11 माला जाप करें
बड़े बुजुर्गों, ब्रह्मणों, गुरूओं का आशीर्वाद लें
सोमवार को सफेद कपड़े में मिश्री बांधकर जल में प्रवाहित करें
चांदी की अंगूठी में चार रत्ती का मोती सोमवार को जाएं हाथ अनामिका में धारण करें
शीशे की गिलास में दूध, पानी पीने से परेहज करें
28 वर्ष के बाद विवाह का निर्णय लें
लाल रंग का रूमाल हमेशा जेब में रखें
माता-पिता की सेवा से विशेष लाभ
Categories: Other Language Links

सूर्य दोष

Tue, 03/05/2013 - 14:15
सूर्य दोष के लक्षण:
असाध्य रोगों के कारण परेशानी
सिरदर्द, बुखार, नेत्र संबंधी कष्ट
सरकार के कर विभाग से परेशानी, नौकरी में बाधा
उपाय:
भगवान विष्णु की आराधना करें
ऊं नमो भगवते नारायणाय मंत्र का 1 माला लाल चंदन की माला से जाप करें
गुड़ खाकर पानी पीकर कार्य आरंभ करें
बहते जल में 250 ग्राम गुड़ प्रवाहित करें
सवा पांच रत्ती का माणिक तांबे की अंगूठी में बनवायें
रविवार को सूर्योंदय के समय दाएं हाथ की मध्यमा अंगूली में धारण करें
मकान के दक्षिण दिशा के कमरे में अंधेरा रखें
पशु-पक्षियों के लिए पीने के पानी की व्यवस्था करें
घर में मां, दादी का आशीर्वाद जरूर लें
Categories: Other Language Links

21 leaves ganesha puja

Thu, 02/28/2013 - 12:57
For Ganesh Chaturthi Puja 21 leaves are used. The leaves are also known as Ganesh Patris. Below are the pictures of 21 leaves used during Vinayaka Chaturthi. Traditionally leaves of 108 different types of plants are offered. But today most people confine the offering to Dhurva grass and Bilva leaves. In some regions, certain wild leaves are worshipped instead of Ganesh murti. In most community pujas, 21 different types of leaves are offered.
Tulsi leaves are only used during Ganesh Chaturthi puja. It is not used during other Ganesh pujas.
Nirguda Kimva or Neem is used. Both are not used together.
Similarly, Kevada or Dorali is used. Both are not used together. Dorali is also known as Ranvange.
Not all 21 leaves are offered in pujas performed in homes.
Mango leaves are also widely used for decorating the puja area.























Source - Pictures from Government of Maharashtra, Environment Department Website
Categories: Other Language Links

मनी प्लांट

Tue, 02/12/2013 - 14:57
वास्तु विज्ञान में मनी प्लांट का पौधा लगाने के लिए आग्नेय दिशा यानी दक्षिण-पूर्व को उत्तम माना गया है। आग्नेय दिशा के देवता गणेश जी हैं और प्रतिनिधि ग्रह शुक्र है। गणेश जी अमंगल का नाश करते हैं और शुक्र सुख-समृद्धि का कारक होता है। बेल और लता का कारक शुक्र होता है इसलिए आग्नेय दिशा में मनी प्लांट लगाने इस दिशा सकारात्मक प्रभाव प्राप्त होता है।
मनी प्लांट के लिए सबसे नकारात्मक दिशा ईशान यानी उत्तर पूर्व को माना गया है। इस दिशा में मनी प्लांट लगाने पर धन वृद्धि की बजाय आर्थिक नुकसान हो सकता है। ईशान का प्रतिनिधि ग्रह बृहस्पति है। शुक्र और बृहस्पति में शत्रुवत संबंध होता है क्योंकि एक राक्षस के गुरू हैं तो दूसरे देवताओं के गुरू। शुक्र से संबंधित चीज इस दिशा में होने पर हानि होती है। वास्तु विज्ञान के अनुसार उत्तर पूर्व दिशा के लिए सबसे उत्तम तुलसी का पौधा होता है। इसलिए ईशान दिशा में मनी प्लांट लगाने की बजाय चाहें तो तुलसी लगा सकते हैं। अन्य दिशाओं में मनी प्लांट का पौधा लगाने पर इसका प्रभाव कम हो जाता है।
Categories: Other Language Links

शनि दोष शांति

Tue, 02/12/2013 - 14:55
  • जानिए शनि दोष शांति का यह अचूक उपाय -
  • - शनिवार के दिन सुबह और शाम के वक्त स्नान कर यथासंभव काले कपड़े पहनकर शनिदेव की प्रतिमा की यहां बताई जा रही विशेष सामग्री से पूजा करें।
  • - शनिदेव पर काले तिल का तेल चढ़ाकर कुमकुम, अक्षत, काले तिल के अलावा विशेष रूप से काली तुलसी चढ़ाने को शनि दशा अनुकूल बनाने के लिए बहुत शुभ और असरदार माना गया है।
  • - शनि पूजा में काली तुलसी चढ़ाते वक्त नीचे लिखा वेदोक्त मंत्र बोलें, कठिनाई होने पर सामान्य शनि मंत्र भी बोला जा सकता है -
  • - ॐ शन्नो देवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये। शंयोरभिस्त्रवन्तु न:।
  • - ॐ शं शनैश्चचराय नम:
  • - शनि पूजा के बाद इस मंत्र के जप भी शनि दशा में शुभ फल देते हैं। पूजा व मंत्र जप के बाद शनि को तेल से बने पकवानों का भोग लगा शनि आरती करें।
  • - अंत में कष्टों से रक्षा, सौभाग्य व सुख की कामना करें।
Categories: Other Language Links

कौन सा पेड़

Tue, 02/12/2013 - 14:50
कौन सा पेड़ आपको देगा पैसा, पैसा और पैसा...

ज्योतिष के अनुसार पेड़-पौधों से भी पैसों से जुड़ी आपकी हर परेशानी दूर हो सकती है लेकिन ऐसा तभी होगा जब आप राशि अनुसार इनसे जुड़े उपाय करें। पैसों से जुड़ी परेशानियों के लिए कई तरह के उपाय बताए गए हैं। लेकिन पेड़ पौधों सें संबंधित उपाय आपको जरूर पैसा दिलाएंगे।

ज्योतिष में बारह राशियों के स्वामी ग्रह बताए गए हैं। इन ग्रहों का पेड़ पौधे और वनस्पतियों पर प्रभाव बताया गया है। हर ग्रह का किसी न किसी पेड़ पौधे पर विशेष प्रभाव होता है।

किस राशि के लोग क्या उपाय करें?

मेष- मेष राशि वाले मंगलवार को अपने राशि स्वामी मंगल के पेड़ लाल चंदन की पूजा करें और अपने वॉलेट में छोटा लाल चंदन का टुकड़ा रखें।

वृष- इस राशि वालों को अपने राशि स्वामी के अनुसार गुलर के पेड़ की जड़ शुक्रवार के दिन घर लाना चाहिए। और सफेद कपड़े में बांध कर पैसे रखने के स्थान पर रखें। आपके घर में कभी पैसों की कमी नहीं आएगी।

मिथुन- इस राशि का स्वामी बुध होता है। इसलिए पैसों से जुड़ी परेशानि दूर करने के लिए इस राशि वालों को अपामार्ग के पौधे का पत्ता हमेशा अपने वॉलेट में रखना चाहिए।

कर्क- कर्क राशि वाले लोग अगर पैसा चाहते हैं तो पलाश के फूलों की पूजा कर के उन्हे अपनी तिजोरी में या अपने पर्स में रखें। इससे कर्क राशि वालों को कभी आर्थिक तंगी का सामना नही करना पड़ेगा।

सिंह- आंकड़े के पेड़ की लकड़ी आपको पैसों से संबंधित फायदा दिला सकती है। रविवार को आकड़े के पेड़ की पूजा करें और उसकी लकड़ी पैसों के साथ घर में रखें तो घर में बरकत होती है।

कन्या- इस राशि वालों का भी राशि स्वामी बुध है इसलिए इस राशि वालों को भी अपामार्ग की पूजा करनी चाहिए और घर में पैसों के साथ इसकी लकड़ी रखना चाहिए।

तुला- सफेद पलाश का पौधा इस राशि वालों को पैसे सें संबंधित लाभ देने वाला है। सफेद पलाश का फूल सफेद कपड़े में रख कर पैसों के साथ रखें तो आपका पैसा जरूर दुगना होने लगेगा।

वृश्चिक- इस राशि के लोग मंगल देव के लिए मंगलवार को खैर के पेड़ की जड़ लेकर आएं और उसकी पूजा करके धन स्थान पर रखना चाहिए।

धनु- धनु राशि वालों के लिए पिपल ही धन देने वाला पेड़ होता है। इसलिए गुरुवार के दिन पीपल के पेड़ की पूजा करें और पीपल की लकड़ी पैसों के स्थान पर रखें तो हमेशा धन बढ़ता रहेगा।

मकर- मकर राशि वालों को शनि देव की कृपा से ही धन लाभ होता है। इसलिए इस राशि के लोग शनिवार को शमि के पौधे की पूजा करें और उसकी जड़ को अपने वॉलेट में रखें।

कुंभ- कुंभ राशि का भी राशि स्वामी शनि है इसलिए इस राशि वालों को अपने वॉलेट में काले कपड़े में शमि पौधे की लकड़ी अपने साथ रखना चाहिए।

मीन- इस राशि के लोग पीले चंदन की लकड़ी अपने पैसे रखने के स्थान पर रखें तो पैसो का लाभ हमेशा मिलता रहेगा।
Categories: Other Language Links

जड़ (मूल) माला द्वारा वास्तु-दोष उपचार

Fri, 02/08/2013 - 13:18
आइये जाने *जड़ (मूल) माला द्वारा वास्तु-दोष उपचार –पवन तलहन—
घर, भवन और उद्योग में दिशाओं में यदि वास्तु-दोष आ जाये तो, हमारे ऋषियों ने दिशाओं के अनुसार उपाय बताये हैं! —
१–पूर्व में “बेल” की जड़ से बनी माला को रखने पर पूर्व में आये वास्तु-दोष दूर होता है!
२–ईशान्य में वास्तु दोष होने पर “वृद्धमूल” की जड़ से बनी माला ईशान्य में आये दोष को दूर करती है!
३–उत्तरे में वास्तु आने पर “वमनमेठी” की जड़ से बनी माला रखने पर उत्तर दोष समाप्त होता है!
४–वायव्य में आये दोष को दूर करने के लिये “खिरनी” की जड़ से बनी माला का प्रयोग करना चाहिये! ११ बच्छों को दूध पिलाना शुभ होता है!
५–पश्चिम में आये वास्तु-दोष को “रवैत विरैली” की जड़ से बनी माला से दोष दूर होता है!
६– nairrity कोण वास्तु दोष होने पर सफ़ेद “चन्दन” की जड़ से दोष दूर होता है!
७–दक्षिण में आये वास्तुदोष को दूर करने के लिये “अन्नतमूल” की जड़ से बनी माला द्वारा दोष दूर होता है!
८–अग्नि कोण में वास्तुदोष होने पर “मजीठ” की जड़ से बनी माला से दोष होता है!
माला को दिशानुसार दिशा में रखना चाहिये!
Categories: Other Language Links

Gayatri Mantra

Tue, 02/05/2013 - 15:48
As I have heard from astrologers, praying to the Sun via the Gayatri Mantra actually repairs all the planets. I mean to say that all the bad guys (Saturn, Rahu, Ketu etc) do not disturb the native if one worship Sun by Gayatri Mantra.
Categories: Other Language Links

MECURY.

Tue, 02/05/2013 - 15:15
MECURY.

1. Worship Sun - Yes, since Me is close to Su, it takes most of its energy from Sun. Hence, if Su is strengthened, Me also gains energy.

2. Offer green grass to cow on Wednesday.

3. Offer clothes (specially green in color) to small kids on Wednesday.

4. If you want to improve your Mathematics, your Me must be good. Study Maths at dawn time, to improve it.

5. Offer Saptadhanya (7 types of grains) to birds.

6. Wear greens more often. If you know that Me is bad for you, in case of Sagittarius, Pisces, Aries and Scorpio ascendants, do not wear green on Wednesday.

7. Listen to/Chant the Vishnu Sahasranaam (1000 names of Lord Vishnu), at least on Wednesday.

8. Develop an aptitude to learn new things and interact with new people.

9. Free birds on Wednesdays and Basant Panchami, specially parrots.

10. Clean teeth with Alum. This works fairly quickly. Alum must not touch your gums.

11. Start loving your workplace.

12. Organize your work. Arrange stuff in your room, desktop and everywhere you stay. This also improves your  Ve and Ra.

13. Try to be methodical in everything you undertake. Don't be random.

14. Solve mathematical, logical puzzles. Meditate, to strengthen your mind and body.



Categories: Other Language Links

दो फूलदार लौंग

Mon, 02/04/2013 - 15:58
क्या आपको अपने कार्यक्षेत्र में अनावश्यक दबाव या गलत काम कराने का दबाव पड़ता है यदि हां तो आप निम्न तांत्रिक प्रयोग करे ,,आप दबाव तनाव से मुक्त होगे ,आपको भ्रष्ट बनाने ,,आपसे गलत कराने का दबाव कम होगा आप सोमवार को दो फूलदार लौंग और थोडा सा कपूर ले ,पहले अपने ईष्ट की विधिवत पूजा करले ,फिर उस कपूर और
लौंग को १०८ बार गायत्री मंत्र से अभिमंत्रित करे ,,अब कपूर लोग को जला दे ,अपनी दृष्टि लगातार उस पर बनाए रखे और गायत्री मंत्र का पाठ करते रहे ,,जब लौंग-कपूर पूरी तरह जल जाए तब ,उससे बनी भष्म या राख को इकठ्ठा कर ले ,,आप इसे तीन बार [सुबह,शाम और कार्यक्षेत्र में प्रवेश पर ]अपनी जिह्वा [[जीभ]] पर थोडा सा लगाए ,,आप के कार्यक्षेत्र में आप पर दबाव ७ दिनों में कम हो जाएगा
Categories: Other Language Links

पितृदोष

Mon, 02/04/2013 - 15:53
पितृदोष निवारण

1 पितृदोष निवारण के लिए श्राद्ध करे। समयाभाव में भी सर्वपितृ अमावस्या या आश्विन कृष्ण अमावस्या के दिन श्राद्ध अवश्य श्रद्धापूर्वक करे।

2 गुरूवार के दिन सायंकाल के समय पीपल पेड की जड पर जल चढाकर सात बार परिक्रमा कर घी का दीपक जलाए।

3 प्रतिदिन अपने भोजन मे से गाय, कुते व कौओ को अवश्य खिलाए।

4 भागवत कथा पाठ कराए रूा श्रवण करे।

5 नरायण बली, नागबली आदि पितृदोष शांति हेतु करे।

6 माह में एक बार रूद्राभिषेक करे। संभव नही होने पर श्रावण मास में रूद्राभिषेक अवश्य करे।

7 अपने कुलदेवी-देवता का पुजन करते रहे।

8 श्राद्ध काल में पितृसुक्त का प्रतिदिन पाठ अवश्य करे।
Categories: Other Language Links

सफलता

Mon, 02/04/2013 - 15:51
सफलता प्राप्ति के लिए :

1. किसी कार्य की सिद्धि के लिए जाते समय घर से निकलने से पूर्व ही अपने हाथ में रोटी ले लें। मार्ग में जहां भी कौए दिखलाई दें, वहां उस रोटी के टुकड़े कर के डाल दें और आगे बढ़ जाएं। इससे सफलता प्राप्त होती है।

2॰ किसी भी आवश्यक कार्य के लिए घर से निकलते समय घर की देहली के बाहर, पूर्व दिशा की ओर, एक मुट्ठी घुघंची को रख कर अपना कार्य बोलते हुए, उस पर बलपूर्वक पैर रख कर, कार्य हेतु निकल जाएं, तो अवश्य ही कार्य में सफलता मिलती है।

3॰ अगर किसी काम से जाना हो, तो एक नींबू लें। उसपर 4 लौंग गाड़ दें तथा इस मंत्र का जाप करें : `ॐ श्री हनुमते नम:´। 21 बार जाप करने के बाद उसको साथ ले कर जाएं। काम में किसी प्रकार की बाधा नहीं आएगी।

4 चुटकी भर हींग अपने ऊपर से वार कर उत्तर दिशा में फेंक दें। प्रात:काल तीन हरी इलायची को दाएँ हाथ में रखकर “श्रीं श्रीं´´ बोलें, उसे खा लें, फिर बाहर जाए¡

प्रातः सोकर उठने के बाद नियमित रूप से अपनी हथेलियों को ध्यानपूर्वक देखें और तीन बार चूमें। ऐसा करने से हर कार्य में सफलता मिलती है। यह क्रिया शनिवार से शुरू करें।

Categories: Other Language Links

दिशाविशेषमें

Thu, 01/31/2013 - 12:24
कई वृक्ष ऐसे हैं, जो दिशाविशेषमें स्थित होनेपर शुभ अथवा अशुभ फल देनेवाले हो जाते हैं; जैसे -
पूर्वमें पीपल भय तथा निर्धनता देता हैं । परन्तु बरगद कामना - पूर्ति करता हैं ।
आग्नेयमें वट, पीपल, सेमल, पाकर तथा गूलर पीडा़ और मृत्यु देनेवाले हैं । परन्तु अनार शुभ है ।
दक्षिणमें पाकर रोग तथा पराजय देनेवाला है, और आम, कैथ, अगस्त्य तथा निर्गुण्डी धननाश करनेवाले हैं । परन्तु गूलर शुभ है ।
नै इमली शुभ है ।
दक्षिण - नै जामुन और कदम्ब शुब हैं ।
पश्चिममें वट होनेसे राजपीडा़, स्त्रीनाश व कुलनाश होता है, और आम, कैथ अगस्त्य तथा निर्गुण्डी धननाशक हैं । परन्तु पीपल शुभदायक है ।
वायव्यमें बेल शुभदायक है ।
उत्तरमें गूलर नेत्ररोग तथा ह्लास करनेवाला है । परन्तु पाकर शुभ है ।
ईशानमें आँवला शुभदायक है ।
ईशान - पूर्वमें कटहल एवं आम शुभदायक हैं ।
Categories: Other Language Links

भूमि-प्राप्तिके लिये अनुष्ठान

Thu, 01/31/2013 - 12:15

भूमि-प्राप्तिके लिये अनुष्ठान
किसी व्यक्तिको प्रयत्न करनेपर भी निवासके लिये भूमि अथवा मकान न मिल रहा हो, उसे भगवान् वराहकी उपासन करनी चाहिये । भगवान् वराहकी उपासना करनेसे, उनके मस्तक जप करनेसे, उनकी स्तुति - प्रार्थना करनेसे अवश्य ही निवासके योग्य भूमि या मकान मिल जाता है ।
स्कन्दपुराणके वैष्णवखण्डमें आया है कि भूमि प्राप्त करनेके इच्छुक मनुष्यको सदा ही इस मन्त्रका जप करना चाहिये -
ॐ नमः श्रीवराहाय धरण्ययुद्धारणाय स्वाहा ।
ध्यान - भगवान् वराहके अंगोंकी कान्ति शुद्ध स्फटिक गिरिके समान श्वेत है । खिले हुए लाल कमलदलोंके समान उनके सुन्दर नेत्र हैं । उनका मुख वराहके समान है, पर स्वरुप सौम्य है । उनकी चार भुजाऍ हैं । उनके मस्तकपर किरीट शोभा पाता हैं और वक्षःस्थलपर श्रीवत्सका चिह्ल है । उनके चार हाथोंमें चक्र, शङ्ख, अभय - मुद्रा और कमल सुशोभित है । उनकी बायीं जाधपर सागराम्बरा पृथ्वीदेवी विराजमान हैं । भगवान् वराह लाल, पीले वस्त्र पहने तथा लाल रंगके ही आभूषणोंसे विभूषित हैं । श्रीकच्छपके पृष्ठके मध्य भागमें शेषनागकी मूर्ति है । उसके ऊपर सहस्त्रदल कमलका आसन है और उसपर भगवान् वराह विराजमान हैं ।
उपर्युक्त मन्त्रके सङ्कर्षण ॠषि, वाराह देवता, पंक्ति छन्द और श्री बीज है । उसके चार लाख जप करे और घी व मधुमिश्रित खीरका हवन करे ।
Categories: Other Language Links

वास्तु

Wed, 01/30/2013 - 12:40
वास्तु टिप्स :

शयनकक्ष में झाडू न रखें। तेल का कनस्तर, अँगीठी आदि न रखें। व्यर्थ की चिंता बनी रहेगी। यदि कष्ट हो रहा है तो तकिए के नीचे लाल चंदन रख कर सोएँ।

यदि दुकान में चोरी होती है तो दुकान की चौखट के पास पूजा करके मंगल यंत्र स्थापित करें।

दुकान में मन नहीं लगता तो श्वेत गणपति की मूर्ति विधिवत पूजा करके मुख्य द्वार के आगे और पीछे स्थापित करना चाहिए।

यदि दुकान का मुख्य द्वार अशुभ है या दक्षिण पश्चिम या दक्षिण दिशा में है तो ‘यमकीलक यंत्र' का पूजन करके स्थापना करें।

यदि सरकारी कर्मचारी द्वारा परेशान हैं तो सूर्य यंत्र की विधिवत पूजा करके दुकान में स्थापना करें।
Categories: Other Language Links

Lal Kitab Remedies

Mon, 01/21/2013 - 15:24
Lal Kitab Remedies
      Sun (Surya)
     
1.     Begin any important work after eating sweet and then drinking water.
2.     Do not accept anything in charity.
3.     Worship Lord Vishnu.
4.     Throw a copper coin in flowing water of a river.
5.     If there is marital discord or quarrels, put out fire with raw milk.

      Moon (Chandar)
     
1.     Get blessings of your mother by touching her feet.
2.     Receive some solid silver as gift from your mother.
3.     Do not get married at the age of 24.
4.     Do not do business dealing in milk and dairy products If moon is in Aries (Mesh) in your birth chart.
5.     If moon is in Scorpio (Vrishchak) in your birth chart, then keep some water in a bottle taken from cremation ground in your home. When water dries up, repeat the process.
6.     If moon is in Aquarius (Kumbha) in your horoscope then worship Lord Shiva. Chant the Mantra "Om Namah Shivaya."
7.     Keep a glass full of water near your head at night when you sleep. Next morning, pour it into the roots of an acacia (kikar) tree.

      Mars (Mangal)
     
1.     Keep fast on Tuesdays and donate vermillion (sindoor) to Lord Hanuman.
2.     Throw red lentil (masoor dal) or honey in the flowing waters of a river.
3.     Help your brother(s) from time to time. Do not annoy them.

      Mercury (Budha)
     
1.     Give green coloured bangles and clothes to eunuchs (hijras).
2.     Throw a copper coin  with a hole in it in a river.
3.     Feed cows with green fodder or grass.
4.     Donate a goat.
5.     Do not accept or wear talismans (tabij).
6.     Clean your teeth with alum (fitkari) daily.
7.     Have your nose pierced for 100 days.
8.     Wear copper coin in the neck.

      Jupiter (Guru)
     
1.     Eat  saffron (kesar).
2.     Apply saffron on your navel (nabhi) and tongue in the morning after sunrise and bathing.
3.     Apply saffron or turmeric paste on your forehead.
4.     Do not cut or get a ficus reliiosa (peepal) tree cut. Show respect to it.
5.     Put some saffron, some gold, some white grams, and turmeric in a yellow cloth. Tie it and give the small bundle in a holy place or temple.
6.     Give food to girls who are under nine.
7.     Wear solid gold in your neck.
8.     Do not keep large sized idols of gods and goddesses at home if Jupiter is in 7th house in your natal chart.
9.     Water a ficus religiosa (peepal ) tree for 43 days.

      Venus (Shukra)
     
1.     Throw a blue flower in dirty water or drain for 43 days.
2.     Use perfume, scent, cream, incense etc on Fridays.
3.     Worship goddess Lakshmi.
4.     Give curd, pure clarified butter (dhesi ghee) and camphor at holy place.
5.     Donate a cow in charity.

      Saturn (Shani)
     
1.     Feed crows for 43 days.
2.     Pour mustard oil or alcohol on the ground (soil) in the morning after sunrise for 43 days.
3.     Give baked bread (chapatis) with mustard oil applied on them to dogs and crows.
4.     Donate iron.

      (Dragon's Head)
     
1.     If suffering from the ill effects malefic Rahu then throw barley (jaun) or wheat (400 gms) in a river or canal (natural). (The water should be clean and flowing).
2.     Give cooked red lentil (red masoor pulses) to your sweeper and or help him in other ways.
3.     Donate radish.
4.     Throw raw coal (kacha koyala) in the river if facing a lot of difficulties and obstacles.
5.     Keep saunf or sugar in a red small bag under your pillow while sleeping.
6.     Keep a silver square plate with you.
7.     Bathe in sacred rivers or tanks.
8.     Eat in the kitchen when the kitchen fire is burning.

      (Dragon's Tail)
     
1.     Keep at home or feed a white and black dog (two colors only).
2.     Give 100 chapattis (baked bread) to dogs.
3.     Give / donate a cow (milk giving) and sesame seeds in charity.
4.     Apply saffron (kesar) on your forehead.
5.     Wear gold preferably in your ears.
6.     Give white and black blanket made of wool in a religous place  or temple.
7.     Ganesh pooja will be helpful.

Categories: Other Language Links

शिवजी के १७ मंत्र –

Mon, 01/21/2013 - 15:22
मासिक शिवरात्रि को शिवजी के १७ मंत्र – हर मासिक शिवरात्रि को सूर्यास्‍त के समय अपने घर में बैठकर अपने गुरुदेव का स्मरण करके
शिवजी का स्मरण करते करते ये 17 मंत्र बोलें । ‘जो शिव है वो गुरु है, जो गुरु है वो शिव है’
इसलिये गुरुदेव का स्मरण करते है । जिसकी गुरुदेव में दृढ़ भक्ति है वो गुरुदेव का स्मरण करते-करते मंत्र बोले |
आस-पास शिवजी का मंदिर तो जिनके सिर पर कर्जा ज्यादा हो वो शिवमंदिर जाकर दिया जलाकर ये १७ मंत्र बोले –

१) ॐ शिवाय नम:
२) ॐ सर्वात्मने नम:
३) ॐ त्रिनेत्राय नम:
४) ॐ हराय नम:
५) ॐ इन्द्र्मुखाय नम:
६) ॐ श्रीकंठाय नम:
७) ॐ सद्योजाताय नम:
८) ॐ वामदेवाय नम:
९) ॐ अघोरह्र्द्याय नम:
१०) ॐ तत्पुरुषाय नम:
११) ॐ ईशानाय नम:
१२) ॐ अनंतधर्माय नम:
१३) ॐ ज्ञानभूताय नम:
१४) ॐ अनंतवैराग्यसिंघाय नम:
१५) ॐ प्रधानाय नम:
१६) ॐ व्योमात्मने नम:
१७) ॐ युक्तकेशात्मरूपाय नम:


उक्‍त मंत्र बोलकर अपने इष्ट को, गुरु को प्रणाम करके यह शिव गायत्री मंत्र बोलें– ॐ तत्पुरुषाय विद्महे | महादेवाय धीमहि, तन्नो रूद्र प्रचोदयात् ||
जिनके सिर पर कर्जा है वो शिवजी को प्रणाम करते हुये ये १७ मंत्र बोले कि मेरे सिर से ये भार उतर जाये |
मैं निर्भार जीवन जी सकूं, भक्ति में आगे बढ़ सकूं| केवल समस्या को याद न करता रहूँ |



- Shri Sureshanandji
Categories: Other Language Links

बारह मंत्र

Tue, 01/15/2013 - 10:58
बारा महीनों के बारह मंत्र अलग-अलग होते है | सूर्य को जल तो देते है केवल ये मंत्र जोड़ देना है तो बाह्य जीवन की विप्पतियाँ दूर हो सकती है और साधना के मार्ग में आनेवाली विपत्तियाँ भी दूर हो सकती है क्योकि सूर्य भगवान स्वयं गुरुभक्त है । इन मंत्रों से अर्घ्य देकर प्रार्थना करना कि सूर्य भगवान आपकी अपने गुरु ब्रहस्पतिजी के प्रति भक्ति है ऐसी मेरी मेरे बापूजी के प्रति हो जाय | मेरी मेरे गुरुदेव के प्रति हो जाय | ऐसी मुझे सद्बुद्धि दो | बारह महीनों के बारह मंत्र सूर्य भगवान को जल देते समय बोलो –

मार्गशीर्ष मास का मंत्र - ॐ धाताय नम:

पौष मास का मंत्र – ॐ मित्राय नम:

माघ मास का मंत्र – ॐ अर्यमाय नम:

फाल्गुन मास का मंत्र – ॐ पुषाय नम:

चैत्र मास का मंत्र - ॐ शक्राय नम:

वैशाख मास का मंत्र – ॐ अन्शुमानाय नम:

ज्‍येष्ठ मास का मंत्र – ॐ वरुणाय नम:

आषाढ़ मास का मंत्र – ॐ भगाय नम:

श्रावण मास का मंत्र – ॐ त्वष्टाय नम:

भाद्रपद मास का मंत्र – ॐ विवश्वते नम:

आश्विन मास का मंत्र – ॐ सविताय नम:

कार्तिक मास का मंत्र – ॐ विष्णवे नम:
Categories: Other Language Links

Upaya

Tue, 12/25/2012 - 13:39
Plants and Herbs for Upaya

Traditionally plants and herbs have been used as an upaya in India to get rid of maladies caused by grah chal [planetary combinations].

While using a plant or a herb for upaya the following should be kept in mind:

[a] If you want to bring home a piece of a plant or a herb for any upaya, then you should go to that tree or the herb a day before and with folded hands you should invite it to your house. You should pray that “ O [herbs name] please come to my house and relieve me from the misery I am suffering” etc.

[b] Next day, you can go and take a piece of the plant or the herb home.

[c] Do not use an iron tool to cut the piece. You can use either a wooden tool or your hands to dig the roots etc.

[d] Before cutting the piece of the plant or the root, you should say loudly that any spirit inhabiting the plant should leave it for a while at least till the time you leave the place.

[e] After having procured the piece, seek forgiveness for having hurt the plant.

[f] The piece should be brought home on the day associated with the planet or the nakshatra.
Categories: Other Language Links

Dec19,2012

Thu, 12/13/2012 - 11:37
जिनके घर में चिंता, कष्ट और बीमारी ज्यादा है | भविष्य पुराण में आया ही की मार्गशीर्ष मास में शुक्ल पक्ष की सप्तमी माने 19th Dec' 2012 को बुधवार के दिन सुबह सूर्य भगवान को तिल के तेल का दीपक दिखाये अर्घ्य दे |  सूर्य भगवान को अर्घ्य दो तो इस भाव से – मन में एक बार स्मरण कर लेना की भगवत गीता में आपने कहाँ है – “ज्योति श्याम रविरंशुमान” ये ज्योतियों में सूर्य मै हूँ .... तो मेरा अर्घ्य स्वीकार करो | मेरा ये प्रणाम स्वीकार करे |
तो उस दिन १९ दिसम्बर को लोटे में चावल, तिल, कुंकुम, केसर डालकर अर्घ्य दे | केसर न हो तो ऐसे ही कुंकुम डाल दे अर्घ्य दे, तिल का दिया दिखा दे |
फिर घर में भोजन बने और सब खाये उसके पहले दही और चावल थाली में लेकर सूर्य भगवान को भोग लगाये और प्रार्थना करे हमारे घर में आपके लिए ये प्रसाद तैयार किया है ये नैवेद्य आप सूर्य भगवान स्वीकार करे और हमारे घर में सब प्रकार से आनंद छाया रहे, सब निरोग रहे, दीर्घायु बने | ऐसा करके उनको भोग लगाये और प्रसाद में थोडा-सा छ्त पर रख दे घर के लोग भी प्रसाद में दही-चावल खुद भी खा ले |

Special Yog to remove tension, pain and diseases :-

This applies to all those homes who are troubled with lot of tension, pain and diseases. It is mentioned in Bhavishaya Purana that on seventh day of Shukla paksha in Margshirsh month i.e. on 19th December 2012, wednesday, one should light a lamp from sesame oil for Lord Surya. Offer prayers to Sun Lord - saying it is mentioned in Bhagwad Gita - "Jyoti Shaam Ravivanshumaan" , I am Sun among all lights.... please accept my oblations and prayers.

On that day, take a small bowl of water with rice, sesame, kumkum and kesar, and offer it to Sun God. One can use only kumkum, if kesar is not available. Then, bow to Him while showing the sesame lamp.
Before meals are taken on that day, place a little curd and rice on the plate and offer them to Sun God, pray to Him asking to accept the prasad which has been prepared today at home for Him. May peace, happiness, health and longevity always reside in this home. Saying such, offer the oblations and then offer a little of the curd rice to all in the family. Also, keep some of that on your home terrace.
Categories: Other Language Links

Pages