संस्कृतजगत

Subscribe to संस्कृतजगत feed
गायन्ति देवा: किल गीतकानि धन्‍यास्‍तु ते भारतभूमिभागे । स्‍वर्गापवर्गास्‍पदमार्गभूते भवन्‍तु भूया: पुरुषा: सुरत्‍वात् ।।
Updated: 1 week 3 days ago

पंचमी विभक्ति : (अपादान कारकम्) - सम्‍पूर्णम् ।।

Sat, 03/26/2016 - 12:41

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
  1. पंचमी विभक्‍ते: - अपादान कारकम् (पंचमी विभक्ति:) ।।
  2. दूरान्तिकार्थेभ्‍यो द्वितीया च - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।
  3. करणेचस्‍तोकाल्‍पकृच्‍ .... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।
  4. पृथग्विनानानाभि:.... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।
  5. विभाषा गुणेSस्त्रियाम् - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।
  6. अकर्तर्यृणे .... पंचमीविभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।
  7. प्रतिनिधि प्रतिदान..... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)
  8. कर्मप्रवचनीयसंज्ञा - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।
  9. अपपरी वर्जने - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।
  10. अन्‍यार‍ादितरर्तेदिक् ... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारक) ।।
  11. यतश्‍चाध्‍व .... - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारक) ।।
  12. गम्‍यमानापि .... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।
  13. ल्‍यब्लोपे ...... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)
  14. भुव: प्रभव: - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)
  15. जनिकर्तु: प्रकृति: - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)
  16. आख्यातोपयोगे – पंचमी विभक्तिः (अपादान कारकम्) ।।
  17. अन्‍तर्धौ येनादर्शन..... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्)
  18. वारणार्थानामीप्सितः – पंचमी विभक्तिः ।।
  19. पराजेरसोढ: - पंचमी विभक्ति: ।।
  20. भीत्रार्थानां भयहेतु: - पंचमी विभक्ति: ।।
  21. जुगुप्‍साविराम.... पंचमी विभक्ति: ।।
  22. पंचमी विभक्ति: - अपादानकारकम् ।।
  इति
Categories: Sanskrit Blogs

पंचमी विभक्‍ते: - अपादान कारकम् (पंचमी विभक्ति:) ।।

Sat, 03/26/2016 - 12:22

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम् - पंचमी विभक्‍ते: ।।
  • ईयसुन अथवा तरप् प्रत्‍ययान्‍तविशेषणेन अथवा साधारणविशेषणेन उत क्रियया यस्‍मात् कस्‍यचित् वस्‍तो: तुलनात्‍मक-तारतम्‍यतां दर्शयते तस्मिन् पंचमी विभक्ति: भवति । किन्‍तु उभौ वस्‍तू भिन्‍न जाति, गुण, क्रिया, संज्ञां च धारयेताम् ।।
  • यत्र केनचित् वस्‍तुना अन्‍यवस्‍तुना सह तुलना क्रियते तत्र पंचमी विभक्ति: भवति ।
हिन्‍दी - 
  •  इयसुन अथवा तरप् प्रत्‍ययान्‍त विशेषण के द्वारा अथवा साधारण विशेषण या क्रिया के द्वारा जिससे किसी वस्‍तु की तुलनात्‍मक तारतम्‍यता दिखाई जाती है उसमें पंचमी विभक्ति होती है किन्‍तु दोनों वस्‍तुएँ भिन्‍न जाति, गुण, क्रिया तथा संज्ञा वाली होनी चाहिए ।
  • जहाँ किसी वस्‍तु से किसी अन्‍य वस्‍तु की तुलना की जाती है उसमें पंचमी विभक्ति होती है ।
उदाहरणम् -  
  • मौनात् सत्‍यं विशिष्‍यते - मौन से सत्‍य श्रेष्‍ठ है । 
  • माता स्‍वर्गा‍दपि श्रेष्‍ठा भवति - माता स्‍वर्ग से भी श्रेष्‍ठ होती है । 
  • गंगा यमुनाया: अति पवित्रा अस्ति - गंगा यमुना से बहुत पवित्र नदी है ।


इति
Categories: Sanskrit Blogs

दूरान्तिकार्थेभ्‍यो द्वितीया च - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

Fri, 03/18/2016 - 18:03

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम् - दूरान्तिकार्थेभ्‍यो द्वितीया च ।।2/3/35।।

दूरं समीपं च अर्थे द्वितीया विभक्ति: भवति, विकल्‍पेन पंचमी, तृतीया च विभक्तिरपि भवति ।

हिन्‍दी - दूर व समीप के अर्थ में द्वितीया विभक्ति होती है । विकल्‍प से पंचमी व तृतीया विभक्ति भी होती है ।

उदाहरणम् - 

ग्रामस्‍य दूरं दूरात् दूरेण वा 
गांव से दूर ।।
ग्रामात् अन्तिकम्, अन्तिकात् अन्तिकेन वा ।। 
गांव के समीप।।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

करणेचस्‍तोकाल्‍पकृच्‍ .... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

Thu, 03/17/2016 - 18:09

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम् - करणेचस्‍तोकाल्‍पकृच्‍छ्र-कतिपयस्‍यासत्‍ववचनस्‍य।। 2/3/33 ।।

स्‍तोकम् (थोडा), अल्‍पम् (कम), कृच्‍छ्र (कठिनाई), कतिपय(कुछ) चैतेषु चतुर्षुशब्‍देषु तृतीया पंचमी च उभौ विभक्‍ती भवत: यदि एते द्रव्‍यवाचका: न स्‍यु: करणरूपेण च प्रयुक्‍ता: स्‍यु: चेत् ।।

हिन्‍दी - स्‍तोक (थोडा), अल्‍प (कम), कृच्‍छ्र (कठिनाई), और कतिपय (कुछ) ये चारों शब्‍द यदि द्रव्‍यवाचक न हों तथा साधन के रूप में प्रयुक्‍त हों तब इनके योग में तृतीया तथा पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 

स्‍तोकेन स्‍तोकाद् वा मुक्‍त: । 
थोडे से प्रयास से ही छूट गया ।।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

पृथग्विनानानाभि:.... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

Tue, 03/15/2016 - 18:29

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम्-पृथग्विनानानाभिस्‍तृतीयाSन्‍यतरस्‍याम्।। 2/3/32

पृथक्, विना, नाना शब्‍दानां योगे विकल्‍पेन तृतीया भवति पक्षे तु पंचमी, द्वितीया च भवत: ।

हिन्‍दी - पृथक्, विना, और नाना शब्‍दों के योग में विकल्‍प से तृतीया विभक्ति होती है तथा पक्ष में पंचमी व द्वितीया विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् -  

पृथक् रामेण रामात् रामं वा । 
 राम से भिन्‍न ।।
 
इति
Categories: Sanskrit Blogs

विभाषा गुणेSस्त्रियाम् - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

Mon, 03/14/2016 - 18:57

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम् - विभाषा गुणेSस्त्रियाम् ।।

य: गुणवाचक: शब्‍द: हेतुरपि (कारणमपि) भवति अथ च स्‍त्रीलिंगे न स्‍यात् तस्‍य विकल्‍पेन पंचमी विभक्ति: भवति । पक्षे तु तृतीया विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - जो गुणवाचक शब्‍द स्‍वयं कारण भी हो तथा स्‍त्रीलिंग में न हो उससे विकल्‍प से पंचमी विभक्ति होती है तथा मुख्‍यत: तृतीया विभक्ति होती है ।।

उदाहरणम् - 

जाड्यात् जाड्येन वा बद्ध: ।
मूर्खता से (के कारण) बंध गया ।।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

अकर्तर्यृणे .... पंचमीविभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।

Wed, 03/09/2016 - 14:44

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम् - अकर्तर्यृणे पंचमी ।।2-3-24।।

ऋणात्‍मकशब्‍द: यदा स्‍वयं कर्ता अभूत्‍वा अन्‍यस्‍य कार्यस्‍य कारणं भवति चेत् तेन पंचमी विभक्ति: भवति।

हिन्‍दी - ऋणवाचक शब्‍द जब स्‍वयं कर्ता न होकर किसी कार्य का कारण होता है तब उससे पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 

शताद् बद्ध: ।
सौ रूपये ऋण के कारण बंधा है ।।


इति-
Categories: Sanskrit Blogs

प्रतिनिधि प्रतिदान..... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)

Tue, 03/08/2016 - 13:22

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम् - प्रति:प्रतिनिधिप्रतिदानयो:।।(1-4-12)
प्रतिनिधि, प्रतिदान (बदलना) च अर्थे प्रति इत्‍यस्‍य कर्मप्रवचनीय संज्ञा स्‍यात् ।।

हिन्‍दी - प्रति‍निधि और प्रतिदान (अर्थ) में प्रति की कर्मप्रवचनीय संज्ञा होती है ।

सूत्रम् - प्रतिनिधिप्रतिदाने च यस्‍मात् ।।(2-3-11)

यस्‍य प्रतिनिधि: भवति उत यस्‍मात् वस्‍तुप्रतिदानं क्रियते, तत्र उभयत्रापि विद्यमान-''प्रति'' शब्‍दस्‍य योगे पंचमी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 

(प्रतिनिध अर्थ में प्रति से पंचमी)
प्रद्युम्‍न: कृष्‍णात् प्रति ।
प्रद्युम्‍न कृष्‍ण के प्रतिनिधि हैं ।।

(बदलने के अर्थ में प्रति से पंचमी)
तिलेभ्‍य: प्रतियच्‍छति माषान् ।
तिलों से उडद बदलता है ।।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

कर्मप्रवचनीयसंज्ञा - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।

Fri, 03/04/2016 - 10:20

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); सूत्रम् - आड्. मर्यादावचने ।। (1/04/89)

मर्यादा (सीमा) अर्थे आड्. (आ) इत्‍यस्‍य कर्मप्रवचनीय संज्ञा भवति ।

हिन्‍दी - मर्यादा (सीमा) के अर्थ में आड्. (आ) की कर्मप्रवचनीय संज्ञा होती है ।

सूत्र - पंचम्‍यपाड्.परिभि: ।।(2/3/10)

अप, परि, आड्. (आ) इत्‍येतेभ्‍य: कर्मप्रवचनीयेभ्‍य: योगे पंचमीविभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - अप, परि, तथा आड्. कर्मप्रवचनीयों के योग में पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् -

(अप, परि में पंचमी)
अप हरे: संसार: ।
परि हरे: संसार: ।
हरि को छोडकर संसार है अर्थात् जहाँ हरि हैं वहाँ संसार का अस्तित्‍व नहीं है ।

(मर्यादा अर्थ में आ से पंचमी)
आमुक्‍ते: संसार: ।
मुक्ति तक या मुक्ति से पहले संसार है ।

(अभिविधि अर्थ में आ से पंचमी)
आसकलाद् ब्रह्म ।
ब्रह्म सर्वत्र व्‍याप्‍त है ।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

अपपरी वर्जने - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

Wed, 03/02/2016 - 15:24

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम् -अपपरी वर्जने ।।

वर्जन (छोडना, अतिरिक्‍त) अर्थेषु अप, परि च उपसर्गयो: कर्मप्रवचनीयसंज्ञा भवति ।

हिन्‍दी - वर्जन (छोडना, अतिरक्ति) अर्थ में अप तथा परि उपसर्गों की कर्मप्रवचनीय संज्ञा होती है ।


इति
Categories: Sanskrit Blogs

अन्‍यार‍ादितरर्तेदिक् ... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारक) ।।

Mon, 02/29/2016 - 09:04

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); सूत्रम् - अन्‍यारादितरर्तेदिक्शब्‍दाञ्चूत्‍तरपदाजाहियुक्‍ते
।।02/03/29।।

अन्‍य, आरात्, इतर, ऋते, दिशावचकशब्‍दा:, येषामुत्‍तरं अञ्च् धातु स्‍यात् तेषां, आच् (आ), आहि च प्रत्‍ययान्‍तशव्‍दानां योगे पंचमी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - अन्‍य, आरात्, इतर, ऋते, दिशावाचक शब्‍द, जिस शब्‍द के उत्‍तर पद में अञ्च् धातु है, तथा आच् (आ) और आहि प्रत्‍ययान्‍त शब्‍दों के योग में पंचमी होती है ।


 उदाहरण -

(अन्‍य और इतर के कारण पंचमी)
अन्‍यो भिन्‍न इतरो वा कृष्‍णात् ।।
कृष्‍ण से भिन्‍न ।।
(आरात् के कारण पंचमी)
आरात् वनात् ।।
वन से दूर ।।
(ऋते के कारण पंचमी)
ऋते कृष्‍णात् ।।
कृष्‍ण के बिना ।।
(दिशावाचक पूर्व के कारण पंचमी)
पूर्वो ग्रामात् ।।
गांव से पूर्व की ओर ।।
(कालवाचक पूर्व के कारण पंचमी)
चैत्रात् पूर्व: फाल्‍गुन:।।
चैत्र से पहले फागुन होता है ।।
(प्राक्, प्रत्‍यक् के योग में पंचमी) 
प्राक्,प्रत्‍यक् वा ग्रामात्।।
गांव से पूर्व या पश्चिम की ओर ।।
(दूर के अर्थ में आहि के कारण पंचमी)
दक्षिणाहि ग्रामात् ।।
गांव से दूर दक्षिण की ओर ।।
(प्रभृति और आरभ्‍य के योग में भवात् में पंचमी)
भवात् प्रभृति आरभ्‍य वा सेव्‍यो हरि: ।।
जन्‍म से ही हरि की सेवा करनी चाहिए ।।
(बहि: के कारण पंचमी)
ग्रामाद् बहि: ।।
गांव से बाहर ।।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

यतश्‍चाध्‍व .... - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारक) ।।

Sat, 02/27/2016 - 10:07

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
वार्तिकम् -यतश्‍चाध्‍वकालनिर्माणंतत्रपंचमी।।

यत् आधारं मत्‍वा मार्गस्‍य कालस्‍य वा परिमाण-मापनं क्रियते तस्‍य आधारसूचकशब्‍दस्‍य अपादानकारकं स्‍यात् तद‍नुसारं पंचमी विभक्ति: भवति ।।

हिन्‍दी - जिस को आधार मानकर मार्ग या काल की दूरी का निर्धारण किया जाता है उसकी अपादान संज्ञा तथा पंचमी विभक्ति होती है ।


इति
Categories: Sanskrit Blogs

संस्‍कृतजगत् ईशोधपत्रिका के अंग्रिम संस्‍करण के प्रकाशन की पूर्वसूचना व लेख आमन्‍त्रण ।।

Thu, 02/25/2016 - 09:00

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
:  सूचना  :
संस्‍कृतजगत् ईशोधपत्रिकाया: अग्रिमसंस्‍करणस्‍य प्रकाशनम् आगामिमासे भविष्‍यति । ये शोधछात्रा: आत्‍मन: शोधपत्रस्‍य प्रकाशनं वांछन्‍त: सन्ति ते शीघ्रातिशीघ्रं स्‍वशोधपत्रम् pramukh@sanskritjagat.com, pandey.aaanand@gmail.com
ईसंकेते प्रेषयेयु: । 

   शोधपत्रप्रेषणस्‍य अंतिमतिथि: 15 मार्च 2016 इति अस्ति । शोधपत्रं संप्रेष्‍य कृपया 9918858080 संख्‍यायां संदेशमाध्‍यमेन ह्वाट्सएप माध्‍यमेन वा सूचनीय: । सूचनया विना पत्रप्रकाशनं नैव भविष्‍यति ।

विशेष: - बहूनां छात्राणां निवेदनं प्राप्‍तं यत् संस्‍कृतजगत् ईपत्रिका तेभ्‍य: पुस्तिकारूपेण तेषां हस्‍ते देय: । तदर्थं संस्‍कृतजगत्  ईपत्रिकाया: सम्‍प्रति पार्थिवपुस्‍तकं (हार्डकॉपी) अपि निष्‍काष्‍यते । पार्थिवपुस्‍तकं प्राप्‍तुं भवन्‍त: प्रेषणव्‍यय: अतिरिक्‍तदेय: भविष्‍यति ।  छात्रा: ये पार्थिवपुस्‍तकं प्राप्‍तुमिच्‍छन्‍त: सन्ति ते पूर्वमेव सूचनीया: ।
धन्‍यवादा:

हिन्‍दी - संस्‍कृतजगत् ईशोधपत्रिका का अग्रिम संस्‍करण अगले महीने में प्रकाशित होने जा रहा है । जिन शोधछात्रों को अपने शोधपत्र प्रकाशित कराने हैं वे अपने शोधपत्र
pramukh@sanskritjagat.com, 
pandey.aaanand@gmail.com
ईसंकेतों पर भेज सकते हैं । शोधपत्रिका मार्च मास के अंत में प्रकाशित की जाएगी । शोधपत्र भेजने की अंतिम तिथि 15 मार्च 2016 है ।  कृपया अपना शोधपत्र भेजने के बाद हमें 9918858080 पर संदेश अथवा ह्वाट्सएप के माध्‍यम से सूचित करें । सूचना दिये बिना शोधपत्र प्रकाशित नहीं किये जाएँगे ।

विशेष - कई शोधछात्रों का निवेदन प्राप्‍त हुआ है संस्‍कृतजगत् शोधपत्रिका को पुस्तिका रूप में (हार्ड कापी) प्राप्‍त करने के सन्‍दर्भ में । इस पर विचार करते हुए समिति ने छात्रों की सुविधा के हेतु ईपत्रिका को पत्रिका के रूप में भी प्रस्‍तुत करने का विचार किया है । जिन छात्रों को पत्रिका की हार्ड कापी चाहिये वे इसकी सूचना प्रकाशन के पूर्व ही प्रदान करें । हार्ड कापी प्राप्‍त करने के लिये आपको प्रेषण व्‍यय अतिरिक्‍त देना पडेगा ।
किसी भी जानकारी के लिये हमें 9918858080, 9532991551 संख्‍याओं पर सम्‍पर्क कर सकते हैं ।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

गम्‍यमानापि .... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।

Sat, 02/20/2016 - 08:39

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
वार्तिकम् -  गम्‍यमानापि क्रिया कारकविभक्‍तीनां निमित्‍तम्।।

गम्‍यमान् (अवबोधक) क्रिया अपि कारकविभक्‍तयो: कारणं भवति ।

हिन्‍दी - गम्‍यमान अर्थात् किसी भी अनकही क्रिया का ज्ञान कराने वाली क्रिया भी कारक विभक्तियों का कारण होती है ।

उदाहरणम् - 
प्रश्‍न: - कस्‍मात् त्‍वम् 
प्रश्‍न - तुम कहाँ से आ रहे हो ।
उत्‍तरम् - विद्यालयात् ।
उत्‍तर - विद्यालय से ।

ज्ञेया-क्रिया 'आगत:' इत्‍यस्‍य आधारं स्‍वीकृत्‍य 'कस्‍मात्', 'नद्या:' च शब्‍दयो: पंचमी विभक्ति: जाता ।।
 
 
इति
Categories: Sanskrit Blogs

ल्‍यब्लोपे ...... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)

Sun, 02/14/2016 - 17:34

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); वार्तिकम्- ल्‍यब्लोपे कर्मण्‍यधिकरणे ।।

 ल्‍यप्, क्‍त्‍वा वा प्रत्‍ययान्‍तस्‍य अर्थगोपिते सति कर्मणि, आधारे च पंचमी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - ल्‍यप् या क्‍त्‍वा प्रत्‍ययान्‍त शब्‍द का अर्थ गुप्‍त रहने पर कर्म और आधार में पंचमी होती है।

उदाहरणम् - 
प्रासादात् प्रेक्षते (प्रासादम् आरुह्य प्रेक्षते)
महल पर चढकर देखता है (महल से देखता है) ।।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

भुव: प्रभव: - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)

Sat, 02/06/2016 - 08:48

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम् - भुव: प्रभव: ।।

भू धातो: उत्‍पत्तिस्‍थाने पंचमी विभक्ति: भवति । भू इत्‍यस्‍यार्थ: प्राकट्यं, उत्‍पत्ति: वा, प्रभव: इत्‍यस्‍यार्थ: उद्गमस्‍थानम्, उत्‍पत्तिस्‍थानं वा ।

हिन्‍दी - भू का अर्ध प्रकट होना, उत्‍पन्‍न होना, प्रभव इत्‍युक्‍ते उत्‍पत्तिस्‍थान, या उद्गमस्‍थान । इस तरह सूत्र का अर्थ हुआ भू धातु के उत्‍पत्ति स्‍थान में पंचमी विभक्ति होती है, अथवा किसी भी तत्‍व के उत्‍पत्ति दर्शाने हेतु जब भू धातु का प्रयोग किया जाए तो उत्‍पत्ति स्‍थान में पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 

गंगा हिमालयात् प्रभवति ।
गंगा हिमालय से निकलती है ।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

जनिकर्तु: प्रकृति: - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)

Fri, 02/05/2016 - 09:36

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम् - जनिकर्तु: प्रकृति: ।। 

जनि इत्‍युक्‍ते - जन्‍म, उत्‍पत्ति: वा । प्रकृति: इत्‍युक्‍ते कारणं, मूलं वा । चेत्  उत्‍पद्यमानस्‍य वस्‍तो: उत्‍पत्ते: मूलकारणे पंचमी विभक्ति: स्‍यात् ।

हिन्‍दी - जनि का अर्थ - जन्‍म या उत्‍पत्ति, तथा प्रकृति का तात्‍पर्य - मूल कारण या कारण से है । इस तरह उत्‍पन्‍न होने वाली वस्‍तु के उत्‍पत्ति के मूल कारण में पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 
ब्रह्मण: प्रजा: प्रजायन्‍ते ।
ब्रह्मा से प्रजाएं उत्‍पन्‍न होती हैं ।।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

आख्यातोपयोगे – पंचमी विभक्तिः (अपादान कारकम्) ।।

Sat, 01/30/2016 - 08:49

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); सूत्रम् – आख्यातोपयोगे ।।
नियमपूर्वकं विद्‍याग्रहणे अध्यापके‚ शिक्षके वा पंचमी विभक्तिः भवति । आख्याता इत्यर्थः वक्ता‚ उपदेष्टा‚ शिक्षकः‚ अध्यापकः वा । उपयोगस्यार्थः ब्रह्मचर्यादि नियमानां पालनेन सह विद्‍याध्ययनम् ।

हिन्दी – नियमपूर्वक विद्‍याग्रहण करने में अध्यापक या शिक्षक में पंचमी विभक्ति होती है ।  आख्याता का अर्थ है वक्ता‚ उपदेष्टा‚ शिक्षक या अध्यापक । उपयोग का अर्थ है – ब्रह्मचर्य आदि नियमों का पालन करते हुए विद्‍याध्ययन करना ।

उदाहरणम् – 

उपाध्यायाद् अधीते ।
गुरु से पढता है ।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

अन्‍तर्धौ येनादर्शन..... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्)

Fri, 01/29/2016 - 09:12

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); सूत्रम् - अन्‍तर्धौ येनादर्शनमिच्‍छति ।।

अन्‍तर्धि (छिपना, ओट में होना) अर्थे यस्‍मात् आत्‍मानं निमी‍लनमिच्‍छति तस्मिन् अपादानकारकं तदनुसारं पंचमी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - अन्‍तर्धि अर्थ में जिससे छिपने की इच्‍छा करता है उसमें अपादानकारक तदनुसार पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 
मातुर्निलीयते कृष्‍ण: ।
कृष्‍ण माता से छिपता है ।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

वारणार्थानामीप्सितः – पंचमी विभक्तिः ।।

Thu, 01/28/2016 - 08:50

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});
सूत्रम् – वारणार्थानामीप्सितः ।।

वारणार्थ (रोकना‚ हटाना) धातूनां प्रयोगे अभीष्ट वस्तौ पंचमीविभक्तिः भवति ।

हिन्दी – वारण अर्थवाली धातुओं के प्रयोग में इष्ट वस्तु में पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् – 
यवेभ्यो गां वारयति ।
जौ से गाय को हटाता है ।

इति
Categories: Sanskrit Blogs

Pages